वेंकटाचल निलयं (Venkatachala Nilayam)


वेंकटाचल निलयं

वेंकटाचल* निलयं वैकुण्ठ पुरवासं
पङ्कज नेत्रं परम पवित्रं
शङ्क चक्रधर चिन्मय रूपं

वेंकटाचल निलयं वैकुण्ठ पुरवासं
पङ्कज नेत्रं परम पवित्रं
शङ्क चक्रधर चिन्मय रूपं

अम्बुजोद्भव विनुतं अगणित गुण नामं
तुम्बुरु नारद गानविलोलं

वेंकटाचल निलयं वैकुण्ठ पुरवासं
पङ्कज नेत्रं परम पवित्रं
शङ्क चक्रधर चिन्मय रूपं

मकर कुण्डलधर मदनगोपलं
भक्त पोषक श्री पुरन्दर विठलं

वेंकटाचल निलयं वैकुण्ठ पुरवासं
पङ्कज नेत्रं परम पवित्रं
शङ्क चक्रधर चिन्मय रूपं

वेंकटाचल निलयं -[i] *वेङकटाचलनिलयम्[/i]

Venkatachala Nilayam in English

Venkatachala Nilayam Vaikuntha Purvasam, Pankaj Netram Param Pavitram, Shanka Chakradhar Chinmaya Roopam
यह भी जानें

Mantra Shri Vishnu MantraNarayan MantraMangalam MantraShri Hari MantraShri Ram MantraShri Krishna MantraSinger Aishwarya Srinivas MantraSouth Indian MantraTirupati Balaji MantraTirupati MantraTirumala Mantra

अन्य प्रसिद्ध वेंकटाचल निलयं वीडियो

Raghuram Manikandan

Ragam: Sindhubhairavi By Sivasri Skandaprasad

Jayashree Rajeev

अगर आपको यह मंत्र पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंत्र को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट मोचन हनुमानाष्टक

बाल समय रवि भक्षी लियो तब।.. लाल देह लाली लसे, अरु धरि लाल लंगूर।...

नवग्रहस्तोत्र

जपाकुसुम संकाशं काश्यपेयं महद्युतिं । तमोरिसर्व पापघ्नं प्रणतोस्मि दिवाकरं ॥

श्रीहनुमत् पञ्चरत्नम्

आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा रचित श्री हनुमत पञ्चरत्नं स्तोत्र में भगवान श्री हनुमान की विशेषता के बारे में बताया गया हैं। वीताखिल-विषयेच्छं जातानन्दाश्र पुलकमत्यच्छम् ..

महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् - अयि गिरिनन्दिनि

अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दिनुते, गिरिवरविन्ध्यशिरोऽधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते ।

माँ दुर्गा देव्यापराध क्षमा प्रार्थना स्तोत्रं

माँ दुर्गा की पूजा समाप्ति पर करें ये स्तुति, तथा पूजा में हुई त्रुटि के अपराध से मुक्ति पाएँ। आपत्सु मग्न: स्मरणं त्वदीयं..

सप्तश्लोकी दुर्गा स्तोत्रम्

॥ अथ सप्तश्लोकी दुर्गा ॥ शिव उवाच - देवि त्वं भक्तसुलभे सर्वकार्यविधायिनी । कलौ हि कार्यसिद्ध्यर्थमुपायं ब्रूहि यत्नतः ॥

दुर्गा पूजा पुष्पांजली

प्रथम पुष्पांजली मंत्र ॐ जयन्ती, मङ्गला, काली, भद्रकाली, कपालिनी।

🔝