Hanuman Chalisa

बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे - भजन (Bandha Tha Draupadi Ne Tumhe Char Taar Main)


बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे - भजन

बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे,
चार तार में ।
खूब जान लिया बाँधा,
एक पुष्प-हार में ॥

बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे,
चार तार में ।
खूब जान लिया बाँधा,
एक पुष्प-हार में ॥

वृंदा ने प्रेम डोर से,
बाँधा था तुम्ही को ।
वृषभानु किशोरी ने,
तुम्हे एक प्यार में ॥
॥ बाँधा था द्रौपदी ने..॥

बाँधा था तुम्हे साग खिला,
भक्त विधुर ने ।
गणिका ने सुना राम,
बड़ों की पुकार में॥
॥ बाँधा था द्रौपदी ने..॥

बाँधा था पवन पुत्र ने,
बूटी के बाण में ।
केवट ने लिया बाँधा,
पद पखार में ॥
॥ बाँधा था द्रौपदी ने..॥

दो अक्षरों के नाम से,
प्रह्लाद ने बाँधा ।
सबरी ने लिया बाँधा,
तुम्हे बैर चार में ॥
॥ बाँधा था द्रौपदी ने..॥

सदना ने रखा प्रेम,
तराजू में पकड़कर ।
किस अधम ने रखा है,
आंशुओं की धार में ॥
॥ बाँधा था द्रौपदी ने..॥

बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे,
चार तार में ।
खूब जान लिया बाँधा,
एक पुष्प-हार में ॥

Bandha Tha Draupadi Ne Tumhe Char Taar Main in English

Bandha Tha Draupadi Ne Tumhe, Char Taar Mein । Khoob Jaan Liya Bandha, Ek Pushp-haar Mein
यह भी जानें

Bhajan Shri Ram BhajanShri KrishnaShri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanPhalguna BhajanIskcon BhajanShri Shyam BhajanRadha Krishna BhajanDraupadi Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया: भजन

ऐसा सुंदर स्वभाव कहाँ पाया, राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया । पर नारी पर दृष्टि न ड़ाली..

भजन: मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी..

मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी ना करना निराश, पग पग संग जाऊं जाऊं बनवास...

राम ही पार लगावेंगे: भजन

अजी मैं तो राम ही राम भजूँ री मेरे राम, राम ही पार लगावेंगे..

भजन: ओ मईया तैने का ठानी मन में

ओ मईया तैने का ठानी मन में, राम-सिया भेज दये री बन में, दीवानी तैने का ठानी मन में...

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी: भजन

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी, इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन..

माँ की लाल रे चुनरिया, देखो लहर लहर लहराए: भजन

माँ की लाल रे चुनरिया, देखो लहर लहर लहराए, माँ की नाक की नथनिया, दमदम दमदम दमकी जाए, माँ की लाल रे चुनरियाँ, देखो लहर लहर लहराए ॥

दुःख की बदली, जब जब मुझ पे छा गई: भजन

दुःख की बदली, जब जब मुझ पे छा गई, सिंह सवारी करके, मैया आ गई, वो आ गई वो आ गई, वो आ गई मेरी माँ, दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई, सिंह सवारी करके, मैया आ गई ॥

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App
not APP