हे ज्योति रूप ज्वाला माँ: भजन (Hey Jyoti Roop Jwala Maa)


हे ज्योति रूप ज्वाला माँ: भजन

हे ज्योति रूप ज्वाला माँ,
तेरी ज्योति सबसे न्यारी है ।
हर एक जन इसका परवाना,
हर एक जान इसका पुजारी है ॥
जय माँ शेरावाली जय माँ ज्योतावाली

जब कुछ भी न था इस धरती पर,
तेरी ज्योति का नूर निराला था ।
न सूरज, चंदा, तारे थे,
तेरी ज्योति का ही उजाला था ।
कैसी होगी तेरी ज्योति,
जब सूरज एक चिंगारी है ॥
जय माँ शेरावाली जय माँ ज्योतावाली ॥

जिस घर में ज्योति जलती है,
वह घर पावन हो जाता है ।
ज्योति से ज्योति मिल जाती,
वह जग में अमर हो जाता है ।
यह ज्योति जीवन देती है,
यह ज्योति पालनहारी है ।
जय माँ शेरावाली जय माँ ज्योतावाली ॥

धरती का सीना चीर के माँ,
पाताल लोक से आई है ।
इसकी लीला का अंत नहीं,
कण-कण में यही समय है ।
निर्बल को शक्ति देती है,
यह शक्ति अतुल तुम्हारी है ।
जय माँ शेरावाली जय माँ ज्योतावाली

Hey Jyoti Roop Jwala Maa in English

dware tihare badi bheed ho jagdambe-ambe, maiya dware tere kanya pukare...
यह भी जानें

Bhajan Maa Durga BhajanMata BhajanVaishno Maa BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanShukravar BhajanFriday BhajanAshtami BhajanGupt Navratri BhajanAnuradha Paudwal Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मीठे रस से भरीयो री, राधा रानी लागे: भजन

मीठे रस से भरीयो री, राधा रानी लागे, महारानी लागे...

मैं भोला पर्वत का: शिव भजन

मैं भोला पर्वत का, रै तू राणी महला की, तेरी मेरी पार पड़ै ना, बेशक लिखी पहला की..

मेरा भोला है भंडारी: शिव भजन

मेरा भोला है भंडारी करता नंदी की सवारी, सबना दा रखवाला ओ शिवजी डमरूवाला जी..

लागी लगन शंकरा: शिव भजन

लागी मेरी प्रीत तेरे संग, मेरे शंकरा । लागी मेरी प्रीत तेरे संग, मेरे शंकरा...

गंगा किनारे चले जाणा: भजन

मिटदि है मूरत, जिन्दी ये वाणी है, गंगा किनारे चले जाणा, मुड़के फिर नहीं आणा..

बेद की औषद खाइ कछु न करै: मॉं गंगा माहात्म्य

माँ गंगा मैया का गरिमामय माहात्म्य॥ बेद की औषद खाइ कछु न करै बहु संजम री सुनि मोसें ।..

मंदिर

🔝