प्राचीन श्री बटुक भैरव मंदिर - Prachin Shri Batuk Bhairav Mandir

सूचना: 🦠COVID-19 के प्रसार की रोकथाम हेतु देशव्यापी लाक-डाउन किया गया है। अतः सभी मंदिर भक्तों के दर्शन के लिए बंद किए गये हैं, परंतु मंदिर की सभी पूजाएँ, मंदिर के पुजारियों द्वारा विधिवत चलाई जराहीं हैं। भारत सरकार के अगले आदेश आने तक, मंदिर की सभी पूजाएँ और अन्य कार्यक्रम भक्तों के लिए निर्देशित नहीं हैं। घर मे रहें, और सुरक्षित रहें। 🧴🤲

प्राचीन श्री बटुक भैरव मंदिर पांडवों द्वारा बनाए गये मंदिरों मे सर्व प्रथम है। जिनके बिग्रह मे भैरव बाबा का चेहरा और दो बड़ी-बड़ी आँखों के साथ बाबा का त्रिशूल दिखाई पड़ता है।

पौराणिक कथा:
पांडवों ने अपने किले की सुरक्षा हेतु कई बार यज्ञ का आयोजन किया था। लेकिन राक्षस यज्ञ को बार-बार भंग कर दिया करते थे, तब भगवान श्रीकृष्ण ने सुझाव दिया कि किले की सुरक्षा हेतु भगवान भैरव को किले में स्थिपित करें। काशी जाकर, भीम ने बाबा की अराधना की और बाबा को इन्द्रप्रथ चलने का आग्रह किया।

बाबा ने भीम से कहा, जहां भी उन्हें पहले रख देगें वे वही विराजमान हो जाएंगे। भीम बाबा को कंधे पर बिठा कर इन्द्रप्रथ के लिए चल दिए, रास्ते मे किसी कारणवश भीम को बाबा भैरव को किसी मुसाफिर को थोड़ी देर के लिए देना पड़ा। लेकिन वह मुसाफिर भीम के आने का इंतजार किए बगैर भैरव जी को कुएँ के किनारे पर बैठाकर चला गया। भीम जब लौटकर आए तो उन्होने भैरव जी को उठाने की बहुत कोशिश की पर सफल नहीं हुए। भीम ने पुनः आग्रह किया और कहां की मैं अपने भाईयों को वचन दे कर आया हूँ।

भीम के प्रार्थना करने पर, भैरव बाबा ने उनको अपनी जटाएं दी, और कहा की इन जटाओं को अपने किले के पास स्थापित कर देना, संकट के समय ये जटाएं किलकारी करेंगी और मैं तुम्हारी रक्षा के लिए आ जाउंगा। वही मंदिर आज श्री किलकारी बाबा भैरव नाथ जी मंदिर के नाम से जाना जाता है।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • पांडवों द्वारा निर्मित पहला भैरव मंदिर।
  • महाभारत काल से दिल्ली का सबसे पुराना मंदिर।

समय - Timings

दर्शन समय
Sunday: 6:00 AM - 9:30 PM; Tuesday: 6:00 AM - 10:00 PM; Other Days: 6:00 AM - 12:00 PM, 4:00 - 9:30 PM

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Temple is surrounded with the lot of greenery, therefore it is difficult to see temple`s shikhar from roadside.

Temple is surrounded with the lot of greenery, therefore it is difficult to see temple`s shikhar from roadside.

Baba Batuknath offered jalebi by devotees. Only head of Shri Bhairav is shown as Murti.

Baba Batuknath offered jalebi by devotees. Only head of Shri Bhairav is shown as Murti.

Shikhar pic is taken from Nehru Park, in Red, orange and white theme.

Shikhar pic is taken from Nehru Park, in Red, orange and white theme.

Prachin Shri Batuk Bhairav Mandir in English

Prachin Shri Batuk Bhairav Mandir is the first temples built by the Pandavas. Bhairav Baba murti illuminated with His face, two big eyes and Trishul.

जानकारियां - Information

मंत्र
ॐ बं बटुकाय नमः॥
धाम
Shri Sinduri HanumanShivling with GanMaa DurgaAkhand JyotiYagyashalaMaa TulsiPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Shose Store, Sitting Benches
संस्थापक
पांडव
स्थापना
महाभारत के समय से
देख-रेख संस्था
श्री बटुक भैरव शक्ति पीठ ट्रस्ट
समर्पित
बाबा भैरव
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Nehru Park, Chanakyapuri Chanakyapuri New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Panchsheel Marg / Africa Ave >> Vinay Marg
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.592101°N, 77.194626°E
प्राचीन श्री बटुक भैरव मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/batuk-bhairav-mandir

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री गंगा मैया जी

ॐ जय गंगे माता श्री जय गंगे माता। जो नर तुमको ध्याता मनवांछित फल पाता॥ हर हर गंगे, जय माँ गंगे...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

🔝