विवाह पंचमी | आज का भजन!

संतोषी माता मंदिर - Santoshi Mata Mandir


Oct 19, 2019 07:50 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📜 इतिहास | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


हरि नगर के पवित्र माँ संतोषी मंदिर की स्थापना 3 जुलाई 1981 को सतगुरु श्री शमशेर बहादुर सक्सेना जी और उनकी पत्नी सतगुरु माँ श्रीमती कांता सक्सेना जी ने की थी। हरि नगर का मंदिर जोधपुर संतोषी माता मंदिर की प्रेरणा से स्थापित किया गया है। जो पहाड़ों से घिरी अति पुरानी लाल सागर नामक प्रसिद्ध झील में स्थित है।

मंदिर के गर्भग्रह में तीन देवियाँ क्रमश माँ वैष्णो, माँ संतोषी तथा माँ सरस्वती विराजमान हैं। इन तीनों देवियों की सेवा में निरंतर तत्पर श्री हनुमंत लाल गर्भग्रह के बाँये द्वार पर उपस्थित हैं। मंदिर में तीन देवियों का एक साथ गर्भग्रह मे होना, मुंबई तथा पुणे की महालक्ष्मी मंदिरों से समान ही जान पड़ता है।

श्री माता वैष्णो देवी जी को तीन सर्वोच्च ऊर्जाओं अर्थात माँ महाकाली, माँ महालक्ष्मी एवं माँ महासरस्वती का एक अवतार माना जाता है। माँ संतोषी की अष्टधातु मूर्ति एशिया में अपनी ही तरह की सबसे बड़ी और विशाल मूर्ति है। भक्तजन माता के इस रूप के दर्शन केवल शुक्रवार और मंदिर के अन्य सभी त्यौहारों पर प्राप्त कर सकते हैं।

मंदिर में शुक्रवार शाम 6:00 बजे तथा रविवार सुबह 9:00 बजे देवी संतोषी की एवं मंगलवार शाम 6:00 बजे देवी वैष्णो की चौकी का आयोजन होता है, जिसके अंतर्गत माँ का भक्तों के साथ संवाद स्थापित होता है।

मंदिर में सभी भक्तों के लिए प्रत्येक मंगलवार, शुक्रवार और रविवार को भंडारे का आयोजन किया जाता है। नवरात्रि के समय मंदिर 24 घंटे भक्तों के दर्शन के लिए खुला रहता है।

संतोषी माता का उद्यापन करने के लिए अत्यंत शुद्धता एवं स्वच्छता की आवश्यकता होती है। अतः इस शुद्धता एवं स्वच्छता को बनाए रखने हेतु, संतोषी माता मंदिर में माता के व्रत उद्यापन का सुविधा प्रारंभ की जा चुकी है। जो भगतजन मां संतोषी के व्रत का उद्यापन करना चाहते हैं वह मंदिर से ही निर्मित सामग्री प्राप्त कर सकते हैं। इच्छुक भगत जन निम्नलिखित नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं। श्री के.के. बत्रा 9811233765 | श्री आई.जे. अग्रवाल 9871894703

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • एशिया में माँ संतोषी के सबसे बड़े धातु विग्रह स्थापित।
  • दिल्ली का सबसे प्रसिद्ध संतोषी माता मंदिर।

समय सारिणी - Timings

दर्शन समय
5:00 AM - 12:00 PM, 5:00 - 10:00 PM; 24*7 During Navratri
5:00 - 6:00 AM: सुवह आरती
5:00 - 6:00 PM: संध्या आरती
त्यौहार

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

BhaktiBharat.com

Santoshi Mata Mandir in English

Hari Nagar Maa Santoshi Mandir was founded on 3rd July 1981 by holiness Satguru Shri Shamsher Bahadur Saxena Ji and his wife Satguru Maa Mrs. Kanta Saxena Ji.

जानकारियां - Information

धाम
L-R: Shri HanumanGarbh Grah>> Maa VeshnoMaa SantoshiMaa SarswatiGuru And Guru Mata Infront Garbh GrahShivalay>> Shri Chitragupt JiMaa GayatriShri Gauri ShankarShivling with GanMaa SeetalaShri Laxmi NarayanMaa VeshnoShri Radha KrishnaShani Dham with Old Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, RO Water, Water Cooler, Power Backup, Shoe Store, Washrooms, Parking, CCTV Security, Sitting Benches, Music System, Prasad Shop, Office, 24*7 Security, Cloak Room, X-Ray Baggage Inspection Systems, Door Frame Metal Detectors
धर्मार्थ सेवाएं
धर्मशाला, श्री संशेर बहादुर सक्सेना चिकित्सालय, सत्संग हॉल, गौशाला, रोहतक इन्स्टिट्यूट ऑफ इंजि
संस्थापक
श्री शमशेर बहादुर सक्सेना जी
स्थापना
3 जुलाई 1981
समर्पित
संतोषी माता
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध - Timeline

29 February 1984

मंदिर मे शिवालय की स्थापना।

3 July 1981

माँ वैष्णो, माँ संतोषी एवं माँ सरस्वती स्थापना।

9 February 1998

एशिया में माँ संतोषी के सबसे बड़े धातु विग्रह की स्थापना।

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
GC 28, G Block, Hari Nagar, Pocket G, Hari Nagar Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Jail Road >> Santoshi Maata Roa
रेलवे 🚉
New Delhi
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Yamuna
वेबसाइट 📡
http://www.shrisantoshimatamandir.com/
facebook
Santoshi-Mata-Mandir-Hari-Nagar-2183135561930174
निर्देशांक 🌐
28.625560°N, 77.100687°E
संतोषी माता मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/santoshi-mata-mandir-hari-nagar

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामचन्द्र जी।

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

top