करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

वैशाली कालीबाड़ी - Vaishali Kalibari


updated: May 15, 2019 08:05 AM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | ♡ मुख्य आकर्षण | 📜 इतिहास | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


वैशाली कल्चरल एसोसिएशन द्वारा किए गये दिव्य प्रयासों का परिणाम है वैशाली कालीबाड़ी। प्रत्येक अमावस्या दान के लिए एक विशेष दिन है, अतः यह अमावस्या के दिन मंदिर में विभिन्न आयोजन किए जाते हैं। कालीबाड़ी के प्रमुख त्यौहार दुर्गा पूजा, कृष्ण जन्मोत्सव और त्रिकालदर्शी महायोगी बाबा लोकनाथ ब्रह्मचारी का जन्मदिन है।

प्रचलित नाम: वैशाली काली मंदिर

मुख्य आकर्षण

  • बंगाली और सनातन धर्म सांस्कृतिक गतिविधियों का केंद्र।
  • बाबा लोकनाथ ब्रह्मचारी की प्रार्थना के लिए एक पवित्र स्थान।

समय सारिणी

दर्शन समय
6:00 AM - 12:00 PM, 5:00 PM - 9:00 PM
6:30 AM: मंगला आरती
12:00 PM: भोग आरती
7:30 PM: संध्या आरती
त्यौहार
Durga Puja, Navratri, Diwali, Tirodhan Dibosh, Shivaratri, Hanuman Jayanti, Shani Jayanti, Guru Purnima, Ganeshotsav, Janmashtami, valmiki-jayanti|Kojagari Lakshmi Puja, Amavasya Pooja, Sarswati Pooja, Diwali|Kali Puja | Read Also: नवरात्रि

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Legendary Baba Baba Lokenath Ji near Shivling.

Legendary Baba Baba Lokenath Ji near Shivling.

Lord Hanuman with Shri Ram Pariwar renovated on Chaitra Navratri 2017.

Lord Hanuman with Shri Ram Pariwar renovated on Chaitra Navratri 2017.

Shri Shani Dham along with Navgrah Dham in the outer boundary.

Shri Shani Dham along with Navgrah Dham in the outer boundary.

Primary enry gate of the temple with welcome message.

Primary enry gate of the temple with welcome message.

Vaishali Kalibari - Available in English

True divine efforts of Vaishali Cultural Association Vaishali Kalibari. Every amavsya is a special day for daan.

जानकारियां

धाम
Prayer Hall: Maa SarswatiBaba Lokenath BrahmachariShivling with GanMaa KaliMaa SherawaliShri Lakxmi NarayanShri Radhe KrishnOuter Circle>> Shri Sai MaharajShri NavgrahdhamShri Shani MaharajSinduri Shri HanumanShri Ram PariwarShri GaneshMaa TulsiPeepal Tree
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Drinking Water, Water Cooler, Office, Shose Store, CCTV Security
संस्थापक
अक्टूबर 2002
स्थापना
वैशाली कालीबाड़ी मंदिर सोसायटी एसोसि
देख-रेख संस्था
वैशाली कालीबाड़ी मंदिर सोसायटी एसोसिएशन
समर्पित
माँ काली
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

क्रमवद्ध

Around 1994

वैशाली कल्चरल एसोसिएशन ने 1994 से वैशाली सेक्टर -5 वैशाली में दुर्गा पूजा की शुरुआत की, बाद में वैशाली कालीबाड़ी मंदिर सोसायटी एसोसिएशन के रूप में आकार लिया।

October 2002

मंदिर प्राण प्रतिष्ठा: दुर्गा पूजा 2002 के दौरान वैशाली कालीबाड़ी का सपना पूर्ण हुआ।

March 2017

चैत्र नवरात्रि 2017 पर श्री हनुमान मंदिर का नवीनीकरण।

7 May 2019

अक्षय तृतीया पर नये श्री राधा कृष्ण धाम की स्थापना।

कैसे पहुचें

पता 📧
Sector-4, Vaishali Ghaziabad Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Madan Mohan Malviya Marg >> Harshvardhan Marg >> Yashoda Marg
रेलवे 🚉
Anand Vihar
हवा मार्ग ✈
Indira Gandhi International Airport, New Delhi
नदी ⛵
Hindon, Yamuna
निर्देशांक 🌐
28.645293°N, 77.338556°E
वैशाली कालीबाड़ी गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/vaishali-kalibari

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top