Download Bhakti Bharat APP
Download APP Now - Hanuman Chalisa - Durga Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel -

हवन में आम की लकड़ी ही क्यों? (Why we use aam ki lakdi in hawan)

हवन में आम की लकड़ी ही क्यों प्रयोग होती है?
आर्य समाज अग्निहोत्र को जीवन का प्रधान कर्म मानता हैं महर्षि दयानंद से पूर्व भी यज्ञ प्रतिक्रियाएं चलती थीं। अग्निहोत्र को हवन के रूप में भी लिया जाता है, सनातन धर्म में हवन के बिना पूजा का कोई विधान नहीं है। हवन को 10 से 15 मिनट में भी किया जा सकता है। हवन कहीं भी साफ-शुद्ध जगह किया जा सकता है,हवन को सीमित साधनों से भी किया जा सकता है।
यज्ञ साधन
यज्ञ साधनों में संविदा, सामग्री, अग्नि, कपूर, गौ घी आदि घरेलू वस्तुएं प्रयोग मे लाई जातीं हैं। अतः हवन प्रेमी द्वारा सरलता से हवन किया जा सकता है।

यज्ञ लकड़ी
सामान्यतः! लकड़ी को लकड़ी ही कहा जाता है। स्थान विशेष पर उसके कार्य के अनुसार, उसका नाम बदल जाता है। वृक्ष से लेकर आरा मशीन पर वही लकड़ी पिंडी, वर्गा तथा चौखट, फिर वह ईंधन बन जाती है। वही लकड़ी कभी दांतोन तो कभी खूंटा बन जाती है। वही लकड़ी यज्ञशाला पर आकर संविदा कहलाती है। समिधा यानी अग्नि धन(+) संविदा या संविदा यानी यज्ञ लकड़ी।

प्रकृति ने अनेकों प्रकार की लकड़ी उपहार में भेंट किए हैं। किंतु यज्ञ में आम की लकड़ी का प्रयोग अति शुभ एवं हितकारी माना गया है।

आम की लकड़ी के अन्य विकल्प?
आम की लकड़ी की उपलब्धता पर शंका बनी रहती है, अतः ऋषियों ने शास्त्रों में दूध वाले पेड़ की लकड़ी को प्रयोग के लिए उपयोगी माना है। आम की जगह पीपल, बरगद एवं पखार आदि का प्रयोग किया जा सकता है, क्योंकि इन लकड़ियों के जलने के बाद सीधे राख ही बनती है। बिना दूध वाली लकड़ियाँ कोयला बनाती है, जो हवन के लिए शुभ नहीं है।

विशेषताएं
आम की लकड़ी कम मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड निकालने के कारण, अति ज्वलनशील होने के कारण तथा नम होने पर भी हाथ के पंखे से हवा करने पर भी जलने लगती है। जितना हो सके तो, पर्यावरण के अनुरूप आम की लकड़ी को ही यज्ञ भावना से प्रयोग में लाना चाहिए।

जब आम की लकड़ी जलती है तो फ़ॉर्मिक एल्डिहाइड नामक गैस उत्पन्न होती है। जो कि खतरनाक बैक्टीरिया और जीवाणुओं को मारती है, तथा वातावरण को शुद्ध करती है।

यदि आधे घंटे हवन में बैठा जाए अथवा हवन के धुएं से शरीर का सम्पर्क हो तो टाइफाइड जैसे खतरनाक रोग फैलाने वाले जीवाणु भी मर जाते हैं और शरीर शुद्ध हो जाता है।

यज्ञ की विशेषताएं
सिर्फ आम की लकड़ी, 1 किलो जलाने से हवा में मौजूद विषाणु बहुत कम नहीं हुए। पर जैसे ही उसके ऊपर आधा किलो हवन सामग्री डाल कर जलाया गया तो एक घंटे के भीतर ही कक्ष में मौजूद बैक्टीरिया का स्तर 95% कम हो गया।

यही नहीं कक्ष की हवा में मौजुद जीवाणुओं का परीक्षण करने पर पाया कि कक्ष के दरवाजे खोले जाने और सारा धुआं निकल जाने के 24 घंटे बाद भी जीवाणुओं का स्तर सामान्य से 86 प्रतिशत कम था।

एक रिपोर्ट के अनुसार हवन के द्वारा न सिर्फ मनुष्य बल्कि वनस्पतियों एवं फसलों को नुकसान पहुचाने वाले बैक्टीरिया का भी नाश होता है। जिससे फसलों में रासायनिक खाद का प्रयोग कम हो सकता है।

Why we use aam ki lakdi in hawan in English

There is no law of worship without havan in Sanatan Dharm. Havan can also be done in 10 to 15 minutes. Havan can be done anywhere in a clean and pure place, Havan can also be done with limited means.
यह भी जानें

Blogs Sanatan Dharm BlogsHawan Bidhi Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

ग्रीष्म संक्रांति | जून संक्रांति

ग्रीष्म संक्रांति तब होती है जब पृथ्वी का सूर्य की ओर झुकाव अधिकतम होता है। इसलिए, ग्रीष्म संक्रांति के दिन, सूर्य दोपहर की स्थिति के साथ अपनी उच्चतम ऊंचाई पर दिखाई देता है जो ग्रीष्म संक्रांति से पहले और बाद में कई दिनों तक बहुत कम बदलता है। 21 जून उत्तरी गोलार्ध में सबसे लंबा दिन होता है, तकनीकी रूप से इस दिन को ग्रीष्म संक्रांति कहा जाता है। ग्रीष्म संक्रांति के दौरान उत्तरी गोलार्ध में एक विशिष्ट क्षेत्र द्वारा प्राप्त प्रकाश की मात्रा उस स्थान के अक्षांशीय स्थान पर निर्भर करती है।

नेत्र उत्सव

नेत्रोत्सव रथ यात्रा से एक दिन पहले आयोजित किया जाता है।

स्नान यात्रा

स्नान यात्रा जो कि देवस्नान पूर्णिमा या स्नान पूर्णिमा नाम से भी जाना जाता है।

रुक्मिणी हरण एकादशी

रुक्मिणी हरण एक ऐसी घटना है जो मदनमोहन और रुक्मिणी के बीच विवाह का त्यौहार है। यह पुरी जगन्नाथ मंदिर, ओडिशा में एक भव्य त्योहार है। यह निर्जला एकादशी दिवस (ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी) के दौरान आती है।

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2024

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | ISKCON एकादशी कैलेंडर 2024

ज्योष्ठ माह 2024

पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में ज्योष्ठ माह वर्ष का तीसरा महीना होता है। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में ज्येष्ठ सूर्य के वृष राशि में प्रवेश के साथ शुरू होता है, और वैष्णव शास्त्र के अनुसार यह वर्ष का दूसरा महीना होता है।

जैन ध्वज क्या है?

जैन धर्म में जैन ध्वज महत्वपूर्ण है और इसके अनुयायियों के लिए एकता के प्रतीक के रूप में कार्य करता है। विभिन्न समारोहों के दौरान जैन ध्वज मंदिर के मुख्य शिखर के ऊपर फहराया जाता है।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP