🤫मौनी अमावस्या - Mauni Amavasya

Mauni Amavasya Date: Tuesday, 1 February 2022

मौनी शब्द मौन से उत्पन्न हुआ है यानी इस दिन मौन रहकर व्रत करना चाहिए। मौनी अमावस्या के दिन मौन व्रत धारण कर मन को संयमित करके काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि से दूर रखना चाहिए।

मान्यताओं के अनुसार इस दिन पवित्र संगम में देवताओं का निवास होता है इसलिए इस दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है।

प्रयागराज कुंभ मेले के दौरान, मौनी अमावस्या सबसे महत्वपूर्ण स्नान दिवस में से एक है, और इसे अमृत योग के दिन और कुंभ पर्व के दिन के रूप में जाना जाता है।

मान्यता है कि इसी दिन जैन संप्रदाय के प्रथम तीर्थंकार ऋषभ देव ने अपनी लंबी तपस्या का मौन व्रत तोड़ा था और संगम के पवित्र जल में स्नान किया था।

संबंधित अन्य नाम
माघी अमावस्या

Mauni Amavasya in English

By keeping the silence fast on the Mauni Amavasya, the mind should be kept away from work, anger, greed, attachment etc.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
21 January 20239 February 2024
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
माघ कृष्णा अमावस्या
समाप्ति तिथि
माघ कृष्णा अमावस्या
महीना
जनवरी / फरवरी
कारण
To Porify Our Maan
उत्सव विधि
Silence Fast, Ganga Shnan, River Bath, Daan, Donations, Bhajan, Kirtan
महत्वपूर्ण जगह
Kumbh, Prayagrag, Ganga Ghat, Rivers.
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मंदिर

Download BhaktiBharat App