close this ads

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली


ओइम् जय वीणे वाली, मैया जय वीणे वाली
ऋद्धि-सिद्धि की रहती, हाथ तेरे ताली
ऋषि मुनियों की बुद्धि को, शुद्ध तू ही करती
स्वर्ण की भाँति शुद्ध, तू ही माँ करती॥ 1 ॥

ज्ञान पिता को देती, गगन शब्द से तू
विश्व को उत्पन्न करती, आदि शक्ति से तू॥ 2 ॥

हंस-वाहिनी दीज, भिक्षा दर्शन की
मेरे मन में केवल, इच्छा तेरे दर्शन की॥ 3 ॥

ज्योति जगा कर नित्य, यह आरती जो गावे
भवसागर के दुख में, गोता न कभी खावे॥ 4 ॥

Read Also:
» वसंत पंचमी - Vasant Panchami
» माँ सरस्वती जी की आरती | माँ सरस्वती चालीसा | माँ सरस्वती वंदना | माँ सरस्वती अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली | श्री महासरस्वती सहस्रनाम स्तोत्रम्!
»दिल्ली NCR मे माता के प्रसिद्ध मंदिर!

English Version

Om Jai Veene Wali, Maiya Jai Veene Wali।
Ridhi Sidhi Ki Rahti, Haath Tere Taali॥
Rishi Nuniyo Ki Budhi Ko, Shudh Tu Hi Karti।
Swarn Ki Bhati, Shudh Tu Hi Karti॥ 1 ॥

Gyaan Pita Ko Deti, Gagan Shabdh Se Tu।
Vishva Ko Utpan Karti, Aadhi Shakti Se Tu॥ 2 ॥

Hans-Vahini Dije, Bhiksha Darshan Ki।
Mere Mann Mein Kewal, Iccha Darshan Ki॥ 3 ॥

Jyoti Jagakar Nitya, Yeh Aarti Jo Gaave।
Bhavsagar Ke Dukh Mein, Gota Na Kabhi Khaave॥ 4 ॥

AartiSaraswati Maa AartiMata Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

आरती: सीता माता की

आरती श्री जनक दुलारी की। सीता जी रघुवर प्यारी की॥

आरती: श्री बालाजी

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी तुम हो रनधीरा॥

आरती: श्री शनि - जय शनि देवा

जय शनि देवा, जय शनि देवा, जय जय जय शनि देवा। अखिल सृष्टि में कोटि-कोटि जन करें तुम्हारी सेवा।

आरती: श्री शनिदेव जी

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी। सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी॥जय जय..॥

आरती माँ लक्ष्मीजी

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता। तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता॥

श्री सूर्य देव - जय जय रविदेव।

जय जय जय रविदेव जय जय जय रविदेव। रजनीपति मदहारी शतलद जीवन दाता॥

Latest Mandir

^
top