Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel
Hanuman Chalisa - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Ganesh Aarti Bhajan - Ram Bhajan -

रामलिंग स्वामीगल (Ramalinga Swamigal)


रामलिंग स्वामीगल
भक्तमाल: रामलिंग स्वामीगल
वास्तविक नाम - तिरुवरुतप्रकाश वल्लालर चिदम्बरम रामलिंगम
अन्य नाम - वल्लालर, रामलिंग स्वामीगल और रामलिंग आदिगल
गुरु - तिरुवल्लुवर
आराध्य - शिवजी, मुरुगन
जन्म – 5 अक्टूबर 1823
जन्म स्थान - मरुदुर, चिदम्बरम, तमिलनाडु
गायब - 30 जनवरी, 1874 (उम्र 50)
स्थान - मेट्टुकुप्पम, वडालूर, कुड्डालोर जिला, तमिलनाडु
वैवाहिक स्थिति: विवाहित
भाषा - तमिल, संस्कृत
पिता – चिन्नम्मई
माता - रामय्या पिल्लई
प्रसिद्ध - भारतीय आध्यात्मिक गुरु, ज्ञान सिद्ध
संत रामलिंग स्वामी, जिन्हें तमिलनाडु में 'वल्लालर' के नाम से जाना जाता है, 19वीं सदी की शुरुआत में एक संत कवि थे। एक प्रतिभाशाली और साथ ही एक प्रबुद्ध गुरु जिन्होंने प्रेम और करुणा को ईश्वर के प्रति मूलमंत्र के रूप में सिखाया। उन्होंने शास्त्रीय तमिल में ईश्वर के बारे में करीब 6000 गाने गाए हैं। रामलिंगा ने शाश्वत शक्ति के प्रतीक के रूप में जलते दीपक की लौ की पूजा करने की अवधारणा की वकालत की।

उन्होंने अपने समय का तमिल शैव साहित्य विशेषकर तिरुमुलर का तिरुमंतीरम पढ़ा। उन्होंने भक्ति और प्रेम के साथ भगवान शिव की स्तुति में गीत गाए। उनका सिद्धांत किसी भी रूप से परे बहुत सरल था। उन्होंने उपदेश दिया, कि अंतिम वास्तविकता 'ज्योति' है और सबके अंदर बैठी हुई भी एक ही 'ज्योति' है। उन्होंने अपने आस-पास के सभी लोगों के भीतर विराजमान दिव्यता के बारे में सच्चाई व्यक्त करने की पूरी कोशिश की।

30 जनवरी 1874 को, रामलिंगम ने कमरे में प्रवेश किया, खुद को अंदर बंद कर लिया और अपने अनुयायियों से इसे न खोलने के लिए कहा। उसके बाद वो अदृश्य होगये थे। संत रामलिंग स्वामी की याद में तमिलनाडु सरकार ने 17 अगस्त 2007 को डाक टिकट जारी किया था।

Ramalinga Swamigal in English

Saint Ramalinga Swamy, known as 'Vallalar' in Tamil Nadu, was a saint poet of the early 19th century.
यह भी जानें

Bhakt Ramalinga Swamigal BhaktIndian Spiritual Guru BhaktGnana Siddhars BhaktVallalar BhaktTamil Shaiva Literature BhaktTirumantiram BhaktBhagwan Shiva Bhakt

अगर आपको यह भक्तमाल पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

भक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस भक्तमाल को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

सद्गुरु श्री रितेश्वर जी

सद्गुरु रितेश्वर जी एक आध्यात्मिक नेता, प्रेरक वक्ता और लेखक हैं। उन्होंने ने वृन्दावन में एक अंतरराष्ट्रीय, शैक्षिक और गैर-लाभकारी संगठन "श्री आनंदम धाम" की स्थापना की है।

आचार्य विद्यासागर

आचार्य श्री विद्यासागरजी महाराज एक दिगंबर जैन आचार्य (दिगंबर जैन भिक्षु) हैं। उन्हें 1972 में आचार्य का दर्जा दिया गया था।

चैतन्य महाप्रभु

चैतन्य महाप्रभु 15वीं शताब्दी के एक भारतीय संत थे, जिन्हें उनके शिष्यों और विभिन्न शास्त्रों द्वारा राधा और कृष्ण का संयुक्त अवतार माना जाता है।

देवनारायण जी

देवनारायण जी राजस्थान के स्थानीय देवता, शासक और महान योद्धा थे। उन्हें एक सिद्ध पुरुष के रूप में माना जाता है जिन्होंने अपनी उपलब्धियों का उपयोग लोक कल्याण के लिए किया था।

पुण्डरीक गोस्वामी

पुंडरीक गोस्वामी जी श्रीमद्भागवतम, चैतन्य चरितामृत, राम कथा और भगवद गीता पर अपने आध्यात्मिक प्रवचनों के लिए प्रसिद्ध हैं।

दयानंद सरस्वती

दयानंद सरस्वती एक भारतीय दार्शनिक, सामाजिक नेता और आर्य समाज के संस्थापक थे। वह हिंदू सुधारक आन्दोलनकारियों में से एक हैं जिन्हें महर्षि दयानंद के नाम से भी जाना जाता है।

भक्तिसिद्धांत सरस्वती

श्रील भक्तिसिद्धांत सरस्वती प्रभुपाद, गौड़ीय मिशन के संस्थापक और अपने गुरु-पिता श्रील भक्तिविनोद ठाकुर के सबसे प्रतिष्ठित अनुयायी थे।

Hanuman Chalisa -
Hanuman Chalisa -
×
Bhakti Bharat APP