🌳वट सावित्री व्रत - Vat Savitri Vrat

Vat Savitri Vrat Date: 10 June 2021
हिंदू विवाहित महिलाएं जिनके पति जीवित हैं, अपने सास-ससुर एवं पति की लम्बी उम्र के लिए वट सावित्री व्रत को मानतीं हैं.

हिंदू विवाहित महिलाएं जिनके पति जीवित हैं, अपने सास-ससुर एवं पति की लम्बी उम्र के लिए वट सावित्री व्रत को मानतीं हैं। उत्तर भारत जैसे पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश एवं उड़ीसा राज्य मे वट सावित्री व्रत ज्येष्ठ कृष्णा अमावस्‍या को मनाया जाता है।

जबकि महाराष्ट्र, गुजरात और दक्षिणी भारतीय राज्यों में विवाहित महिलाएं उत्तर भारतीयों की तुलना में 15 दिन बाद अर्थात ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा को समान रीति से वट सावित्री व्रत मानतीं हैं।

सावित्री व्रत कथा के अनुसार वट वृक्ष के नीचे ही उनके सास-ससुर को दिव्य ज्योति, छिना हुआ राज्य तथा वहीं उसके मृत पति के शरीर में प्राण वापस आए थे। पुराणों के अनुसार, वट वृक्ष में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का वास है। इसके नीचे बैठकर पूजन, व्रत कथा आदि सुनने से मनोकामना पूरी होती है। भगवान बुद्ध को इसी वृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ था। अतः वट वृक्ष को ज्ञान, निर्वाण व दीर्घायु का पूरक माना गया है।

सावित्री को भारतीय संस्कृति में आदर्श नारीत्व व सौभाय पतिव्रता के लिए ऐतिहासिक चरित्र माना जाता है। सावित्री का अर्थ वेद माता गायत्री और सरस्वती भी होता है। वट वृक्ष का पूजन और सावित्री-सत्यवान की कथा का स्मरण करने के विधान के कारण ही यह व्रत वट सावित्री के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

महिलाएँ व्रत-पूजन कर कथा कर्म के साथ-साथ वट वृक्ष के आसपास सूत के धागे परिक्रमा के दौरान लपेटती हैं, जिसे रक्षा कहा जाता है। साथ ही पूजन के बाद अपने पति को रोली और अक्षत लगाकर चरणस्पर्श कर प्रसाद मिष्ठान वितरित करतीं हैं। अंततः पतिव्रता सावित्री के अनुरूप ही, अपने सास-ससुर का उचित पूजन अवश्य करें।

संबंधित अन्य नाम
वट सावित्री अमावस्या, बड़ अमावस, बड़ पूजन अमावस्या, वट अमावस्या, सावित्री अमावस्या

Vat Savitri Vrat in English

Married Hindu women whose husbands are alive celebrate Vat Savitri Vrat to pray for their Parents-in-Law and husband for a long life.

जानें वट सावित्री व्रत कथा!

भद्र देश के एक राजा थे, जिनका नाम अश्वपति था। भद्र देश के राजा अश्वपति के कोई संतान न थी। उन्होंने संतान की प्राप्ति के लिए मंत्रोच्चारण के साथ प्रतिदिन एक लाख आहुतियाँ दीं। अठारह वर्षों तक यह क्रम जारी रहा। इसके बाद सावित्रीदेवी ने प्रकट होकर वर दिया कि राजन तुझे एक तेजस्वी कन्या पैदा होगी। सावित्रीदेवी की कृपा से जन्म लेने की वजह से कन्या का नाम सावित्री रखा गया। आगे पढ़े

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
30 May 202219 May 2023
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
ज्येष्ठ कृष्णा अमावस्‍या (उत्तर भारत) / ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा (दक्षिण भारत)
समाप्ति तिथि
ज्येष्ठ कृष्णा अमावस्‍या (उत्तर भारत) / ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा (दक्षिण भारत)
महीना
मई / जून
कारण
पति की लंबी उम्र हेतु।
उत्सव विधि
व्रत, दान, पूजा।
महत्वपूर्ण जगह
उत्तर भारत के घरों मे।
पिछले त्यौहार
22 May 2020
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

🔝