रंगजी मंदिर - Sri Rangji Mandir

श्री रंगजी मंदिर कांचीपुरम के वरदराज पेरुमाल मंदिर की वास्तुकला से प्रेरित है। मंदिर की वास्तुकला दक्षिण और उत्तर भारतीय मंदिरों के वास्तुकला का मिश्रण प्रयास है।

ब्रह्मोत्सव 2021: इस वर्ष श्री रंगजी मंदिर 26 मार्च 2021 से 4 अप्रैल 2021 तक अपना वार्षिक श्री ब्रह्मोत्सव मनाएगा।

श्री रंगजी मंदिर का स्थापना सन् 1851 में श्री रंगादिक स्वामीजी के प्रयासों से हुई थी। श्री गोवर्धन पीठ के वर्तमान प्रमुख श्री गोवर्धन रंगाचार्य, श्री रंगादिक स्वामीजी की पांचवीं पीढ़ी के संत हैं।

मंदिर मे दर्शन अथवा भ्रमण से पहले, मंदिर द्वारा दिए गये दिशा निर्देशों का अवलोकन अवश्य करें। मंदिर मे मूल विग्रह की तस्वीरें लेने की अनुमति नहीं है, जबकि आप यात्रा के दौरान अर्च-विग्रह की तस्वीरें ले सकते हैं। श्री रंगजी मंदिर किसी भी प्रकार के किसी भी गाइड की सुविधा नहीं देता है।

प्रचलित नाम: श्री रंगजी मंदिर

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

◉ 284 स्तंभों पर मंदिर का निर्माण।
◉ श्री पुष्करणी कुंड, बारहद्वारी और दो तरफा प्रवेश द्वार।

यह भी जानें - Read Also

समय - Timings

दर्शन समय
Summer : 5:30 - 11:00 AM, 4:00 - 9:00 PM; Winter: 5:30 AM - 12:00 PM, 3:00 - 9:00 PM
5:30 AM: मंगला आरती और विश्वरूप दर्शन
6:30 - 7:30 AM: दिव्य आराधना
8:00 - 9:00 AM: भोग प्रसाद वितरण
11:00 AM - 12:00 PM: दर्शन
6:00 PM: सर्दी: संध्या आरती
6:30 PM: शीतकाल: संध्या आरती
7:00 PM: संध्या भोग प्रसाद वितरण
7:30 PM: रात्रि आराधना
8:30 PM: रात्रि भोग
त्यौहार
Hanuman Jayanti, Janmashtami, Holi, Radhashtami, Rakshabandhan, Ram Navami, Navratri, Diwali, Sharad Poornima, Makar Sankranti, Vasant Panchami, Brahmotsav, Vaikunth Ekadashi | यह भी जानें: एकादशी 2021

श्री रंगदेशिक स्वामीजी के बारे में

Sri Rangadeshik Swamiji was born in the year 1809 A.D to Sri Srinivasacharyaji and his wife Ranganayaki devi at a small village called Arahan near present day Sriperumbudoor. He also had two brothers by the names of Sri Parthasarthy and Sri Venkatacharya. He lost both his parents at a very tender age and was brought up by his maternal grandparents.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
रंगजी मंदिर

रंगजी मंदिर

श्री पुष्करणी कुंड

श्री पुष्करणी कुंड

बारहद्वारी

बारहद्वारी

पूर्वी द्वार

पूर्वी द्वार

रंगजी मंदिर

रंगजी मंदिर

रंगजी मंदिर

रंगजी मंदिर

Please don`t smear the temple walls and don`t throw garbage inside the temple premises A garbage bin is located in the outer periphery for disposing of waste.

Please don`t smear the temple walls and don`t throw garbage inside the temple premises A garbage bin is located in the outer periphery for disposing of waste.

Sri Rangji management has no arrangement with any guide. The guides are known to mislead devotees by giving them incorrect information and then try to extract money from them. Please be careful of these guides and in case of any clarifications regarding temple activities  please contact any employee of the temple or at the office of manager of SriRangji temple trust.

Sri Rangji management has no arrangement with any guide. The guides are known to mislead devotees by giving them incorrect information and then try to extract money from them. Please be careful of these guides and in case of any clarifications regarding temple activities please contact any employee of the temple or at the office of manager of SriRangji temple trust.

No weapons are allowed inside the temple. Try to maintain silence in the temple, particularly during the puja. Maintain order and decorum when the prasadam is being distributed.

No weapons are allowed inside the temple. Try to maintain silence in the temple, particularly during the puja. Maintain order and decorum when the prasadam is being distributed.

Sri Rangji Mandir in English

श्री रंगजी मंदिर (Sri Rangji Mandir) inspiration architecture of Sri Varadaraja Temple, Kanchipuram. The mix efforts of south and north Indian temple architecture.

जानकारियां - Information

धाम
Sri RaghunathjiSri Vaikunth DwarSri Goverdhan Peeth
बुनियादी सेवाएं
Offerings Sewa, Prasad, Drinking Water, Shoe House, Shops, Parking
धर्मार्थ सेवाएं
Free Ayurvedic Dispensary, Sanskrit Maha Vidyalaya, Gaushala, Library having manuscripts, Guest Houses (For Booking: +91-565-2442787)
संस्थापक
श्री रंगदेशिक स्वामीजी
स्थापना
1851
देख-रेख संस्था
श्री रंगजी मंदिर ट्रस्ट
समर्पित
भगवान रंगनाथ / विष्णु
वास्तुकला
चोला, पाण्ड्या
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

क्रमवद्ध - Timeline

1845

मंदिर के लिए निर्माण कार्य।

1851

श्री रंगनाथ जी मंदिर का उद्घाटन।

1867

मंदिर की देखभाल के लिए श्री रंगजी ट्रस्ट कार्य कर रहा है।

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Goda Vihar Vrindavan Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
Parikrama Marg / Bhaktivedanta Swami Marg >> NH2-Bhuteshwar Road / Mathura Vrindavan Marg
रेलवे 🚉
Vrindavan, Mathura
हवा मार्ग ✈
Agra, New Delhi, Jaipur
नदी ⛵
Yamuna
वेबसाइट 📡
निर्देशांक 🌐
27.582283°N, 77.702359°E
रंगजी मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/rangji-mandir

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: श्री गंगा मैया जी

ॐ जय गंगे माता श्री जय गंगे माता। जो नर तुमको ध्याता मनवांछित फल पाता॥ हर हर गंगे, जय माँ गंगे...

श्री खाटू श्याम जी आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे, बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥

आरती: श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं..

श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं, हे गिरिधर तेरी आरती गाऊं।...

🔝