विवाह पंचमी | आज का भजन!

भजन: बजरंगबली मेरी नाव चली, करुना कर पार लगा देना। (Bajarangabali Meri Nav Chali Karuna Kar Paar Laga Dena)


बजरंगबली मेरी नाव चली, करुना कर पार लगा देना।
हे महावीरा हर लो पीरा, सत्माराग मोहे दिखा देना॥

दुखों के बादल गिर आयें, लहरों मे हम डूबे जाएँ।
हनुमत लाला, तू ही रखवाला, दीनो को आज बचा लेना॥

सुख देवनहारा नाम तेरा, पग पग पर सहारा नाम तेरा।
भव भयहारी, हे हितकारी, कष्टों से आज छुड़ा देना॥

हे अमरदेव, हे बलवंता, तुझे पूजे मुनिवर सब संता।
संकट हारना लागे शरणा, श्री राम से मोहे मिला देना॥

Read Also:
» हनुमान जयंती - Hanuman Jayanti
» दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर!
» श्री हनुमान जी की आरती | संकट मोचन हनुमानाष्टक | श्री हनुमान चालीसा | श्री बालाजी की आरती | श्री हनुमान बाहुक | श्री हनुमान साठिका
» श्री हनुमान गाथा | भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना

Bajarangabali Meri Nav Chali Karuna Kar Paar Laga Dena in English

Bajarangabalee meree naav chalee, Karuna kar paar laga dena...
यह भी जानें

BhajanShri Hanuman BhajanBajrangbali Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला।

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला, कौसल्या हितकारी । हरषित महतारी, मुनि मन हारी, अद्भुत रूप बिचारी ॥ लोचन अभिरामा, तनु घनस्यामा...

राम का सुमिरन किया करो!

राम का सुमिरन किया करो, प्रभु के सहारे जिया करो...

राम सिया राम, सिया राम जय जय राम!

मंगल भवन अमंगल हारी, द्रबहुसु दसरथ अजर बिहारी। राम सिया-राम सिया राम...

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं।

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं। मेरे नयनो के तारे है। सारे जग के रखवाले है...

रामजी की निकली सवारी!

सर पे मुकुट सजे मुख पे उजाला, हाथ धनुष गले में पुष्प माला...

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई!

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई, ये जीवन दो दिन का...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए

द्वार पे गुरुदेव के हम आ गए । ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥ देखलो हमको भला दर्शन हुआ । प्रेम हिरदे में मगन प्रसन्न हुआ...

हे मेरे गुरुदेव करुणा सिन्धु करुणा कीजिये!

हे मेरे गुरुदेव करुणा सिन्धु करुणा कीजिये। हूँ अधम आधीन अशरण, अब शरण में लीजिये ॥

गुरुदेव दया करके मुझको अपना लेना।

मैं शरण पड़ा तेरी चरणों में जगह देना, गुरुदेव दया करके मुझको अपना लेना।

top