Rameshwaram Temple: The Ancient Temple Town of Chardham (रामेश्वरम मंदिर: मंदिरों का प्राचीन शहर - चारधाम)

Add To Favorites

Rameshwaram is considered to be one of the holiest places in India to Hindus, and part of the Char Dham pilgrimage. This is a beautiful island located in the Indian state of Tamil Nadu.

Mythology:
The Ramanatha Swamy Temple dedicated to Bhagwan Shiva occupies a major area of Rameswaram. The temple is believed to have been consecrated by Shri Rama Chandra. The presiding deity here is in the form of a Linga with the name Sri Ramanatha Swamy, it also is one of the twelve Jyotirlingas.

Procedure:
Before entering temple devotees take bath in the sea which is called Agni Theertham . The history says Bhagwan Rama after the war with Ravana at the instance of the great saints to get rid of the "Brahma Dosham" have take a holy dip here. The water at this place is considered sacred and Pilgrims also perform poojas in honour of their ancestors at this seashore.

Proceed to the temple for Teerth snanam (Holy bath). The temple has 22 sacred wells that are said to contain holy water from different places. You need to sequentially take bath at each place.

After having bath devotees change their clothes and enter to take darshan of Sri Ramanathaswamy Temple. It is renowned for its magnificent prakaras or corridors with massive sculptured pillars on either side. The temple has the longest corridor in the world.

यह भी जानें

Blogs Rameshwaram BlogsChar Dham BlogsHinduism Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

वैदिक पौराणिक शंख

वैदिक पौराणिक शंख, शंख के नाम एवं प्रकार, शंख की महिमा, भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन, भीमसेन, युधिष्ठिर, नकुल, सहदेव, सहदेव, भीष्म के शंख का क्या नाम था?

राहुकाल क्या होता है?

ग्रहों के गोचर में हर दिन सभी ग्रहों का एक निश्चित समय होता है, इसलिए राहु के लिए भी हर समय एक दिन आता है, जिसे राहु काल कहा जाता है।

पंडित जी, वैशाली गाज़ियाबाद

वैशाली, इंदिरापुरम एवं वसुंधरा क्षेत्र के प्रतिष्ठित पंडित जी से आप भक्ति-भारत के द्वारा सम्पर्क कर सकते हैं।

`तिथि` क्या है और इसकी गणना कैसे की जाती है?

तिथि को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि 'चंद्र रेखा' को 'सूर्य रेखा' से 12 अंश ऊपर जाने में लगने वाला समय को तिथि कहते हैं।

(कृष्ण और शुक्ल) पक्ष क्या है?

हिन्दू पंचांग में एक महीने को 30 दिनों में विभाजित किया गया है। इसे 30 दिनों को फिर दो पक्षों में बांटा गया है। 15 दिनों के एक पक्ष को शुक्ल पक्ष और शेष 15 दिनों को कृष्ण पक्ष माना जाता है। चन्द्रमा की आकार के अनुसार शुक्ल और कृष्ण पक्ष गणना किया गया है।

सावित्री अमावस्या उत्सव

सावित्री व्रत ओडिशा और भारत के पूर्वी हिस्सों में विवाहित महिलाओं द्वारा पति के लिए मनाया जाता है।

पंचांग का अर्थ क्या है?

हिंदू कैलेंडर में पंचांग एक अनिवार्य हिस्सा है, जो हिंदू रीति-रिवाजों की पारंपरिक इकाइयों का पालन करता है, और महत्वपूर्ण तीथियां प्रस्तुत करता है और एक सारणीबद्ध रूप में गणना करता है।

🔝