What is the sacredness of Ganga Dussehera? (क्या है? गंगा दशहरा की पवित्रता )

What is the sacredness of Ganga Dussehera?
Add To Favorites

Ganga Dussehra is a major festival of Hindus. Jyeshtha Shukla Dashami is called Dussehra. It is written in Skandpuran that, Jyeshtha Shukla Dashami is considered to be Samvatsarmukhi, especially bath in it and do charity. This year this sacred festival will be celebrated on 1st June 2020. According to rituals devotees need to do Arghya (Pujadik) and Tilodak on any river.

According to the Purans, bathing the Ganga on the day of Ganga Dussehra has special significance. Ganga descended from heaven on this day, so it is considered to be a great festival. Bhagwan Shiva is anointed in all Ganga temples on the day of Ganga Dussehra. On this day, Mokshadayini Ganga is also worshiped.

By bathing in any river on the day of Ganga Dussehra, by donating and offering tarpan, man is freed from at least ten sins committed unknowingly. The name of this date has been named Ganga Dussehra only after the abolition of these ten sins.

How to do Ganga Dussehra fast?
❀ The fast of Ganga Dussehra is observed to please Bhagwan Vishnu.
❀ Bhagwan Vishnu is worshiped on this day.
❀ On this day, people observe fast and leave water (after sacrificing water).
❀ Hears the story of Gyaras (Ekadashi) and the next day people perform charity.
❀ On this day, by donating water and then drinking water, devotees complete their fast.
❀ On this day, devotees donate things like banana, coconut, pomegranate, betel nut, melon, mango, water filled surai, hand fan etc.
❀ During bathing on the Ganga Dussehra, one should chant the mantra ‘ऊँ नम: शिवाय नारायण्यै दशहराय गंगाय नम:’. After this, chant the mantra ‘ ऊँ नमो भगवते ए ह्रीं श्रीं हिलि हिलि मिलि मिलि गंगे मां पावय स्वाहा’and offer 10 flowers while chanting. The number of materials used in worship should be 10. Like 10 Diyas, 10 kinds of flowers, 10 kinds of fruits etc.

हर हर गंगे!

यह भी जानें

Blogs Ganga Ji BlogsGanga Dussehra BlogsJyeshtha Shukla Dashami Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

सावन शिवरात्रि विशेषांक 2021

जानें! सावन की शिवरात्रि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ एवं सम्वन्धित प्रेरक तथ्य..

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2021

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Wednesday, 4 August 2021 कामिका एकादशी व्रत कथा - Kamika Ekadasi Vrat Katha

शकुनि से जुड़ी कुछ जानकारियाँ..

शकुनि के पिता, माता, पत्नी, बेटे का क्या नाम था? युद्ध में सहदेव ने वीरतापूर्वक युद्ध करते हुए शकुनि और उलूक को घायल कर दिया और देखते ही देखते उलूक का वध दिया।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी विशेषांक 2021

आइए जानें! श्री कृष्ण जन्माष्टमी से जुड़ी कुछ जानकारियाँ, प्रसिद्ध भजन एवं सम्वन्धित अन्य प्रेरक तथ्य..

क्यों मनाई जाती है गुरु पूर्णिमा?

24 जुलाई, 2021 को गुरु पूर्णिमा मनाया जाएगा। गुरु पूर्णिमा का पबित्र पर्व आषाढ़ मास की पूर्णिमा तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार मनाया जाता है। भारत में इस दिन को बड़ी श्रद्धा के साथ गुरु की पूजा की जाती है।

विविध: आर्य समाज के नियम

ईश्वर सच्चिदानंदस्वरूप, निराकार, सर्वशक्तिमान, न्यायकारी, दयालु, अजन्मा, अनंत, निर्विकार, अनादि, अनुपम, सर्वाधार, सर्वेश्वर, सर्वव्यापक, सर्वांतर्यामी, अजर, अमर, अभय, नित्य, पवित्र और सृष्टिकर्ता है, उसी की उपासना करने योग्य है।

बिश्नोई पन्थ के उनतीस नियम!

बिश्नोई पन्थ के उनतीस नियम निम्नलिखित हैं: तीस दिन सूतक, पांच ऋतुवन्ती न्यारो। सेरो करो स्नान, शील सन्तोष शुचि प्यारो॥...

मंदिर

🔝