पवित्र कार्तिक मास में क्या करें? (What to do in Pavitra Kartik Maas?)

कार्तिक मास (माह) हिंदुओं के लिए सबसे पवित्र महीना है, इस महीने की अधिष्ठात्री देवी श्रीमती राधारानी हैं। इस महीने हम जो भी आध्यात्मिक गतिविधि करते हैं, वह श्रीमती राधारानी को प्रसन्न करने वाली होती है। और राधा प्रसन्न हों तो भगवान श्रीकृष्ण प्रसन्न होते हैं। इस वर्ष कार्तिक मास (कार्तिक मास) 2021 20 अक्टूबर से प्रारंभ होकर 19 नवंबर को समाप्त होगा

पौराणिक कथा:
स्कन्द पुराण के अनुसार "जिस प्रकार सतयुग युगों में सबसे अच्छा है, जैसे शास्त्रों में वेद सर्वश्रेष्ठ हैं, जैसे गंगा नदियों में सबसे अच्छी है, वैसे कार्तिक महीनों में सबसे अच्छा है, भगवान श्री कृष्ण को सबसे प्रिय है"। भगवान श्री कृष्ण कहते हैं, "सभी पौधों में, पवित्र तुलसी मुझे सबसे प्रिय है; सभी महीनों में कार्तिक सबसे प्रिय है, सभी तीर्थों में, मेरी प्रिय द्वारिका सबसे प्रिय है, और सभी दिनों में, एकादशी सबसे प्रिय है। ” (पद्म पुराण, उत्तराखण्ड ११२.३)

इस महीने को दामोदर मास के नाम से भी जाना जाता है।

इस पवित्र महीने में क्या करें:
❀ 16 माला जाप करें:
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे
❀ कार्तिक मास में दीपक जलाएं, लाखों जन्मों के पाप पलक झपकते ही नष्ट हो जाते हैं। भले ही कोई मंत्र न हो, कोई पवित्र कर्म न हो, और कोई पवित्रता न हो, कार्तिक के महीने में दीपक चढ़ाने से सब कुछ सही हो जाता है।
दामोदर अष्टकम पढ़ें। श्रीमद्भागवतम, भगवद गीता या श्रील प्रभुपाद की कोई भी पुस्तक प्रतिदिन पढ़ें।
❀ मंदिर जाने की कोशिश करें और भक्तों के साथ भगवान को दीप चढ़ाने में भाग लें। मंदिर में देवताओं को जप, गायन, नृत्य और दीपक अर्पित करना हमेशा बहुत प्रसन्न होता है और हमारे दिलों में खुशी लाता है।
❀ इस महीने में कोशिश करें कि केवल प्रसाद यानी भगवान को अर्पित किया गया भोजन ही खाएं।
❀ अपनी क्षमता के अनुसार गरीबों को दान करें।
❀ पवित्र तुलसी के पौधे की पूजा करें।

यदि हम शास्त्रों के अनुसार शुभ कार्तिक मास का पालन करें तो हमें अपने आध्यात्मिक जीवन में सफलता प्राप्त होगी। हम कृष्ण और राधारानी की कृपा को आकर्षित करेंगे।

What to do in Pavitra Kartik Maas? in English

Kartik maas (month) is the holiest month for Hindus, this month’s Adhistatri Devi is Srimati Radharani.
यह भी जानें

Blogs Kartik BlogsKartik Maas BlogsHindu Pavitra Maas BlogsDeepdan Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

अधूरा पुण्य

दिनभर पूजा की भोग, फूल, चुनरी, आदि सामिग्री चढ़ाई - पुण्य; पूजा के बाद, गन्दिगी के लिए समान पेड़/नदी के पास फेंक दिया - अधूरा पुण्य

प्रसिद्ध स्कूल प्रार्थना

भारतीय स्कूलों में विद्यार्थी सुवह-सुवह पहुँचकर सबसे पहिले प्रभु से प्रार्थना करते है, उसके पश्चात ही पढ़ाई से जुड़ा कोई कार्य प्रारंभ करते हैं। इसे साधारण बोल-चाल की भाषा में प्रातः वंदना भी कहा जाता है।

जगन्नाथ मंदिर प्रसाद को 'महाप्रसाद' क्यों कहा जाता है?

जगन्नाथ मंदिर में सदियों से पाया जाने वाला महाप्रसाद लगभग 600-700 रसोइयों द्वारा बनाया जाता है, जो लगभग 50 हजार भक्तों के बीच वितरित किया जाता है।

एकादशी के दिन क्या करें?

हिंदू चंद्र कैलेंडर के अनुसार एकादशी चंद्र चक्र का ग्यारहवां दिन है, यह दिन भगवान विष्णु को समर्पित है, जो पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखते हैं और संरक्षित करते हैं, भक्त एक दिन का उपवास रखते हैं ।

रुद्राभिषेक क्या है ?

अभिषेक शब्द का शाब्दिक अर्थ है – स्नान कराना। रुद्राभिषेक का अर्थ है भगवान रुद्र का अभिषेक अर्थात शिवलिंग पर रुद्र के मंत्रों के द्वारा अभिषेक करना।

भगवान श्री विष्णु के दस अवतार

भगवान विष्‍णु ने धर्म की रक्षा हेतु हर काल में अवतार लिया। भगवान श्री विष्णु के दस अवतार यानी दशावतार की प्रामाणिक कथाएं।

पवित्र कार्तिक मास में क्या करें?

कार्तिक मास (माह) हिंदुओं के लिए सबसे पवित्र महीना है, इस महीने की अधिष्ठात्री देवी श्रीमती राधारानी हैं।

Download BhaktiBharat App