भजन: सांवरा जब मेरे साथ है (Sanwara Jab Mere Sath Hai)


सांवरा जब मेरे साथ है,
हमको डरने की क्या बात है ।
इसके रहते कोई कुछ कहे,
बोलो किसकी यह औकात है ॥

छाये काली घटाए तो क्या,
इसकी छतरी के नीचे हूँ मैं ।
आगे आगे यह चलता मेरे,
मेरे मालिक के पीछे हम मैं ।
इसने पकड़ा मेरा हाथ है,
मुझको डरने की क्या बात है ॥

इसकी महिमा का वर्णन करू,
मेरी वाणी में वो दम नहीं ।
जब से इसका सहारा मिला
फिर सताए कोई गम नहीं ।
बाबा करता करामत है
हमको डरने की क्या बात है ॥

क्यों मैं भटकू यहाँ से वहां
इसके चरणों में है बैठना ।
झूठे स्वार्थ के रिश्ते सभी,
कहना से है रिश्ता बना ।
ये करता मुलाकात है,
हमको डरने की क्या बात है ॥

जहां आनद की लगती झड़ी,
ऐसी महफ़िल सजता है ये ।
‘बिन्नू’ क्यों ना दीवाना बने,
ऐसे जलवे दिखता है ये ।
दिल चुराने में विख्यात है,
हमको डरने की क्या बात है ॥

Sanwara Jab Mere Sath Hai in English

Sanwara Jab Mere Sath Hai, Humko Darne Ki Kya Baat Hai । Iske Rahte Koi Kuch Kahe, Bolo Kiski Yah Aukat Hai
यह भी जानें

BhajanShri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanShri Shayam BhajanFalgun Mela Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

भजन: घर आये राम लखन और सीता

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार - भजन

अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में, है जीत तुम्हारे हाथों में...

भजन: आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया...

आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया, चारों दुलहा में बड़का कमाल सखिया!

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं!

ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं। यही सद् ग्रंथ कहते हैं, यही हरि भक्त गाते हैं...

भजन: रघुपति राघव राजाराम

रघुपति राघव राजाराम, पतित पावन सीताराम ॥ सुंदर विग्रह मेघश्याम, गंगा तुलसी शालग्राम...

भजन: बिनती सुनिए नाथ हमारी..

बिनती सुनिए नाथ हमारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, मोर मुकुट पीतांबर धारी..

🔝