Navratri
Chaitra Navratri Specials 2024 - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Shiv Chalisa -

माता गंगा की मूर्ति पूजा क्यों वर्जित है जबकि गंगा जल शुभ है? (Why Idol Worship of Mata Ganga is Prohibited while Ganga Water is Auspicious?)

गंगाजल को हिन्दू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। इसलिए इसे घर में रखने की सलाह दी जाती है, लेकिन फिर मां गंगा की मूर्ति को घर में रखने की मनाही क्यों है। माता गंगा को हिन्दू धर्म में पवित्र, पूजनीय और माता माना गया है। इसलिए गंगा स्नान से लेकर घर में गंगाजल रखने तक को महत्वपूर्ण और लाभकारी बताया गया है।
❀ शास्त्रों के अनुसार माता गंगा नदी हैं और नदी का स्वभाव है बहना, ऐसे में अगर घर में माता गंगा की मूर्ति रखी जाए तो यह प्रवाह दिखाती है। यानी घर में कुछ भी स्थिर नहीं है, सब कुछ अस्थिर और प्रवाहमान है।
❀ शास्त्रों में भी 6 इंच से बड़ी दिव्य मूर्ति को घर में रखना वर्जित माना गया है। जबकि छोटी मूर्ति रखना मां गंगा के स्रोत या आकार में बाधा डालने जैसा है। ऐसे में घर की सुख-समृद्धि, शांति, ऐश्वर्य, धन, उन्नति आदि सभी में बाधा आएगी।
❀ इसके लावे के कारण यह भी माना जाता है कि मां गंगा एक श्रापित नदी है। माता गंगा को मलिन होने का श्राप मिला है। हालांकि गंगा के पानी को पवित्र माना जाता है। वास्तव में गंगाजल जल का रूप है इसलिए पवित्र है।
❀ लेकिन मां गंगा की मूर्ति देवी के रूप में है इसलिए इसे घर में रखना अशुभ होता है। ऐसा माना जाता है कि मां गंगा सभी लोगों के पापों को धो देती हैं। उनकी मूर्ति को घर में रखने का मतलब है कि आपके घर में सबके पाप हैं। ऐसे में दूसरों के पापों का फल आपको भी भुगतना पड़ सकता है।

इसलिए घर में गंगाजल रखना शुभ होता है और गंगा की मूर्ति रखना वर्जित है। इसलिए घर में मां गंगा की मूर्ति नहीं रखते हैं।

Why Idol Worship of Mata Ganga is Prohibited while Ganga Water is Auspicious? in English

Gangajal is considered very sacred in Hindu religion. That's why it is advised to keep it in the house, but then why it is prohibited to keep the idol of Maa Ganga in the house. Mother Ganga is considered holy, worshipable and mother in Hindu religion. That's why from Ganga bath to keeping Ganga water in the house has been said to be important and beneficial.
यह भी जानें

Blogs Ganga Dussehra BlogsMata Ganga BlogsGanga Jal BlogsGanga Snan Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

चैत्र नवरात्रि विशेष 2024

हिंदू पंचांग के प्रथम माह चैत्र मे, नौ दिनों तक चलने वाले नवरात्रि पर्व में व्रत, जप, पूजा, भंडारे, जागरण आदि में माँ के भक्त बड़े ही उत्साह से भाग लेते है। Navratri Dates 9 April 2024 - 16 April 2024

वैशाख मास 2024

वैशाख मास पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में दूसरा महीना होता है। यह महीना ग्रेगोरियन कैलेंडर में अप्रैल और मई के साथ मेल खाता है। आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र में इसे दूसरे महीने के रूप में गिना जाता है। गुजराती कैलेंडर में, यह सातवां महीना है। पंजाबी, बंगाल, असमिया और उड़िया कैलेंडर में वैशाख महीना पहला महीना है।

तिलक लगाने के पीछे क्या कारण है?

तिलक लगाना हिंदू परंपरा में इस्तेमाल की जाने वाली एक विशेष रस्म है।

नवरात्रि में कन्या पूजन की विधि

नवरात्रि में विधि-विधान से मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इसके साथ ही अष्टमी और नवमी तिथि को बहुत ही खास माना जाता है, क्योंकि इन दिनों कन्या पूजन का भी विधान है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्रि में कन्या की पूजा करने से सुख-समृद्धि आती है। इससे मां दुर्गा शीघ्र प्रसन्न होती हैं।

पौष मास 2024

पौष मास, यह हिंदू महीना मार्गशीर्ष मास के बाद आता है, जो हिंदू कैलेंडर के अनुसार 10वां महीना है।

घटस्थापना 2024

घटस्थापना मंगलवार, 9 अप्रैल 2024 को मनाई जाएगी। यह 9 दिवसीय नवरात्रि उत्सव के दौरान पालन किया जाने वाला एक अनुष्ठान है।

नवरात्रि व्रत के भोजन और लाभ

खाद्य पदार्थ जिनका सेवन आप नवरात्रि के दौरान कर सकते हैं। यह आवश्यकता के अनुसार सही मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और विटामिन प्रदान करता है।

Hanuman Chalisa -
Ram Bhajan -
×
Bhakti Bharat APP