close this ads

भजन: बजरंगबली मेरी नाव चली, करुना कर पार लगा देना।


बजरंगबली मेरी नाव चली, करुना कर पार लगा देना।
हे महावीरा हर लो पीरा, सत्माराग मोहे दिखा देना॥

दुखों के बादल गिर आयें, लहरों मे हम डूबे जाएँ।
हनुमत लाला, तू ही रखवाला, दीनो को आज बचा लेना॥

सुख देवनहारा नाम तेरा, पग पग पर सहारा नाम तेरा।
भव भयहारी, हे हितकारी, कष्टों से आज छुड़ा देना॥

हे अमरदेव, हे बलवंता, तुझे पूजे मुनिवर सब संता।
संकट हारना लागे शरणा, श्री राम से मोहे मिला देना॥

Read Also:
» हनुमान जयंती - Hanuman Jayanti
» दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर!
» श्री हनुमान जी की आरती | संकट मोचन हनुमानाष्टक | श्री हनुमान चालीसा | श्री बालाजी की आरती | श्री हनुमान बाहुक | श्री हनुमान साठिका
» श्री हनुमान गाथा | भजन: राम ना मिलेगे हनुमान के बिना

Available in English - Bajarangabali Meri Nav Chali Karuna Kar Paar Laga Dena
Bajarangabalee meree naav chalee, Karuna kar paar laga dena। He mahaaveera har lo peera, Satmaara

BhajanShri Hanuman BhajanBajrangbali Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी...

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेवा॥

बाल लीला: राधिका गोरी से बिरज की छोरी से...

राधिका गोरी से बिरज की छोरी से, मैया करादे मेरो ब्याह...

भजन: राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक

राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक, तीनों लोक में छाये रही है। भक्ति विवश एक प्रेम पुजारिन...

पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार।

पहिले पहिल हम कईनी, छठी मईया व्रत तोहार। करिहा क्षमा छठी मईया, भूल-चूक गलती हमार...

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे...

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे, लताओं में बृज की गुजारा करेंगे। कहीं तो मिलेंगे वो बांके बिहारी...

कबहुँ ना छूटी छठि मइया...

कबहुँ ना छूटी छठि मइया, हमनी से बरत तोहार, हमनी से बरत तोहार...

हो दीनानाथ - छठ पूजा गीत

सोना सट कुनिया, हो दीनानाथ हे घूमइछा संसार, आन दिन उगइ छा हो दीनानाथ आहे भोर भिनसार...

मारबो रे सुगवा - छठ पूजा गीत

ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मेड़राए। मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।...

श्री गोवर्धन महाराज आरती!

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ...

^
top