Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel
Chaitra Navratri Specials 2024 - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Shiv Chalisa -

💐भुवनेश्वरी जयंती - Bhuvaneshwari Jayanti

Bhuvaneshwari Jayanti Date: Sunday, 15 September 2024
Bhuvaneshwari Jayanti

भुवनेश्वरी जयंती भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी (12वें दिन) को मनाई जाती है। दस महाविद्याओं में से एक भुवनेश्वरी देवी को चौथे स्थान पर रखा गया है। यह देवी के अवतार आदि शक्ति का रूप है, जो शक्ति का आधार है। इसे ओम शक्ति भी कहा जाता है। भुवनेश्वरी देवी को प्रकृति की माता माना जाता है, जो सभी प्रकृति की देखभाल करती हैं। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार वर्ष 2022 में भुवनेश्वरी जयंती 7 सितंबर को मनाई जाएगी।

भुवनेश्वरी देवी का स्वरूप
भुवनेश्वरी देवी का एक मुख, 3 आंखें और चार हाथ हैं। जिसमें से दो हाथ वरद मुद्रा और अंकुश मुद्रा भक्तों की रक्षा और आशीर्वाद करते हैं, जबकि अन्य दो हाथ पाश मुद्रा और अभय मुद्रा राक्षसों और राक्षसों को मारते हैं। गायत्री मंत्र में भुवनेश्वरी देवी का विशेष स्थान है। वह सर्वोच्च शक्ति का प्रतीक है। उसके शरीर का रंग सांवला है, उसके नाखून पूरे ब्रह्मांड को दर्शाते हैं। उसने चंद्रमा को मुकुट के रूप में धारण किया है। वह सभी देवी में सर्वश्रेष्ठ मानी जाती हैं, जिन्होंने पूरी पृथ्वी का निर्माण किया और राक्षस शक्तियों का वध किया। जो इस देवी शक्ति की पूजा करता है, उसे शक्ति, बुद्धि और धन की प्राप्ति होती है।

भुवनेश्वरी जयंती की पूजा विधि
भुवनेश्वरी देवी की पूजा मुख्य रूप से ग्रहण (ग्रहण), होली, दिवाली, महाशिवरात्रि, कृष्ण पक्ष और अष्टमी के दिनों में की जाती है। भुवनेश्वरी जयंती के दिन तांत्रिक साधकों द्वारा भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। कार्यक्रम इन चरणों में होता है -

1. गुरु वंदना
2. गुरु पूजा
3. गाय पूजा
4. देवी का अभिषेक
5. पुष्प भेंट
6. माता का श्रृंगार और श्रृंगार
7. गणेश और नवग्रह की पूजा
8. कॉल और होम
9. श्री भुवनेश्वरी मूल मंत्र, संपूत पथ और महा पूजन यज्ञ
10. पूर्णाहुति
11. दीप दान
12. प्रसाद वितरण

⦿ भक्तों को घर पर या छोटे रूप में पूजा के लिए देवी के सामने लाल फूल, चावल, चंदन और रुद्राक्ष अर्पित करना चाहिए।
⦿ इस दिन कन्या भोज का भी मुख्य प्रावधान है।
⦿ दस वर्ष से कम उम्र की कन्या को भुवनेश्वरी का एक रूप माना जाता है। इन कन्याओं के पैर धोकर पूजा की जाती है, फिर उन्हें भोजन कराया जाता है। इसके बाद उन्हें कपड़े और अन्य उपहार दिए जाते हैं।

भुवनेश्वरी जयंती का महत्व
कहा जाता है कि भुवनेश्वरी जयंती के दिन देवी स्वयं धरती पर आती हैं। भुवनेश्वरी का अर्थ है पूरे ब्रह्मांड की रानी। उनके बीज मंत्र से सृष्टि की रचना हुई। उन्हें राजेश्वरी परम्बा के नाम से भी जाना जाता है। भुवनेश्वरी देवी बहुत ही सौम्य स्वभाव की हैं, जो अपने हर एक भक्त के प्रति सहानुभूति रखती हैं। यह अपने भक्तों को ज्ञान और ज्ञान देता है, साथ ही उन्हें मोक्ष प्राप्त करने में मदद करता है।

भारत में विभिन्न भुवनेश्वरी मंदिर
❀ पुदुक्कोथाई, तमिलनाडु में देवी भुवनेश्वरी।
❀ पुरी, उड़ीसा में जगन्नाथ मंदिर के अंदर माता भुवनेश्वरी। वहां देवी सुभद्रा को भुवनेश्वरी के रूप में पूजा जाता है।
❀ कटक में कटक चंडी मंदिर।
❀ गुजरात के गोंडल में भुवनेश्वरी माता।
❀ गुवाहाटी में कामाख्या मंदिर।
❀ दक्षिण भारत में वेल्लाकुलंगरा के पास चुरक्कोडु में भुवनेश्वरी अम्मा।
❀ कृष्ण की नगरी मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि के सामने भुवनेश्वरी महाविद्या।
❀ महाराष्ट्र के सांगली जिले में श्री क्षेत्र औदुम्बर।

शुरुआत तिथिभाद्रपद शुक्ल द्वादशी

Bhuvaneshwari Jayanti in English

Bhuvaneshwari Jayanti is celebrated on the Dwadashi (12th day) of the Shukla Paksha of Bhadrapada month.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
4 September 202523 September 202612 September 2027
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
शुरुआत तिथि
भाद्रपद शुक्ल द्वादशी
पिछले त्यौहार
26 September 2023, 7 September 2022
अगर आपको यह त्योहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस त्योहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP