शारदीय नवरात्रि विशेष 2020 (Shardiya Navratri 2020 Specials)


शारदीय नवरात्रि विशेष 2020

शारदीय नवरात्रि वर्ष 2020 में 17 अक्टूबर से प्रारंभ हो रही है। नौ दिनों तक चलने वाले इस पर्व में व्रत, जप, पूजा, भंडारे, जागरण, डांडिया आदि में माँ के भक्त बड़े ही उत्साह से भाग लेते है। भारत में नवरात्रि के इस त्यौहार से प्रारंभ हो जाता है, एक के बाद एक त्यौहार का आना।

आइए जानें! ऊर्जा से भरे इस उत्सव के जुड़ी कुछ विशेष जानकारियाँ, आरतियाँ, भजन, मंत्र एवं रोचक कथाएँ त्वरित(quick) लिंक्स के द्वारा...

🦁 नवरात्रि कब, कैसे और क्यों?
🐅 शारदीय नवरात्रि - Shardiya Navratri
🐅 दुर्गा पूजा - Durga Puja

🙏 आरती:
जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
सुन मेरी देवी पर्वतवासनी
माँ दुर्गा, माँ काली

🕉 मंत्र:
दुर्गा पूजा पुष्पांजली
माँ दुर्गा देव्यापराध क्षमा प्रार्थना स्तोत्रं
महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् - अयि गिरिनन्दिनि
🔥 दैनिक हवन-यज्ञ विधि

चालीसा:
श्री दुर्गा चालीसा
श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा

🎶भजन:
नवरात्रि मे माता रानी के भजन
मन लेके आया, माता रानी के भवन में
तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये
चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है
मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की
बड़ा प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी
दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ
मेरी अखियों के सामने ही रहना, माँ जगदम्बे
माँ शारदे वंदना, हे शारदे माँ
बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए
आ माँ आ तुझे दिल ने पुकारा
सावन की बरसे बदरिया..

🛕 मंदिर:
दिल्ली मे प्रसिद्ध माता रानी के मंदिर
दिल्ली के प्रमुख कालीबाड़ी मंदिर
श्री चंद्रभागा शक्ति पीठ, सोमनाथ
माँ ब्रह्माणी मंदिर, इटावा
श्री महालक्ष्मी मंदिर, पुणे
श्री महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई
श्री मुंबा देवी मंदिर, मुंबई

✍️ ब्लॉग:
भारत में सात शीर्ष माँ दुर्गा मंदिर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, नवरात्रि कैसे मनाते हैं?

Shardiya Navratri 2020 Specials in English

Sharadiya Navratri is starting from October 17 in the year 2020. Let's know! Some special information, aartis, bhajans, mantras and interesting stories related to this special festival, through quick links ...
पूजन विधि एवं सामग्री

नवरात्री में घट स्थापना-मुहूर्त एवं पूजन विधि:
प्रतिवर्ष की भांति इसवर्ष भी हिंदुओ के प्रमुख त्योहारो में से एक शारदीय नवरात्रि आश्विन शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से नवमी तक मनाया जाएगा। इस वर्ष 2020 में शारदीय नवरात्रों का आरंभ 17 अक्टूबर (शनिवार) आश्चिन शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से होगा और 7 अक्टूबर तक व्रत उपासना का पर्व मनाया जाएगा।

दुर्गा पूजा का आरंभ घट स्थापना से शुरू हो जाता है अत: यह नवरात्र घट स्थापना प्रतिपदा तिथि को 17 अक्टूबर (शनिवार) के दिन की जाएगी।

इस बार नवरात्रि महासंयोग लेकर आ रही है। इस बार नवरात्रों में शुभ योग बन रहा है। नवरात्र में सर्वार्थसिद्धि और अमृत सिद्धि योग एक साथ बन रहे हैं। इस बार मां का आगमन हाथी और बिना किसी वाहन के हो रहा है।

देवी भागवत में नवरात्रि के प्रारंभ व समापन के वार अनुसार माताजी के आगमन प्रस्थान के वाहन इस प्रकार बताए गए हैं।

आगमन वाहन:
शशि सूर्य गजरुढा शनिभौमै तुरंगमे। गुरौशुक्रेच दोलायां बुधे नौकाप्रकीर्तिता ॥

देवीभाग्वत पुराण के इस श्लोक में बताया गया है कि माता का वाहन क्या होगा यह दिन के अनुसार तय होता है। अगर नवरात्र का आरंभ सोमवार या रविवार को हो रहा है तो माता का आगमन हाथी पर होगा। शनिवार और मंगलवार को माता का आगमन होने पर उनका वाहन घोड़ा होता है। गुरुवार और शुक्रवार को आगमन होने पर माता डोली में आती हैं जबकि बुधवार को नवरात्र का आरंभ होने पर माता का वहन नाव होता है।

प्रस्थान वाहन:
देवीभाग्वत पुराण में बताया गया है कि

शशि सूर्य दिने यदि सा विजया महिषागमने रुज शोककरा,
शनि भौमदिने यदि सा विजया
चरणायुध यानि करी विकला ।
बुधशुक्र दिने यदि सा विजया
गजवाहन गा शुभ वृष्टिकरा,
सुरराजगुरौ यदि सा विजया
नरवाहन गा शुभ सौख्य करा ॥

इस श्लोक से स्पष्ट है कि इस वर्ष माता पैदल जा रही हैं। इसकी वजह यह है कि विजयादशमी मंगलवार को है। मंगल और शनिवार के दिन विदाई होने पर माता किसी भी वाहन पर नहीं जाती हैं।

साधक भाई बहन जो ब्राह्मण द्वारा पूजन करवाने में असमर्थ है एवं जो सामर्थ्यवान होने पर भी समयाभाव के कारण पूजा नही कर पाते उनके लिये पंचोपचार विधि द्वारा सम्पूर्ण पूजन विधि बताई जा रही है आशा है आप सभी साधक इसका लाभ उठाकर माता के कृपा पात्र बनेंगे।

घट स्थापना एवं दुर्गा पूजन की सामग्री:
❀ जौ बोने के लिए मिट्टी का पात्र। यह वेदी कहलाती है।
❀ जौ बोने के लिए शुद्ध साफ़ की हुई मिटटी जिसमे कंकर आदि ना हो।
❀ पात्र में बोने के लिए जौ ( गेहूं भी ले सकते है )
❀ घट स्थापना के लिए मिट्टी का कलश ( सोने, चांदी या तांबे का कलश भी ले सकते है )
❀ कलश में भरने के लिए शुद्ध जल
❀ नर्मदा या गंगाजल या फिर अन्य साफ जल
❀ रोली, मौली
❀ इत्र, पूजा में काम आने वाली साबुत सुपारी, दूर्वा, कलश में रखने के लिए सिक्का ( किसी भी प्रकार का कुछ लोग चांदी या सोने का सिक्का भी रखते है )
❀ पंचरत्न ( हीरा , नीलम , पन्ना , माणक और मोती )
❀ पीपल , बरगद , जामुन , अशोक और आम के पत्ते ( सभी ना मिल पायें तो कोई भी दो प्रकार के पत्ते ले सकते है )
❀ कलश ढकने के लिए ढक्कन ( मिट्टी का या तांबे का )
❀ ढक्कन में रखने के लिए साबुत चावल
❀ नारियल, लाल कपडा, फूल माला
❀ फल तथा मिठाई, दीपक , धूप , अगरबत्ती

दुर्गा पूजन सामग्री:
पंचमेवा पंच​मिठाई रूई कलावा, रोली, सिंदूर, अक्षत, लाल वस्त्र, फूल, 5 सुपारी, लौंग, पान के पत्ते 5, घी, कलश, कलश हेतु आम का पल्लव, चौकी, समिधा, हवन कुण्ड, हवन सामग्री, कमल गट्टे, पंचामृत ( दूध, दही, घी, शहद, शर्करा ), फल, बताशे, मिठाईयां, पूजा में बैठने हेतु आसन, हल्दी की गांठ, अगरबत्ती, कुमकुम, इत्र, दीपक, आरती की थाली, कुशा, रक्त चंदन, श्रीखंड चंदन, जौ, ​तिल, माँ की प्रतिमा, आभूषण व श्रृंगार का सामान, फूल माला।

BlogsMaa Durga BlogsMata BlogsNavratri BlogsMaa Sherawali BlogsDurga Puja BlogsGupt Navratri BlogsShardiya Navratri Blogs

अन्य प्रसिद्ध शारदीय नवरात्रि विशेष 2020 वीडियो

शारदीय नवरात्रि 2020 - Dr. Pawan Sinha Guruji


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2021

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Monday, 8 February 2021 षटतिला एकादशी व्रत कथा

12 Month 13 Festivals in Odisha

Odisha is a land full of festivals, There is a saying that, BAARA MASE TERA PARBA ( 13 festivals in 12 months)

यदि परिवार सहयोग न करे, तो भजन कैसे करें?

यदि परिवार भजन में सहयोग न करे, तो किस प्रकार भजन करें ?

राम मंदिर अयोध्या के लिए दान/योगदान का प्रामाणिक तरीका

राम मंदिर के लिए कैसे सहयोग करें? कैसे दान करें? कहाँ दान दें? सभी ऑप्षन्स को जानें!

महा शिवरात्रि विशेष 2021

11 मार्च 2021 को संपूर्ण भारत मे महा शिवरात्रि का उत्सव बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाएगा। महा शिवरात्रि क्यों, कब, कहाँ और कैसे? | आरती: | चालीसा | मंत्र |नामावली | कथा | मंदिर | भजन

Importance of Sawan Somvar Vrat and its benefits?

Monday is considered special in the month of Sawan. The day of Monday is dedicated to Bhagwan Shiv, so the importance of Monday in the month of Sawan increases considerably.

🔝