Navratri
Chaitra Navratri Specials 2024 - Follow Bhakti Bharat WhatsApp Channel - Hanuman Chalisa - Hanuman Chalisa -

काशी: काशी में रविदास जयंती 2024 भव्य तरीके से मनाई जाएगी (Kashi: Ravidas Jayanti 2024 Will Be Celebrated in a Grand Manner in Kashi)

काशी: काशी में रविदास जयंती 2024 भव्य तरीके से मनाई जाएगी
काशी में संत रविदास के मंदिर में भव्य अंदाज में रविदास जयंती मनाने की तैयारी की गई है। संत रविदास के मंदिर को स्वर्णिम बनाने का संकल्प अब पूर्णता की ओर बढ़ रहा है। बनारस के दूसरे स्वर्ण मंदिर के नाम से मशहूर संत रविदास के मंदिर की चौखट से लेकर शिखर तक सोने की आभा दिखाई देती है।
रविदास मंदिर की चौखट, दरवाजे, सुनहरे शिखर के साथ-साथ संत की पालकी और दीपक भी सोने से बने हैं। रविदास मंदिर में उनकी प्रतिमा के सामने जलने वाला दीपक सोने का बना हुआ है। इसमें एक अखंड दीपक जलता है और इस दीपक की कीमत करोड़ों में है। भक्तों ने अपने दान से गुरु की जन्मस्थली पर भव्य मंदिर बनवाया और उसे सोने से भी सजाया जा रहा है। मंदिर के गर्भगृह के प्रवेश द्वार को पिछले साल ही सोना चढ़ाया गया था। चौखट और दरवाजे पर सोने की परत चढ़ाई गई है। संत रविदास मंदिर में 130 किलो सोने की पालकी रखी हुई है। पालकी का निर्माण यूरोप के शिष्यों द्वारा किया गया था। इस पालकी को वर्ष में एक बार जन्मोत्सव पर मंदिर तक ले जाया जाता है।

Kashi: Ravidas Jayanti 2024 Will Be Celebrated in a Grand Manner in Kashi in English

Ravidas Jayanti 2024 will be celebrated in a grand manner in the temple of Saint Ravidas, famous as the second Golden Temple of Banaras.
यह भी जानें

News Ravidas Jayanti 2024 NewsSanth Ravidas News130 Kg Gold NewsKashi Vishwanath Temple NewsJyotirling Adi Vishweshwar NewsHindu Temple NewsGyanvapi Campus NewsAdi Vishweshwar News

अगर आपको यह हिंदी न्यूज़ पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

Whatsapp Channelभक्ति-भारत वॉट्स्ऐप चैनल फॉलो करें »
इस हिंदी न्यूज़ को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

उज्जैन समाचार: भस्मारती में बाबा महाकाल का त्रिनेत्र श्रृंगार किया गया

चैत्र शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि पर विश्व प्रसिद्ध श्री महाकालेश्वर मंदिर में तड़के भस्म आरती के दौरान बाबा महाकाल का त्रिनेत्र और मुंड माला से श्रृंगार किया गया।

रामनवमी पर सूर्य की किरणों से होगा रामलला का तिलक

अयोध्या में रामनवमी पर सूर्य की किरणों से होगा रामलला का तिलक।

बिजासन देवी मंदिर मध्य प्रदेश: मन्नत पूरी होने पर माता को अर्पित किए जाते हैं पीतल के घंटे

बिजासन देवी मंदिर में मनोकामना पूरी होने पर माता को चढ़ाई जाती हैं पीतल की घंटियां।

राजस्थान जोधपुर: नवरात्रि के पहले दिन ईडाणा माता का अग्नि स्नान

राजस्थान के जोधपुर जिले के मेहरानगढ़ में ऐतिहासिक ईडाणा माता का मंदिर है। मां ईडाणा साल के दोनों नवरात्रि के दिनों में अग्नि स्नान करती हैं।

बाबा खाटू श्याम को आखिर गुलाब क्यों अर्पित करते हैं?

हर दिन बाबा खाटू श्याम का विशेष श्रृंगार और आरती की जाती है। भक्त बाबा श्याम को गुलाब के फूल भी चढ़ाते हैं।

गर्मी से बचने के लिए रामलला पांच बार सोने की कटोरी में मधुपर्क ले रहे हैं

गर्मी के मौसम को देखते हुए रामलला के प्रसाद में मधुपर्क को शामिल कर लिया गया है।

चैत्र नवरात्रि पर सुगम विंध्याचल दर्शन

चैत्र नवरात्रि में मां विंध्यवासिनी के कपाट 24 घंटे खुले रहेंगे और आरती के समय मंदिर बंद रहेगा।

Hanuman Chalisa -
Hanuman Chalisa -
×
Bhakti Bharat APP