Hanuman Chalisa

हिंदू पंचांग के अनुसार भद्रा क्या है? (What is Bhadra as per Hindu Panchang?)

धार्मिक दृष्टि से भद्रा भगवान शनि देव की बहन और सूर्य देव की पुत्री हैं। वह बहुत सुंदर थी लेकिन उसका स्वभाव बहुत कठोर था। सामान्य रूप से उसके स्वभाव को नियंत्रित करने के लिए, उसे पंचांग के एक प्रमुख भाग विषिष्करण के रूप में मान्यता दी गई थी। जब भी किसी शुभ और शुभ कार्य का शुभ मुहूर्त देखा जाता है तो उसमें भद्रा का विशेष रूप से ध्यान रखा जाता है और कोई भी शुभ कार्य भद्रा के समय को छोड़कर दूसरे मुहूर्त में किया जाता है।

भद्रा कब आती है और भद्रा की गणना कैसे की जाती है?
भद्रा महीने के एक पक्ष में चार बार दोहराई जाती है। उदाहरण के लिए, भाद्र शुक्ल पक्ष की अष्टमी और पूर्णिमा तिथि के पहले भाग में और भद्रा चतुर्थी और एकादशी तिथि के उत्तरार्ध में होती है। भद्रा कृष्ण पक्ष में तृतीया और दशमी तिथि के उत्तरार्ध में और सप्तमी और चतुर्दशी तिथि के पहले भाग में प्रबल होती है। जब पंचांग को ठीक किया जाता है तो भद्रा का अत्यधिक महत्व होता है।

भद्रा कितने घंटे की होती है?
भद्रा के मुख की 5 घाटियाँ होती हैं यानि 2 घंटे त्याग दी जाती हैं। किसी भी प्रकार के शुभ कार्य करना वर्जित है। पूंछ वाले हिस्से की 3 घाटियां यानी 1 घंटा 12 मिनट शुभ होती हैं।

कौन सा भद्रा शुभ है?
शुक्ल पक्ष की चतुर्थी और एकादशी और तृतीया को और कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि शुभ होती है।

भद्रा में क्या नहीं करना चाहिए?
ग्रंथों के अनुसार भद्रा में कई कार्य वर्जित माने गए हैं। जैसे मुंडन समारोह, गृह प्रारंभ, विवाह समारोह, गृह प्रवेश, रक्षाबंधन, शुभ यात्रा, नया व्यवसाय शुरू करना और सभी प्रकार के शुभ कार्य भद्रा में वर्जित माने गए हैं। भद्रा में किये गये शुभ कार्य अशुभ होते हैं।

भद्रा पूंछ और भद्र मुख को जानने की विधि
भद्रा मुख:
भाद्र मुख शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि के पंचम प्रहर की पंचम तिथि में होता है, अष्टमी तिथि के द्वितीय प्रहर का कुल मूल्य आदि, एकादशी के सप्तम प्रहर की प्रथम पांच घड़ी और शुक्ल पक्ष की पांच घड़ियों में भाद्र होता है। पूर्णिमा का चौथा प्रहर। एक मुँह है। इसी प्रकार कृष्ण पक्ष तृतीया के आठवें प्रहर में 5 घंटे के लिए भद्र मुख होता है, कृष्ण पक्ष की सप्तमी के तीसरे प्रहर में आदि में 5 घंटे में भद्र मुख होता है. इसी प्रकार कृष्ण पक्ष के दसवें दिन के छठे प्रहर में और चतुर्दशी तिथि के पहले प्रहर के पहले पांच घंटों में भाद्र मुख प्रबल होता है।

भद्रा पूंछ
शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि के आठवें प्रहर के अंत में दशम के बराबर 3 घड़ियां भाद्र पुच्छ कहलाती हैं। पूर्णिमा के तीसरे प्रहर की अंतिम तीन घाटियों में भद्रा पूंछ भी होती है।

कैसे बचाएं भद्रा के बुरे प्रभाव से:
ऐसा माना जाता है कि यदि कोई भद्रा के बुरे प्रभाव से खुद को बचाना चाहता है, तो उसे मन में बुलाना चाहिए और फिर सुबह उठकर भद्रा के 12 नामों का जाप करना चाहिए।
भद्रा के 12 नाम इस प्रकार हैं:
● धन्या
● दधि मुखी
● भद्र
● महामरी
● खराना
● कालरात्रि
● महारुद्र
● विष्टी
● कुलपुत्रिका
● भैरवी
● महाकाली
● असुरक्षयकारी

ऐसा माना जाता है कि यदि आप भद्रा का सम्मान करते हैं, तो उनके 12 नामों का पाठ करें; भद्रा काल में आपको कष्ट नहीं उठाना पड़ेगा। यह आपके जीवन को आसान बना देगा, और आप वह हासिल कर लेंगे जिसका आप लक्ष्य रखते हैं।

What is Bhadra as per Hindu Panchang? in English

Whenever the auspicious time of any auspicious and auspicious work is observed, special care is taken of Bhadra and any auspicious work is done in another Muhurta except the time of Bhadra.
यह भी जानें

Blogs Bhadra BlogsNakshatra BlogsIndian Astronomy BlogsTithi BlogsPanchang BlogsPaksha BlogsTithi Ganana BlogsShubh Muhurat BlogsBhadra Kaal Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अष्ट सिद्धि और नौ निधियों के दाता का क्या अर्थ है?

भगवान श्री राम के प्रिय भक्त प्रभु हनुमान जी को अष्ट सिद्धि और नौ निधि के दाता के रूप में जाना जाता है। हनुमान चालीसा की एक चौपाई भी है “अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता अस बर दीन जानकी माता”। अर्थात हनुमान जी की भक्ति से व्यक्ति के जीवन में आठ प्रकार की सिद्धियाँ और नौ प्रकार की निधियाँ प्राप्त होती हैं।

विजयदशमी स्पेशल

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2022 में 26 सितम्बर से प्रारंभ हो रही है। आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

मैसूर दशहरा

मैसूर दशहरा 10 दिनों तक चलने वाला त्योहार है जो बहुत ही धूमधाम के साथ मैसूर में मनाया जाता है | मैसूर दशहरा कैसे मनाया जाता है? | मैसूर दशहरा महोत्सव 2022 कब शुरू होगा

आयुध पूजा

आयुध पूजा बुराई पर अच्छाई की जीत और देवी दुर्गा द्वारा राक्षस महिषासुर के विनाश के उत्सव का प्रतीक है। इसे नवरात्रि उत्सव के हिस्से के रूप में मनाया जाता है। आयुध पूजा के लिए, देवी सरस्वती, पार्वती माता और लक्ष्मी देवी को पूजा जाता है। दक्षिण भारत में विश्वकर्मा पूजा के समान लोग अपने उपकरणों और शस्त्रों की पूजा करते हैं।

कोलकाता का दुर्गा पूजा समारोह

कोलकाता में दुर्गा पूजा उत्सव का माहौल कुछ अलग ही होता है। यहाँ की दुर्गा पूजा विश्व प्रसिद्ध है और इसे 2021 में मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की यूनेस्को की प्रतिनिधि सूची में भी शामिल किया गया था। हर साल, कोलकाता दुर्गा पूजा पंडालों में एक नई थीम लाता है, जो अपने तरीके से अद्वितीय और अभिनव हैं।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

Durga Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App