Navratri
Chaitra Navratri Specials 2024 - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Om Jai Jagdish Hare Aarti -

चैत्र नवरात्रि के शुभ ज्योतिषीय उपाय (Astrological Remedies For Auspicious Chaitra Navratri)

चैत्र नवरात्रि के नौ दिनों में माता रानी के विभिन्न रूपों की पूजा करने का विधान है। मान्यता है कि जो भक्त इन नौ दिनों में माता की भक्ति भाव से पूजा करता है, उसे सभी संकटों से मुक्ति मिल जाती है। माता के 9 रूप हैं और सभी की अलग-अलग महिमा है, जिनकी पूजा विशेष फलदायी है।
यूं तो साल में 4 बार नवरात्र आते हैं, लेकिन चैत्र और शारदीय नवरात्रि का विशेष महत्व है। जब चैत्र नवरात्रि की बात आती है, तो यह चैत्र के महीने में आती है जिसे हिंदू कैलेंडर के पहले महीने के रूप में भी जाना जाता है। इस साल चैत्र नवरात्रि 22 मार्च से शुरू हो रही है और 30 मार्च को समाप्त होगी।

शुभ चैत्र नवरात्रि के लिए कुछ ज्योतिषीय उपाय आजमाएं:

लौंग कपूर जलाएं - Laung Kapoor Jalaen
कपूर का इस्तेमाल कई तरह की पूजा में किया जाता है। माना जाता है कि पूजा के दौरान कपूर जलाने से घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है। चैत्र नवरात्रि में नौ दिनों तक अगर आप लौंग और कपूर से माता की आरती करें तो आपके जीवन में आर्थिक लाभ हो सकता है।

माता को लाल सिंदूर चढ़ाएं - Laal Sindoor Chadhaen
देवी मां की पूजा करते समय उन्हें लाल सिंदूर चढ़ाएं। इस उपाय से आपके जीवन में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहेगी। यदि आप नवरात्रि में नियमित रूप से देवी दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा करने के साथ सिंदूर भी चढ़ाते हैं, तो आपके लिए धन का सृजन होगा। नवरात्रि में आप अपनी राशि के अनुसार देवी की पूजा कर सकते हैं।

माता लक्ष्मी को खीर का भोग लगाएं - Kheer Ka Bhog Lagaen
माता लक्ष्मी को धन की देवी माना जाता है। अगर आप नवरात्रि में शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी को चावल की खीर का भोग लगाकर घर की सुख-समृद्धि की प्रार्थना करते हैं तो आपके जीवन में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहेगी।

आम की लकड़ी से हवन करें - Aam Ki Lakadi Se Havan Karen
नवरात्रि में नौ दिनों तक पूजा-अर्चना के बाद हवन का विशेष महत्व होता है। मान्यता है कि यदि नवमी तिथि को पूरे विधि-विधान से आम की लकड़ी से हवन किया जाए तो इसके धुएं के साथ सभी नकारात्मक शक्तियां बाहर निकल जाती हैं और घर में सुख-समृद्धि आती है।

माता को गुड़हल का फूल अर्पित करें - Gudahal Ka Phool Arpit Karen
माता दुर्गा को लाल रंग की चीजें विशेष रूप से पसंद हैं। अगर आप उन्हें लाल चुनरी और लाल फूल अर्पित करते हैं तो आपके जीवन में खुशियों का आगमन हो सकता है। नवरात्रि में माता को 5 गुड़हल के फूल चढ़ाएं और इन फूलों को निकालकर घर में धन स्थान पर रख दें।

पूजा स्थान पर कौड़ियों का ख्याल रखना - Kaudiyon Ka Prayog
कौड़ी धन के लिए एक विशेष उपाय माना जाता है। इस कारण पूजा स्थान पर कौड़ी जरूर रखी जाती है। नवरात्रि में कलश स्थापना के साथ माता दुर्गा की प्रतिमा या तस्वीर के पीछे 7 कौड़ीयां रखें और उन पर सिंदूर लगाएं। जिस दिन नवरात्रि की पूजा समाप्त हो जाए उस दिन सभी कौड़ीयों को निकालकर पीले कपड़े में बांधकर धन स्थान पर रख दें। इस उपाय से आपका अटका हुआ धन भी वापस मिल जाएगा और धन के मार्ग खुलेंगे।

यदि आप नवरात्रि के नौ दिनों में इन विशेष उपायों को आजमाते हैं तो आपके जीवन में हमेशा समृद्धि बनी रहेगी और आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

चैत्र नवरात्रि विशेष 2023: आरती | भजन | मंत्र | नामवली | कथा | मंदिर | भोग प्रसाद

Astrological Remedies For Auspicious Chaitra Navratri in English

Every year Chaitra Navratri starts from the Pratipada date of Shukla Paksha of Chaitra month. In these 9 days of Navratri, initially 9 major forms of Maa Durga are worshiped.
यह भी जानें

Blogs Auspicious Chaitra Navratri BlogsChaitra Navratri Ghatasthapana BlogsGhatasthapana Vidhi BlogsNavratri BlogsChaitra Navratri BlogsMaa Durga BlogsDevi Maa BlogsNavratri 2023 Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राम नवमी का महत्व क्या है?

राम नवमी को भगवान राम के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

भगवान श्री विष्णु के दस अवतार

भगवान विष्‍णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। भगवान श्री विष्णु के दस अवतार यानी दशावतार की प्रामाणिक कथाएं।

तिलक के प्रकार

तिलक एक हिंदू परंपरा है जो काफी समय से चली आ रही है। विभिन्न समूह विभिन्न प्रकार के तिलकों का उपयोग करते हैं।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

चैत्र नवरात्रि विशेष 2024

हिंदू पंचांग के प्रथम माह चैत्र मे, नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्रि पर्व में व्रत, जप, पूजा, भंडारे, जागरण आदि में माँ के भक्त बड़े ही उत्साह से भाग लेते है। Navratri Dates 9 April 2024 - 16 April 2024

वैशाख मास 2024

वैशाख मास पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में दूसरा महीना होता है। यह महीना ग्रेगोरियन कैलेंडर में अप्रैल और मई के साथ मेल खाता है। आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र में इसे दूसरे महीने के रूप में गिना जाता है। गुजराती कैलेंडर में, यह सातवां महीना है। पंजाबी, बंगाल, असमिया और उड़िया कैलेंडर में वैशाख महीना पहला महीना है।

तिलक लगाने के पीछे क्या कारण है?

तिलक लगाना हिंदू परंपरा में इस्तेमाल की जाने वाली एक विशेष रस्म है।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP