गोविंद चले चरावन धेनु (Govind Chale Charaavan Dhenu)


गोविंद चले चरावन धेनु

गोविंद चले चरावन धेनु ।
गृह गृह तें लरिका सब टेरे
शृंगी मधुर बजाई बेनु ॥

सुरभी संग सोभित द्वै भैया
लटकत चलत नचावत नेंन ।
गोप वधू देखन सब निकसीं
कियो संकेत बताई सेंन ॥
ब्रजपति जब तें बन पाउँ धारे
न परत ब्रजजन पल री चैन ।
तजि गृह काज विकली सी डोलत
दिन अरि जाए हो एक बैन ।
जसोमति पाक परोसि कहति सखि
तूं ले जाउ बेगि इह देंन ।
गोविंद लिए बिरहनी दौरी,
तलफत जैसे जल बिनु मेंन ॥

गोविंद चले चरावन धेनु ।
गृह गृह तें लरिका सब टेरे
शृंगी मधुर बजाई बेनु ॥

पुस्तक: गोविंद स्वामी (पृष्ठ 41)
संपादक: कंठमणि शास्त्री 'विशारद'
रचनाकार: गोविंद स्वामी

Govind Chale Charaavan Dhenu in English

Govind Chale Charaavan Dhenu । Grh Grh Ten Larika Sab Tere Shrngi Madhur Bajai Benu ॥
यह भी जानें

BhajanShri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanShri Radha Krishna BhajanShri Radha Rani BhajanShri Shayam BhajanFalgun Mela BhajanGau BhajanGau Mata BhajanDhenu BhajanShri Rajendra Das Ji Maharaj Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: पूछ रही राधा बताओ गिरधारी

पूछ रही राधा बताओ गिरधारी, मैं लगु प्यारी या बंसी है प्यारी । गोकुल में छुप छुप के माखन चुरायो, ग्वाल वाल संग मिल बाँट के खायो...

भजन: क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी!

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी, अब तक के सारे अपराध। धो डालो तन की चादर को...

भजन: ओ सांवरे हमको तेरा सहारा है

ओ सांवरे हमको तेरा सहारा है, तेरी रहमतो से चलता, तेरी रहमतो से चलता मेरा गुजारा है..

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा!

भारत के लिए भगवन का, एक वरदान है गंगा, सच पूछो तो इस देश की पहचान है गंगा, हर हर गंगे, हर हर गंगे !

आज तो गुरुवार है, सदगुरुजी का वार है

आज तो गुरुवार है, सदगुरुजी का वार है। गुरुभक्ति का पी लो प्याला, पल में बेड़ा पार है ॥ 1 ॥

हमें गुरुदेव तेरा सहारा न मिलता

हमें गुरुदेव तेरा सहारा न मिलता । ये जीवन हमारा दुबारा न खिलता ॥

🔝