close this ads

सुख के सब साथी, दुःख में ना कोई।


सुख के सब साथी, दुःख में ना कोई।
मेरे राम, तेरा नाम एक साँचा दूजा ना कोई॥

जीवन आनी जानी छाया, झूठी माया, झूठी काया।
फिर काहे को सारी उमरियाँ, पाप की गठड़ी ढोई॥
॥सुख के सब साथी...॥

ना कुछ तेरा, ना कुछ मेरा, ये जग जोगीवाला फेरा।
राजा हो या रंक सभी का, अंत एक सा होई॥
॥सुख के सब साथी...॥

बाहर की तू माटी फाँके, मन के भीतर क्यों ना झाँके।
उजले तन पर मान किया, और मन की मैल ना धोई॥

सुख के सब साथी, दुःख में ना कोई।
मेरे राम, तेरा नाम एक साँचा दूजा ना कोई॥

Hindi Version in English

Sukh Ke Sab Sathi, Duhkh Mein Na Koi।
Mere Ram, Tera Nam Ek Sancha Dooja Na Koi॥

Jeevan Aani Jani Chhaya, Jhuthi Maya, Jhuthi Kaya।
Phir Kahe Ko Sari Umariyan, Paap Ki Gathadi Dhoi॥
॥Sukh Ke Sab Sathi...॥

Na Kuchh Tera, Na Kuchh Mera, Ye Jag Jogiwala Phera।
Raja Ho Ya Rank Sabhi Ka, Ant Ek Sa Hoi॥
॥Sukh Ke Sab Sathi...॥

Bahar Ko Tu Matee Phanke, Man Ke Bheetar Kyon Na Jhanke।
Ujale Tan Par Maan Kiya, Aur Man Ko Mail Na Dhoi॥

Sukh Ke Sab Sathi, Duhkh Mein Na Koi।
Mere Ram, Tera Nam Ek Sancha Dooja Na Koi॥

- BhaktiBharat


If you love this article please like, share or comment!

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!

साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार। तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

भजन: चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है।

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है। ऊँचे पर्वत पर रानी माँ ने दरबार लगाया है।

भजन: मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की।

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की। जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥

भजन: हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में...

हरी नाम सुमिर सुखधाम, हरी नाम सुमिर सुखधाम, जगत में जीवन दो दिन का...

सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया!

सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया। दिल दीवाना हो गया...

भजन: तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान।

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान। किसने जानी तेरी माया...

राम का सुमिरन किया करो!

राम का सुमिरन किया करो, प्रभु के सहारे जिया करो...

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी

ब्रजराज ब्रजबिहारी, गोपाल बंसीवारे, इतनी विनय हमारी, वृन्दा-विपिन बसा ले...

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल। केशव माधव हरि हरि बोल॥

Latest Mandir

^
top