सिंघाड़े का हलवा बनाने की विधि (Singhade Halwah Recipe)

सिंघाड़े का हलवा बनाने की विधि

आवश्यक सामग्री:
सिंघाड़े का आटा: 250 ग्राम
गुड़ या चीनी: 250 ग्राम
घी: 100 ग्राम

बनाने की विधि:
सबसे पहले एक कढ़ाई में आधा कप पानी में गुड़ डालकर मध्यम आंच पर पिघला लेते है। अब एक अन्य बर्तन में सिंघाड़े के आटे को छलनी की सहायता से छान लेते हैं। अब इस छाने हुए आटे को थोड़ा-थोड़ा पानी डालकर गुठलिया खत्म होने तक अच्छी तरह घोल* तैयार कर लेते हैं। अब इस घोल को पिघले हुए गुड़ में डालकर लगातार करछी से चलाते हैं। अब इसमें दो चम्मच घी डाल देते हैं और आंच को भी धीमा कर लेते हैं।

जब यह घोल गाढ़ा होने लगे तब इसमें बचे हुए घी को डाल कर लगातार तब तक चलाते हैं, जब तक यह गाड़ा होकर कढ़ाई की किनारों को छोड़ने ना लगे। और इसमें डाला गया घी हलवा के ऊपर दिखने लगे तब इसको घी लगी थाली में निकाल कर अच्छी तरह फैला लेते हैं। और इसे 10 से 15 मिनट के लिए ठंडा होने के लिए रख देते हैं। जब यह ठंडा हो जाए तब एक चाकू की सहायता से इसके चौकोर या अपनी इच्छा अनुसार कतलियां में काट लेते हैं। इस प्रकार से सिंघाड़े का हलवा बन कर तैयार हो जाता है।

* जब हम सिंघाड़े के आटे का घोल तैयार करते हैं तब इसमें आटे की मात्रा का 3 गुना पानी डालकर घोल तैयार करते हैं।
** कतलियों को अपने स्वादानुसार काजू अथवा बादाम 1-1 चम्मच से सजा लेते हैं।

धार्मिक महत्ता:
उत्तर भारत मे सिंघाड़े के हलवे का प्रयोग शिवरात्रि व्रत मे किया जाता है।

संबंधित अन्य नाम:
सिंघाड़े के आटे का हलवा

Singhade Halwah Recipe in English

The water chestnut pudding is prepared. Garnish the Katlis with 1-1 teaspoonfuls of cashew or almonds according to their taste.
यह भी जानें

Bhog-prasad Singhada Bhog-prasadAtta Bhog-prasadSinghada Atta Bhog-prasadShivratri Bhog-prasadHalwa Bhog-prasadSinghade Halwah Bhog-prasad

अगर आपको यह bhog-prasad पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस bhog-prasad को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू / जैन समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने मे सहायक पंचामृत बनाने की सरल विधि..

पारंपरिक मोदक बनाने की विधि!

इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान भोग लगाने में किया जाता है, आइए जानते हैं पारंपरिक तरीके से मोदक बनाने की सरल विधि...

वृंदावन पंचामृत बनाने की विधि

हिंदू / जैन समाज में पूजा के बाद पंचामृत प्रसाद के रूप में दिया जाता है। आइये जानते हैं! रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने मे सहायक पंचामृत बनाने की सरल विधि..

बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि

बेसन के लड्‍डू गजानन श्री गणेश को अति प्रिय हैं, अतः इनका प्रयोग गणेशोत्सव के दौरान खूब होता है, आइए जानते हैं इन्हें बनाने की सरल विधि...

साबूदाने की खीर बनाने की विधि

...इस प्रकार भोग के लिए आपकी साबुदाने की खीर बन कर तैयार हो गई।

सिंघाड़े का हलवा बनाने की विधि

सिंघाड़े का हलवा बन कर तैयार हो जाता है। कतलियों को अपने स्वादानुसार काजू अथवा बादाम 1-1 चम्मच से सजा लेते हैं।

चूरमा के लड्‍डू बनाने की विधि

इस प्रकार भोग के लिए चूरमा के लड्डू तैयार हो जाते हैं...

मंदिर

🔝