कृपा मिलेगी श्री राम जी की.. भजन (Bhajan: Kirpa Milegi Shri Ramji Ki)


कृपा मिलेगी श्री राम जी की.. भजन

किरपा मिलेगी श्री राम जी की,
भक्ति करो, भक्ति करो,
दया मिलिगी हनुमान जी की,
राम जपो, राम जपो,

दुष्ट दलन हनुमान है,
हनुमान मेरे,
जय हनुमान, जय हनुमान
पतित पावन राम है,
श्री राम मेरे,
जय सिया राम, जय सिया राम
मूरत रख श्री राम की,
मन ध्यान धरो,
ध्यान धरो, ध्यान धरो
भक्ति करो, भक्ति करो
॥ किरपा मिलेगी श्री राम जी...॥

सकल अमंगल हर लेंगे,
हनुमान मेरे,
जय हनुमान, जय हनुमान
तन मन पवन कर देंगे,
श्री राम मेरे,
जय सिया राम, जय सिया राम
शीश झुका कर चरणों में,
प्रणाम करो, प्रणाम करो
भक्ति करो, भक्ति करो
॥ किरपा मिलेगी श्री राम जी...॥

शंकर स्वयं केसरी नंदन,
जय हनुमान,
जय हनुमान, जय हनुमान
विष्णु रूप भगवन है.
मेरे श्री राम,
जय सिया राम, जय सिया राम
विष्णु महेश की लीला का,
गन गान करो,
गान करो, गान करो
भक्ति करो, भक्ति करो
॥ किरपा मिलेगी श्री राम जी...॥

राम से बड़े है भक्त राम के,
जय हनुमान,
जय हनुमान, जय हनुमान
जो नित राम की महिमा गावे,
जय सिया राम, जय सिया राम
अर्पित प्रभु पूजन में जीवन,
प्राण करो, प्राण करो
भक्ति करो, भक्ति करो
॥ किरपा मिलेगी श्री राम जी...॥

Bhajan: Kirpa Milegi Shri Ramji Ki in English

Kirpa Milegi Shri Ram Ji Ki, Bhakti Karo, Bhakti Karo, Daya Miligi Hanuman Ji Ki, Ram Japo, Ram Japo...
यह भी जानें

BhajanHanuman BhajanBalaji BhajanBajrangbali BhajanHanuman Janmotsav BhajanMangalwar BhajanTuesday Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की - माँ संतोषी भजन

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की। जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ: भजन

मन की मुरादें, पूरी कर माँ, दर्शन करने को मैं तो आउंगी। तेरा दीदार होगा, मेरा उधार होगा..

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं - माँ संतोषी भजन

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं, स्वीकार करो माँ, मझधार में, मैं अटकी..

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ - माँ संतोषी भजन

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ, मत पूछो कहाँ-कहाँ, है सँतोषी माँ !

जो विधि कर्म में लिखे विधाता: भजन

जो विधि कर्म में लिखे विधाता, मिटाने वाला कोई नहीं, वक्त पड़े पर गजभर कपड़ा..

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको: भजन

लागे वृन्दावन नीको, आली मोहे लागे वृन्दावन नीको । लागे वृन्दावन नीको..

मेरे सरकार का, दीदार बड़ा प्यारा है: भजन

मेरे सरकार का, दीदार बड़ा प्यारा है । कृष्ण मेरा प्यारा..

🔝