प्राचीन श्री शिव हनुमान मंदिर - Prachin Shri Shiv Hanuman Mandir

प्राचीन श्री शिव हनुमान मंदिर (Prachin Shri Shiv Hanuman Mandir) - Hasanpur Depot, IP Extension Patapadganj, New Delhi - 110092 Delhi New Delhi

सूचना: 🦠COVID-19 के प्रसार की रोकथाम हेतु देशव्यापी लाक-डाउन किया गया है। अतः सभी मंदिर भक्तों के दर्शन के लिए बंद किए गये हैं, परंतु मंदिर की सभी पूजाएँ, मंदिर के पुजारियों द्वारा विधिवत चलाई जराहीं हैं। भारत सरकार के अगले आदेश आने तक, मंदिर की सभी पूजाएँ और अन्य कार्यक्रम भक्तों के लिए निर्देशित नहीं हैं। घर मे रहें, और सुरक्षित रहें। 🧴🤲

प्राचीन श्री शिव हनुमान मंदिर (Prachin Shri Shiv Hanuman Mandir) is established by the government employee of Hasanpur Depot New Delhi. Temple is so closely attached with bus depot that looks like the part this organization.

समय - Timings

जानकारियां - Information

धाम
Shivling with GanNavgrah DhamShri Sai BabaShri Sinduri HanumanShri Ram DarbarMaa DurgaShri Radha KrishnaMaa Kali
Maa TulsiPeepal TreeBanana TreeVat Vriksh
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Sitting Benches
समर्पित
Shri Shiv and Hanuman
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Hasanpur Depot, IP Extension Patapadganj, New Delhi - 110092 Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Bhartendu Harish Chandra Marg / Vikas Marg >> Swami Dayanand Marg
निर्देशांक 🌐
28.635794°N, 77.3068°E
प्राचीन श्री शिव हनुमान मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/shiv-hanuman-mandir-hasanpur-depot

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री गंगा मैया जी

ॐ जय गंगे माता श्री जय गंगे माता। जो नर तुमको ध्याता मनवांछित फल पाता॥ हर हर गंगे, जय माँ गंगे...

माता श्री गायत्री जी की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता॥

आरती: ॐ जय जगदीश हरे!

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

🔝