close this ads

श्री सूर्य देव - जय जय रविदेव।


जय जय जय रविदेव जय जय जय रविदेव।
रजनीपति मदहारी शतलद जीवन दाता॥

पटपद मन मदुकारी हे दिनमण दाता।
जग के हे रविदेव जय जय जय स्वदेव॥

नभ मंडल के वाणी ज्योति प्रकाशक देवा।
निजजन हित सुखराशी तेरी हम सब सेवा॥

करते हैं रविदेव जय जय जय रविदेव।
कनक बदन मन मोहित रुचिर प्रभा प्यारी॥

नित मंडल से मंडित अजर अमर छविधारी।
हे सुरवर रविदेव जय जय जय रविदेव॥

Read Also
» आरती: श्री सूर्य देव - ऊँ जय सूर्य भगवान। | श्री सूर्य देव - ऊँ जय कश्यप नन्दन।
» चालीसा: श्री सूर्य देव।

Hindi Version in English

Jai Jai Jai Ravidev Jai Jai Jai Ravidev।
Rajanipati Madhaari Shatlad Jeevan Data॥॥

Patpad Mann Madukaari Hey Dinmann Data॥a।
Jag Ke He Ravidev Jai Jai Jai Swadev॥

Nabh Manda| Ke Vaani Jyoti Prakaashak Deva।
Nijjan Hit Sukhraashi Teri Hum Sab Sevaa॥

Karte Hai Ravi Dev Jai Jai Jai Ravidev।
Kanak Badan Man Mohit Ruchir Prabha Pyari॥

Nit Mandal Se Mandit Ajar Amar Chavidhaari।
Hey Survar Ravidev Jai Jai Jai Ravidev॥

AartiSurya Dev AartiRavi Dev Aarti


If you love this article please like, share or comment!

* If you are feeling any data correction, please share your views on our contact us page.
** Please write your any type of feedback or suggestion(s) on our contact us page. Whatever you think, (+) or (-) doesn't metter!

श्री भगवत भगवान की है आरती!

श्री भगवत भगवान की है आरती, पापियों को पाप से है तारती।

आरती श्री भगवद्‍ गीता!

जय भगवद् गीते, जय भगवद् गीते। हरि-हिय-कमल-विहारिणि सुन्दर सुपुनीते॥

मां नर्मदाजी आरती!

ॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनंद कन्दी। ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा शिव हर‍ि शंकर, रुद्रौ पालन्ती।

प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये।

पूजनीय प्रभो हमारे, भाव उज्जवल कीजिये। छोड़ देवें छल कपट को, मानसिक बल दीजिये॥

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

आरती: श्री बृहस्पति देव

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा। छिन छिन भोग लगा‌ऊँ...

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

आरती: सीता माता की

आरती श्री जनक दुलारी की। सीता जी रघुवर प्यारी की॥

आरती: श्री बालाजी

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी तुम हो रनधीरा॥

^
top