छठ पूजा: पटना के घाट पर - छठ गीत (Patna Ke Ghat Par Chhath)


छठ पूजा: पटना के घाट पर - छठ गीत
Add To Favorites

पटना के घाट पर,
हमहु अरगिया देब,
हे छठी मइया,
पटना के घाट पर,
हमहु अरगिया देब,
हे छठी मइया,
हम ना जाइब दूसर घाट,
देखब ऐ छठी मइया,
हम ना जाइब दूसर घाट,
देखब ऐ छठी मइया ॥

सूप लेले ठाड़ बाड़े,
डोम डोमिनिया,
देखब ऐ छठी मैया,
ओरि सुपे अरग देवाइब,
देखब हे छठी मइया ॥

फूल लेले ठाड़ बाड़े,
मलिन मलिनिया,
देखब हे छठी मइया,
ओहि फुले हारवा गोथाइब,
देखब हे छठी मइया ॥

केला सेब नरियल किने,
गइनी हम बजरिया,
देखब हे छठी मइया,
ओहि जगह होता देरिया,
देखब हे छठी मइया ॥

भूल चूक हमरी मइया,
राखब धिआनिया,
देखब हे छठी मइया,
हमरो अरगिया देहब मान,
देखब हे छठी मइया ॥

पटना के घाट पर,
हमहु अरगिया देब,
हे छठी मइया,
हम ना जाइब दूसर घाट,
देखब ऐ छठी मइया ॥

हम ना जाइब दूसर घाट,
देखब ऐ छठी मइया ॥

हम ना जाइब दूसर घाट,
देखब ऐ छठी मइया ॥

हम ना जाइब दूसर घाट,
देखब ऐ छठी मइया ॥

यह भी जानें

Bhajan Chhath Puja BhajanChhath BhajanChhath Mai BhajanChhath Maiya BhajanChhath Geet BhajanMaithili Thakur BhajanRishav Thakur BhajanAyachi Thakur Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन

दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं, संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े - भजन

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े, हनुमान उड़े उड़ते ही गये, सब देख रहे है..

झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे: भजन

ऐ भई रे भई रे, ढोलीड़ा तने विनवु रे, म्हारी माता सारू, ढोल वगाडजो रे, झुमर झलके अम्बा ना, गोरा गाल पे रे ॥

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा: भजन

मिश्री से भी मीठा नाम तेरा, तेरा जी मैया, ऊँचे पहाड़ो पर डेरा डेरा जी, तेरा मंदर सुनहरी शेरावालिये ॥

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना: भजन

मन के मंदिर में प्रभु को बसाना, बात हर एक के बस की नहीं है, खेलना पड़ता है जिंदगी से, भक्ति इतनी भी सस्ती नहीं है ॥

नन्द बाबा के अंगना देखो बज रही आज बधाई: भजन

नन्द बाबा के अंगना देखो, बज रही आज बधाई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई, नगाड़ा जोर से बजा दे, मैं नृत्य करन को आई ॥

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel