Download Bhakti Bharat APP

जोशीमठ का संकट क्या है? (What is Joshimath's crisis?)

जोशीमठ, जिसे ज्योतिर्मठ के नाम से भी जाना जाता है, उत्तराखंड में 6150 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह बद्रीनाथ जैसे कई हिमालयी पर्वतारोहण अभियानों, ट्रेकिंग ट्रेल्स और तीर्थ केंद्रों का प्रवेश द्वार है। यह आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित चार प्रमुख पीठों में से एक है।

जोशीमठ हाई अलर्ट पर है
7 फरवरी 2021 से, यह क्षेत्र बाढ़ और उसके बाद गंभीर रूप से प्रभावित हुआ था। इसकी भौगोलिक स्थिति के चलते रिज के साथ होने के कारण शहर के डूबने की पुष्टि हुई है। जिला प्रशासन ने डूबते शहर में रहने के लिए असुरक्षित 200 से अधिक घरों पर पहले रेड क्रॉस का निशान लगाया था।

600 से अधिक संरचनाओं में या तो दरारें आ गई हैं या आंशिक रूप से नष्ट हो गई हैं। संभावित खतरे की भयावहता के आधार पर लोगों को स्थांतरित किया जा रहा है। जिसके लिए प्रत्येक परिवार को राज्य सरकार से अगले छह महीनों के लिए प्रति माह 4,000 रुपये की सहायता मिलेगी।

जोशीमठ का महत्व
हर प्राचीन मंदिर शहर की तरह, जोशीमठ जहाँ आदि शंकराचार्य ने भारत के उत्तरी कोने में चार मठों में से पहला मठ स्थापित किया था। इस शहर को ज्योतिमठ भी कहा जाता है और इसे एक ज्योतिष केंद्र के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। देश भर से यहां पुजारी, साधु-संत आते रहे और पुराने समय में यहां कई आकर बस गए।

आदि शंकराचार्य ने बद्रीनाथ मंदिर की स्थापना की और वहां नंबूदरी पुजारियों को स्थापित किया और आज भी ऐसा करना जारी है, जोशीमठ बद्रीनाथ का शीतकालीन स्थान रहा है। सर्दियों के 6 महीनों के दौरान जब बद्रीनाथ मंदिर बर्फ से ढका रहता है, तब जोशीमठ के नरसिंह मंदिर में ही भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। बद्रीनाथ के रावल सर्दियों में मंदिर के कर्मचारियों के साथ जोशीमठ में तब तक रहते हैं जब तक कि सर्दियों के बाद मंदिर के कपाट खुल नहीं जाते।

जोशीमठ में आध्यात्मिकता की गहरी जड़ें हैं और यहां की संस्कृति भगवान विष्णु की पौराणिक कथाओं पर आधारित है। वास्तव में यह माना जाता है कि बद्रीनाथ की यात्रा तब तक अधूरी रहती है जब तक कोई जोशीमठ नहीं जाता और नरसिंह मंदिर में पूजा नहीं करता।

What is Joshimath's crisis? in English

Joshimath, also known as Jyotirmath, is located in Uttarakhand at an altitude of 6150 feet. It is the gateway to many Himalayan mountaineering expeditions, trekking trails and pilgrimage centers like Badrinath. It is one of the four major Peethas established by Adi Shankaracharya. More than 600 structures have either cracked or been partially destroyed.
यह भी जानें

Blogs Joshimath BlogsJoshimath Crisis BlogsJyotirmath BlogsBadrinath BlogsShankaracharya BlogsAdi Shankaracharya BlogsBadrinath Temple BlogsBhagwan Vishnu Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

नर्मदा परिक्रमा यात्रा

हिंदू पुराणों में नर्मदा परिक्रमा यात्रा का बहुत महत्व है। मा नर्मदा, जिसे रीवा नदी के नाम से भी जाना जाता है, पश्चिम की ओर बहने वाली सबसे लंबी नदी है। यह अमरकंटक से निकलती है, फिर ओंकारेश्वर से गुजरती हुई गुजरात में प्रवेश करती है और खंभात की खाड़ी में मिल जाती है।

माघ मास 2023

हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ का महीना ग्यारहवां महीना होता है। माघ मास की पूर्णिमा चन्द्रमा और अश्लेषा नक्षत्र में होती है, इसलिए इस मास को माघ मास कहा जाता है। माघ मास में सुख-शांति और समृद्धि के लिए पूजा किया जाता है।

नर्मदा यात्रा में डिजिटल बाबा

प्रसिद्ध डिजिटल बाबा एक युवा संन्यासी हैं जिनका वास्तविक नाम स्वामी राम शंकर है। जो सोशल मीडिया के माध्यम से युवाओं को आध्यात्मिक भारतीय संस्कृति से अवगत कराते रहते हैं। वह युवाओं को जीवन में अध्यात्म का महत्व समझाते रहते हैं। डिजिटल बाबा स्वामी राम शंकर क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध नर्मदा परिक्रमा कर रहे हैं। नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस कार्य से जुड़े लोगों के बीच जाकर डिजिटल बाबा सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

जंगम जोगी

जंगम जोगी, जंगम शब्द का अर्थ एक यात्रा करने वाला जोगी है जो एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करता है और दान द्वारा अपना जीवन यापन करता है। शैव संप्रदाय के ये जोगी भगवान शिव की भक्ति के लिए जाने जाते हैं। जो भगवान शिव की कहानी सुनाती है, जिसमें शिव के विवाह से लेकर उनके अमरनाथ जाने तक की पूरी कहानी को गीतों के माध्यम से प्रस्तुत करते हैं।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम मे मंदिरों का योगदान - ब्लॉग

सनातन परंपरा के मुख्य केंद्र मंदिर, इस अभूतपूर्व घटना का साक्षी बनाने से अपने को कैसे रोक पता? आइए जानते हैं किस-किस मंदिर का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में योगदान रहा।

माता मेलडी

मेलडी माता एक हिंदू देवी है, वह मुख्य रूप से सौराष्ट्र क्षेत्र यानी गुजरात राज्य में प्रसिद्ध है। मां मेलडी दुर्गा का ही स्वरुप हैं। माता गुजरात राज्य में कुछ लोगों के लिए चुनवा दिया कोली के रूप में पूजनीय हैं और कुछ लोगों के लिए गृहदेवता हैं जो खेत की रक्षा करती हैं। कहते हैं मां मेलडी की पूजा से भक्तों को भगवान विष्णु का आशीर्वाद मिलता है, किंवदंती कहती है कि मेलडी माता भक्तों की कोई भी इच्छा पूरी करती हैं।

भारत के टॉप टेन प्रसिद्ध भजन गायक

भजन एक प्रकार का गीत है जिसे भगवान के प्रति सम्मान और भक्ति दिखाने के लिए बजाया जाता है। भजन किसी भी भाषा में हो सकते हैं। कुछ मंत्रों का उच्चारण संगीत के रूप में किया जाता है। भारत में कई प्रसिद्ध हिंदी भजन गायक हैं, जैसे की:

Hanuman Chalisa - Aditya Hridaya Stotra -
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App