धनतेरस | तुलसी विवाह | आज का भजन!

भजन: दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले.. (Doosron Ka Dukhda Door Karne Wale)


दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
किये जा तू जग में भलाई का काम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
किये जा तू जग में भलाई का काम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
पोंछ ले तू अपने आंसू तमाम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ॥

सच का है पथ ले धर्म का मार्ग,
संभल संभल चलना प्राणी ।
पग पग पर है यहाँ रे कसौटी,
कदम कदम पर कुर्बानी ।
मगर तू डावा डोल ना होना,
तेरी सब पीर हारेंगे राम ॥

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
किये जा तू जग में भलाई का काम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।

क्या तुने पाया, क्या तुने खोया,
क्या तेरा लाभ है क्या हानि ।
इस का हिसाब करेगा वो इश्वर,
क्यूँ तू फिकर करे रे प्राणी ।
तू बस अपना काम किए जा,
तेरा भण्डार भरेंगे राम ॥

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
किये जा तू जग में भलाई का काम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
किये जा तू जग में भलाई का काम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ।
पोंछ ले तू अपने आंसू तमाम,
तेरे दुःख दूर करेंगे राम ॥

यह भी जानें

BhajanInspirational BhajanVed BhajanArya Samaj BhajanPradeep Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

जम्भेश्वर आरती: ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे

ओ३म् शब्द सोऽहं ध्यावे, स्वामी शब्द सोऽहं ध्यावे । धूप दीप ले आरती निज हरि गुण गावे । मंदिर मुकुट त्रिशुल ध्वजा, धर्मों की फ हरावे ।...

भजन: म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश

म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश, भाग म्हारो जागियो ॥ मरूधर देश समराथल भूमि, गुरूजी दियो उपदेश ।...

भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए

द्वार पे गुरुदेव के हम आ गए । ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥ देखलो हमको भला दर्शन हुआ । प्रेम हिरदे में मगन प्रसन्न हुआ...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार!

कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार। हाथों में फूलों का दौना भी सोहे, सुंदर गले में सोहे हार, कुमार मैने देखे...

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी!

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी, ब्रज/वृंदावन में आ गए।

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

जय जय सुरनायक जन सुखदायक

जय जय सुरनायक जन सुखदायक प्रनतपाल भगवंता। गो द्विज हितकारी जय असुरारी सिधुंसुता प्रिय कंता ॥

भजन: राम कहने से तर जाएगा!

राम कहने से तर जाएगा, पार भव से उतर जायेगा। उस गली होगी चर्चा तेरी...

मेरे मन के अंध तमस में...

मेरे मन के अंध तमस में, ज्योतिर्मय उतारो। जय जय माँ...

top