भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

माँ मनसा देवी मंदिर


updated: Feb 12, 2019 23:54 PM About | Timing | Highlights | History | Photo Gallery


माँ मनसा देवी मंदिर () - Rawan urf Baragoan Khekra Badagaon Uttar Pradesh

माँ मनसा देवी मंदिर में माँ की शक्ति लंकापति रावण द्वारा स्थापित की गई थी। इस गांव की स्थापना रावण ने की थी। इसीलिए इस गांव का नाम रावण उर्फ बड़ा गांव है। रावण का बसाया गांव होने के कारण इस गांव में दशहरे पर रावण का पुतला नहीं फूंका जाता। इतिहासकार भी मान रहे हैं कि बड़ा गांव से महाभारत और रामायण काल का गहरा नाता है।

मान्यता है कि रावण हिमालय से तपस्या कर वापस लौट रहे थे। उनके साथ देवी शक्ति भी थी। यह देवी शक्ति उन्हें तपस्या से प्रसन्न होकर वरदान में मिली थी। वरदान देते समय शर्त थी कि देवी की शक्ति को रावण कहीं बीच में नहीं रखेंगे। यदि उन्होंने शक्ति को बीच में कहीं रख दिया तो यह शक्ति उसी स्थान पर स्थापित हो जाएगी। रावण को जब इस स्थान पर आकर लघुशंका लगी तो उसने वहां से जा रहे एक ग्रामीण को देवी शक्ति पकड़ा दी। ग्रामीण के हाथों में देवी शक्ति जाते ही वह उसी स्थान पर स्थापित हो गई। रावण ने लाख जतन किए देवी शक्ति वहां से उठाकर अपने साथ ले जाने के लिए, लेकिन कामयाब नहीं हो सका। बाद में इसी स्थान पर मां मंशा देवी का मंदिर स्थापित कर दिया गया।

पुजारी श्री राम शंकर तिवारी जी के अनुसार, यह शक्ति सिद्ध पीठ होने के कारण, यहाँ सच्चे मन और निस्वार्थ भाव से मांगी गई मनोकामना मां जरूर पूरी करती हैं। मंशा देवी सिद्ध पीठ में नवरात्रि पर विशेष पूजा अर्चना की जाती है।

सिद्ध पीठ मंदिर में भगवान विष्णु की दशावतार मूर्ति स्थापित है। इतिहासकार केके शर्मा का कहना है कि यहां जो मूर्ति है वह सातवीं शताब्दी की है। इसके अलावा मंदिर में प्राचीन स्तंभ हैं, जिन पर बनी मूर्ति अजंता अलोरा जैसी हैं। पुरातत्व की दृष्टि से भी मंदिर बड़ा महत्व रखता है।

मुख्य आकर्षण

  • लंकापति श्री रावण द्वारा स्थापित शक्ति पीठ।
  • 7 वीं शताब्दी से भगवान विष्णु की दशावतार मूर्ति।
  • मंदिर का प्राचीन गर्वग्रह हैं (आज-कल बंद है)
  • मंदिर एक पुरातात्विक स्थल के रूप में घोषित किया गया।

समय सारिणी

दर्शन समय
5:00 AM - 7:00 PM

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Available in English - Maa Mansa Devi Mandir
Maa Shakti in Maa Mansa Devi Mandir established by Lankapati Ravan. This village was also founded by Ravana, Thats why the name of this village is Ravan alias Badagaon near Barnawa in same district Baghpat.

जानकारियां

धाम
Shivling with GanShri GaneshMaa SherawaliShri BrahmajiShri Radha krishnaShri Ram PariwarLord HanumanjiMaa Mansa DeviAkhand JyotiDashavatar Bhagwan VishnuAkhand DhunaMaa TulasiPeepal TreeBanyan TreeBanana Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water Coolar, Power Backup, Shoe Store, Childrens Park, Free Parking, Washroom
संस्थापक
श्री लंकापति रावण
समर्पित
माँ मनसा देवी
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध

Satyug

लंकापति श्री रावण द्वारा स्थापित शक्ति पीठ।

1989

श्री बालाजी मंदिर का उद्घाटन 1989 में हुआ।

23 September 1996

श्री राम दरबार का उद्घाटन त्यागी परिवार ने किया।

19 April 2005

2005 में मुख्य द्वार की नींव रखने की रस्म।

25 September 2009

श्री राधा कृष्ण मंदिर का उद्घाटन आश्विन शुक्ल सप्तमी को हुआ।

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Eastern Peripheral Expressway >> Badagaon Tyagi Road
पता
Rawan urf Baragoan Khekra Badagaon Uttar Pradesh
निर्देशांक
28.87497°N, 77.328991°E
माँ मनसा देवी मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/mansa-devi-mandir-badagaon

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

close this ads
^
top