Download Bhakti Bharat APP

खाटू श्याम मंदिर - Khatu Shyam Mandir

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ खाटू श्याम प्रेमियों का सबसे पवित्र धाम।
◉ राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों मे से प्रमुख।
◉ फाल्गुन मेला का मुख्य केंद्र।

खाटू श्याम मंदिर को भगवान श्री कृष्ण के कलयुगी अवतार के रूप में जाना जाता है। खाटू श्याम मंदिर राजस्थान के सीकर जिले में स्थित है, जहां हर साल बड़ी संख्या में भक्त आते हैं। इस तीर्थ स्थल में कृष्ण और बर्बरीक पूज्य देवता हैं, जिन्हें अक्सर कुलदेवता के रूप में पूजा जाता है।

मूर्ति दुर्लभ पत्थर से बनी है। भक्तों का मानना ​​​​है कि मंदिर में बर्बरीक या खाटूश्याम का सिर है, जो एक महान योद्धा थे, जिसने कुरुक्षेत्र युद्ध के दौरान कृष्ण के अनुरोध पर अपना सिर बलिदान कर दिया था।

श्री श्याम मंदिर की स्थापना शिलालेख के अनुसार ज्येष्ठ शुक्ला 3 संवत 1777 के दिन रखी गई, फाल्गुन शुक्ला 7 संवत 1777 को श्री श्याम जी सिंहासन में विराजमान हुए

खाटू श्याम जी का प्रमुख पर्व:
खाटू श्याम धाम का फाल्गुन मेला काफी प्रसिद्ध है। इस मौके पर यहाँ बड़ी संख्या में श्रद्धालु निशान यात्रा मे सामिल होते हुए आते हैं तथा फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी (अर्थात आमलकी एकादशी) तिथि को फाल्गुन मेले का सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है। ऐसा माना जाता है कि खाटू बाबा के इस दिन दर्शन मात्र से भक्तों के जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं एवं बाबा श्याम सबकी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। कार्तिक शुक्ल एकादशी (अर्थात प्रबोधिनी एकादशी) को श्याम बाबा का जन्मदिवस मनाया जाता है।

निकटतम अन्य दर्शनीय स्थल:
पशुपतिनाथ मंदिर, सीता कुंड, करणी माता रींगस रोड, शीशम हनुमान जी, खंडेला दरबार प्राचीन महल फव्वारे, सीताराम मंदिर (रामद्वारा), प्राचीन शिव मंदिर, मंगल दास जी एवं गणेश दास जी की प्राचीन समाधि, खटवांग राजा का महल

प्रचलित नाम: श्री श्याम मंदिर, खाटू मंदिर

समय - Timings

दर्शन समय
ग्रीष्म: 4:30 - 12:30, 4:00 - 10:00 | शीत: 5:30 - 1:00, 5:00 - 9:00 | ग्यारस: 24 घंटे
4:45 AM: मंगला आरती
7:00 AM: श्रृंगार आरती
12:15 PM: भोग आरती
6:00 PM: संध्या आरती
9:00 PM: शयन आरती
त्योहार

पुराणिक कथा

खाटू श्याम बाबा से जुड़ी एक बेहद दिलचस्प घटना सुनने को मिलती है। ऐसा कहा जाता है कि जब महाभारत का युद्ध होना निश्चित था, तो एक वीर वनवासी ने अपनी माता से उस युद्ध में भाग लेने की अनुमति मांगी। माँ ने अनुमति देते हुए कहा- 'जाओ बेटा! हारने वाले का सहारा बनो।' उसने अपनी मां से वादा किया था कि वह हारे हुए व्यक्ति का समर्थन करेगा। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, वह बहादुर युवक भीम के पुत्र बर्बरीक और हिडिम्बा के पुत्र घटोत्कच थे। ऐसा माना जाता है कि श्री कृष्ण ने बर्बरीक को वरदान दिया था कि कलियुग में लोग उन्हें उनके अवतार के रूप में पूजेंगे।

श्री श्याम प्रभु के जयकारे

✽ हारे के सहारे
✽ खाटू नरेश
✽ तीन बाण धारी
✽ शीश के दानी
✽ नीले के असवार
✽ सेठों का सेठ खाटू नरेश
✽ लखदातार
✽ कलयुग के अवतारी
✽ दानवीर, सांवले सरकार
✽ श्रेष्ठ वीर
✽ जय जय बाबा श्याम

Khatu Shyam Mandir in English

Khatu Shyam Mandir is known as the Kalyugi avatar of Bhagwan Shri Krishna. Khatu Shyam Mandir is located in Sikar district of Rajasthan, which is visited by a large number of devotees every year.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
Shri Shyam Devalay

Shri Shyam Devalay

Shyam Kund

Shyam Kund

जानकारियां - Information

मंत्र
हारे का सहारा, बाबा श्याम हमारा ! ॐ श्री श्याम देवाय नमः !
बुनियादी सेवाएं
Prasad, RO Water, Water Cooler, Power Backup, Shoe Store, Washrooms, CCTV Security, Sitting Benches, Music System, Office, Parking
धर्मार्थ सेवाएं
श्याम बगीची, श्याम कुंड
संस्थापक
श्री कृष्ण
स्थापना
फाल्गुन शुक्ला 7 संवत 1777
देख-रेख संस्था
श्री श्याम मंदिर कमेटी
समर्पित
श्री खाटू श्याम
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Khatu Dham Khatoo Rajasthan
सड़क/मार्ग 🚗
Shri Shyam Mandir Road
रेलवे 🚉
Badhal, Kishan Manpura
हवा मार्ग ✈
Jaipur International Airport
वेबसाइट 📡
सोशल मीडिया
Download App YouTube Channel Facebook
निर्देशांक 🌐
27.364211°N, 75.403170°E
खाटू श्याम मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/khatu-shyam-mandir

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

हनुमान आरती

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं, जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम्॥ आरती कीजै हनुमान लला की । दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥..

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App