Hanuman Chalisa

भगवान श्री वाल्मीकि आश्रम - Bhagwan Shri Valmiki Ashram

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • Famous Valmiki Ashram of Chanakyapuri Delhi.
  • Handled by Valmiki Akhara Parishad.

भगवान श्री वाल्मीकि आश्रम (Bhagwan Shri Valmiki Ashram) नेहरू पार्क के बड़े परिसर में अखिल भारतीय वाल्मीकि साधु अखाड़ा परिषद की आध्यात्मिक सभा है। वाल्मीकि आश्रम प्रसिद्ध श्री बटुक भैरव मंदिर के पास स्थित है।

प्रचलित नाम: Shri Valmiki Ashram

समय - Timings

त्यौहार

Bhagwan Shri Valmiki Ashram in English

भगवान श्री वाल्मीकि आश्रम (Bhagwan Shri Valmiki Ashram) is the spiritual assembly of Akhil Bhartiya Valmiki Sadhu Akhara Parishad in the large premises of Nehru Park. Valmiki Ashram is situated nearby the famous Shri Batuk Bhairav ​​Temple.

जानकारियां - Information

धाम
Shri HanumanShri Ram DarwarSatsang HallMaa TulsiPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Drinking Water, Shose Store, Sitting Benches
संस्थापक
Swargiy Shri Shri 1008 Shri Rishi Baba Fakkad Nath Maharaj
देख-रेख संस्था
Akhil Bhartiya Valmiki Sadhu Akhara Parishad
समर्पित
Maharishi Valmiki
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Nehru Park, Chanakyapuri New Delhi - 110021 Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Panchsheel Marg / Africa Ave >> Vinay Marg
सोशल मीडिया
निर्देशांक 🌐
28.590204°N, 77.193975°E
भगवान श्री वाल्मीकि आश्रम गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/valmiki-ashram-nehru-park

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी - आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

सन्तोषी माता आरती

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता..

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App