वो कौन है जिसने हम को दी पहचान है (Wo Kon Hai Jisne Humko Di Pahachan Hai)


वो कौन है जिसने हम को दी पहचान है

वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है,
जिसकी रहमत से होता,
हर एक काम है,
जिसकी रहमत से होता,
हर एक काम है,
मेरा श्याम है,
मेरा श्याम है ।
वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है ॥

हर चाहत पूरी कर दी,
दिल की आवाज को सुनकर,
फूलों की सेज सजा दी,
राहों से कांटे चुनकर,
ये किसकी कृपा से,
हर सुख हर आराम है,
मेरा श्याम है, मेरा श्याम है ।

वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है ॥

मुझे याद है बीते दिन वो,
जब खुशियां थी ओझल सी,
हर दिन था दुःख से मिलना,
हर घड़ियाँ थी मुश्किल सी,
फिर किसने आकर,
उनको दिया विराम है,
मेरा श्याम है, मेरा श्याम है ।

वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है ॥

कंकर को मोती कर दे,
पत्थर में फूल खिलाए,
इस जग में एक ही है जो,
मिटटी में नाव चलाए,
वो कौन है जो गिरते को,
लेता थाम है,
मेरा श्याम है, मेरा श्याम है ।

वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है ॥

हमने तो वो भी पाया,
जो ना था हमारे हक़ में,
‘सोनू’ का नाम लिखा है,
तुमने ही आज फलक में,
ये किसकी बदौलत,
चेहरे पर मुस्कान है,
मेरा श्याम है, मेरा श्याम है ।

वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है ॥

वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है,
जिसकी रहमत से होता,
हर एक काम है,
जिसकी रहमत से होता,
हर एक काम है,
मेरा श्याम है,
मेरा श्याम है ।
वो कौन है जिसने,
हम को दी पहचान है,
कोई और नहीं वो,
खाटू वाला श्याम है ॥

संगीतकार: रश्मि शर्मा

Wo Kon Hai Jisne Humko Di Pahachan Hai in English

Wo Kaun Hai Jisne, Ham Ko Di Pahachan Hai, Koi Aur Nahin Wo
यह भी जानें

BhajanShri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanLaddu Gopal BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanShri Shayam BhajanFagan Mela BhajanReshmi Sharma Bhajan


अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की - माँ संतोषी भजन

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की। जय जय संतोषी माता जय जय माँ॥

मन की मुरादें, पूरी कर माँ: भजन

मन की मुरादें, पूरी कर माँ, दर्शन करने को मैं तो आउंगी। तेरा दीदार होगा, मेरा उधार होगा..

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं - माँ संतोषी भजन

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं, स्वीकार करो माँ, मझधार में, मैं अटकी..

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ - माँ संतोषी भजन

यहाँ वहाँ जहाँ तहाँ, मत पूछो कहाँ-कहाँ, है सँतोषी माँ !

जो विधि कर्म में लिखे विधाता: भजन

जो विधि कर्म में लिखे विधाता, मिटाने वाला कोई नहीं, वक्त पड़े पर गजभर कपड़ा..

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको: भजन

लागे वृन्दावन नीको, आली मोहे लागे वृन्दावन नीको । लागे वृन्दावन नीको..

मेरे सरकार का, दीदार बड़ा प्यारा है: भजन

मेरे सरकार का, दीदार बड़ा प्यारा है । कृष्ण मेरा प्यारा..

🔝