भजन: राम पे जब जब विपदा आई.. (Ram Pe Jab Jab Vipada Aai)


भजन: राम पे जब जब विपदा आई..

राम पे जब जब विपदा आई,
कौन बना रखवाला,

राम पे जब जब विपदा आई,
कौन बना रखवाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

मात सिया को राम प्रभु से,
कौन मिलाने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

जितने भी काम थे मुश्किल,
बजरंग के हिस्से आये,
हनुमत के सिवा कोई भी,
सागर को लांघ न पाए,
रावण की सोने की लंका,
रावण की सोने की लंका,
कौन जलने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला

राम पे जब जब विपदा आई,
कौन बना रखवाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

शक्ति लागि लक्ष्मण को,
और मूर्छा भारी छायी
धरती पे देख लखन को,
और रोने लगे रघुराई,
संजीवन लाकर के लखन को,
संजीवन लाकर के लखन को,
कौन जगाने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला

राम पे जब जब विपदा आई,
कौन बना रखवाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

जो हनुमान न होते,
ना होती राम कहानी,
श्री राम प्रभु की महिमा,
घर घर न जाती बखानी,
कहे पवन भक्ति का डंका,
कहे पवन भक्ति का डंका,
कौन जगाने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला

राम पे जब जब विपदा आई,
कौन बना रखवाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

विभीषण ताना मारे,
बजरंगी सह ना पाए,
भक्ति किसको कहते है,
यह सबको ज्ञान कराये,
भरी सभा में चिर के सिना,
भरी सभा में चिर के सिना,
कौन जगाने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला

राम पे जब जब विपदा आई,
कौन बना रखवाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

मात सिया को राम प्रभु से,
कौन मिलाने वाला,
मेरा बजरंग बाला,
मेरा बजरंग बाला ।

Ram Pe Jab Jab Vipada Aai in English

Ram Pe Jab Jab Vipada Aai, Kaun Bana Rakhwala, Mera Bajrang Bala, Mera Bajrang Bala
यह भी जानें

BhajanHanuman BhajanBalaji BhajanBajrangbali BhajanHanuman Janmotsav BhajanMangalwar BhajanTuesday Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

देख लिया संसार हमने देख लिया

देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया ।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी।

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। ज्योत जगा के, सर को झुका के...

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल: भजन

श्री गोवर्धन वासी सांवरे लाल, तुम बिन रह्यो न जाय हो ॥ बृजराज लडेतोलाडिले ॥

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन

गोबिंद चले चरावन गैया । दिनो है रिषि आजु भलौ दिन, कह्यौ है जसोदा मैया ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी, अँखियाँ प्यासी रे । मन मंदिर की जोत जगा दो..

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन

तुम करुणा के सागर हो प्रभु, मेरी गागर भर दो थके पाँव है...

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी, कहाँ से आयो कुंवर कन्हैया, कहाँ से आई राधा गोरी..

🔝