close this ads

भजन: वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे...


वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे।
पर दुःखे उपकार करे तो ये, मन अभिमान न आणे रे॥
वैष्णव जन तो तेने कहिये...

सकळ लोकमां सहुने वंदे, निंदा न करे केनी रे।
वाच काछ मन निश्चळ राखे, धन धन जननी तेनी रे॥
वैष्णव जन तो तेने कहिये...

समदृष्टि ने तृष्णा त्यागी, परस्त्री जेने मात रे।
जिह्वा थकी असत्य न बोले, परधन नव झाले हाथ रे॥
वैष्णव जन तो तेने कहिये...

मोह माया व्यापे नहि जेने, दृढ़ वैराग्य जेना मनमां रे।
रामनाम शुं ताळी रे लागी, सकळ तीरथ तेना तनमां रे॥
वैष्णव जन तो तेने कहिये...

वणलोभी ने कपटरहित छे, काम क्रोध निवार्या रे।
भणे नरसैयॊ तेनुं दरसन करतां, कुळ एकोतेर तार्या रे॥
वैष्णव जन तो तेने कहिये...

Read Also:
» भजन: शरण में आये हैं हम तुम्हारी | तू प्यार का सागर है.. | वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे.. | क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी! | सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को...

Hindi Version in English

Vaishnav Jan To, Tene Kahiye Je, Peed Paraaye Jaane Re।
Par Dukkhe Upkaar Kare Toye, Man Abhiman Na Anne Re॥
Vaishnav Jan To, Tene Kahiye...

Sakal Lok Maan Sahune Vandhe, Ninda Na Kare Kainee Re।
Baach Kaachh, Man Nischal Raakhe, Dhan-Dhan Jananee Tainee Re॥
Vaishnav Jan To, Tene Kahiye...

Samdrishtine Trishna Tyaagi, Par-Stree Jene Maat Re।
Jivha Thaki Asatya Na Bole, Par-Dhan Nav Jhale Haath Re॥
Vaishnav Jan To, Tene Kahiye...

Moha-Maaya Vyaape Nahi Jene, Dridh Vairaagya Jena Man Maan Re।
Ram-Naam-Shoon Taali Laagi, Sakal Tirath Tena Tan Ma Re॥
Vaishnav Jan To, Tene Kahiye...

Vanlobhi Ne Kapat Rahit Chhe, Kaam-Krodh Nivaarya Re।
Bhane Narsaiyyo Tenu Darshan Karta, Kul Ekoter Taarya Re॥
Vaishnav Jan To, Tene Kahiye...

BhajanShri Vishnu BhajanShri Ram BhajanShri Krishna Bhajan


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

ऐसे मेरे मन में विराजिये!

ऐसे मेरे मन में विराजिये, कि मै भूल जाऊं काम धाम, गाऊं बस तेरा नाम...

जैसे तुम सीता के राम...

जैसे तुम सीता के राम, जैसे लक्ष्मण के सम्मान, जैसे हनुमत के भगवान...

अमृत बेला गया आलसी सो रहा बन आभागा !

बेला अमृत गया, आलसी सो रहा, बन आभागा, साथी सारे जगे, तू न जागा...

मेरो मॅन लग्यॉ बरसाने मे...

मेंरो मन लग्यो बरसाने में, जहाँ विराजे राधा रानी, मन हट्यो दुनियाँदारी से, मन हट्यो दुनियाँदारी से...

हे रोम रोम मे बसने वाले राम!

हे रोम रोम मे बसने वाले राम, जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।

जिसकी लागी रे लगन भगवान में..!

जिसकी लागी रे लगन भगवान में, उसका दिया रे जलेगा तूफान में।

भजमन राम चरण सुखदाई।

भज मन राम चरण सुखदाई॥ जिहि चरननसे निकसी सुरसरि संकर जटा समाई...

जय हो शिव भोला भंडारी!

जय हो शिव भोला भंडारी लीला अपरंपार तुम्हारी, लेके नाम, तेरा नाम, तेरे धाम आ गए,

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम...

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम, मेरे अलबेले श्याम। अलबेले श्याम मेरे मतवाले श्याम॥

^
top