भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

जायमई माता मंदिर


updated: Feb 11, 2019 22:35 PM About | Timing | Highlights | Photo Gallery


जायमई माता मंदिर () - Jaimai Sirsaganj Uttar Pradesh

माता की कला के रूप में स्थापित जायमई वाली माता का प्रसिद्ध मंदिर, दिलीप महाराज द्वारा 1000 साल पुरानी सिद्ध माता को जाग्रत करने का शुभ कार्य किया। माँ की सिद्धपीठ होने के कारण भक्तगण अपनी मनोकामना पूर्ण होने पर अपनी सुविधा एवं सामर्थ्य के अनुसार मंदिर पर झंडा / नेजा और चुनरी चढ़ाते है।

यहाँ माता जायमई गाँव की रक्षक देवी के रूप में विराजमान हैं। साल 2018 में ही मंदिर पर आकाशी विजली गिरने से मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त हो गया था। गाँव वासियों का मानना है कि माता रानी ने गाँव वासियों की रक्षा हेतु ही आकाशी विजली का वार खुद के उपर सहन कर लिया।

मुख्य आकर्षण

  • मंदिर में माँ भगवती कला रूप में विराजमान हैं।
  • गाँव की रक्षक देवी के रूप में विराजमान।

समय सारिणी

दर्शन समय
4:00 AM - 12:00 PM, 3:00 - 8:00 PM

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Available in English - Jaimai Mata Mandir
The famous Jaimail Mata Mandir established in the form of Kala, Dilip Maharaj did an auspicious work to awaken the 1000 year old siddha shakti.

जानकारियां

धाम
YagyashalaMaa TulsiPeepal TreeBanana TreeVat Vriksh
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Hand Pump, Solar Panel, Sitting Benches, Well, Garden
समर्पित
माता सती
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

कैसे पहुचें
सड़क/मार्ग: Agra - Lucknow Expressway >> Jaimai Main Road
रेलवे: Balrai, Jaswantnagar, Etawah
पता
Jaimai Sirsaganj Uttar Pradesh
निर्देशांक
27.00939°N, 78.709729°E
जायमई माता मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/mata-mandir-jaimai

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री शिव, शंकर, भोलेनाथ

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली

ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली, ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली।...

आरती: माँ सरस्वती जी

जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सदगुण वैभव शालिनी, त्रिभुवन विख्याता॥

close this ads
^
top