Hanuman Chalisa

अष्ट सिद्धि और नौ निधियों के दाता का क्या अर्थ है? (What is the meaning of Ashta Siddhi Aur Nau Nidhi ke Data?)

अष्ट सिद्धि और नौ निधियों के दाता का क्या अर्थ है?

भगवान श्री राम के प्रिय भक्त प्रभु हनुमान जी को अष्ट सिद्धि और नौ निधि के दाता के रूप में जाना जाता है। हनुमान चालीसा की एक चौपाई भी है “अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता अस बर दीन जानकी माता”। अर्थात हनुमान जी की भक्ति से व्यक्ति के जीवन में आठ प्रकार की सिद्धियाँ और नौ प्रकार की निधियाँ प्राप्त होती हैं। इन चौपाइयों का प्रत्येक मनुष्य के जीवन में महत्वपूर्ण योगदान है।

आइए जानते हैं अष्ट सिद्धियाँ और नौ निधियाँ क्या हैं?
मां जानकी ने श्री राम भक्त हनुमान को आठ सिद्धियों और नौ निधियों का वरदान दिया था और कहा जाता है कि उन्हें संभालने की शक्ति केवल महाबली हनुमान के पास थी। संसार में सबसे मूल्यवान वस्तु नौ निधियाँ हैं, जिन्हें प्राप्त करने के बाद किसी भी प्रकार के धन और संपत्ति की आवश्यकता नहीं होती है। हनुमानजी की आठ प्रकार की सिद्धियां थीं। उसके प्रभाव में वह किसी भी व्यक्ति का रूप धारण कर सकते थे। मन की शक्ति से क्षण भर में जहाँ चाहे वहाँ पहुँच सकते थे।

आठ सिद्धियां क्या हैं?
❀ अनिमा : इस सिद्धि के बल पर हनुमानजी कभी भी अति सूक्ष्म रूप धारण कर सकते हैं।
❀ महिमा : इस सिद्धि के बल पर हनुमान ने कई बार विशाल रूप धारण किया है।
❀ गरिमा : इस सिद्धि की सहायता से हनुमानजी अपने आप को एक विशाल पर्वत के समान उठा सकते हैं।
❀ लघिमा : इस सिद्धि से हनुमानजी अपना वजन पूरी तरह से हल्का कर सकते हैं और पल भर में कहीं भी घूम सकते हैं.
❀ सिद्धि : इस सिद्धि की सहायता से हनुमानजी को कोई भी वस्तु तुरंत मिल जाती है। पशु-पक्षियों की भाषा समझ जाते हैं, आने वाला समय देख सकते हैं।
❀ प्राकाम्य: इस सिद्धि की सहायता से हनुमानजी धरती में गहरे तक जा सकते हैं, पाताल लोक में जा सकते हैं, आकाश में उड़ सकते हैं और जब तक चाहें तब तक पानी में भी जीवित रह सकते हैं।
❀ ईशित्व: इस सिद्धि की सहायता से हनुमानजी को दैवीय शक्तियां प्राप्त हुई हैं।
❀ वशित्व: इस सिद्धि के प्रभाव से हनुमानजी जितेंद्रिय हैं और मन को नियंत्रित करते हैं।

नौ निधि क्या हैं?
❀ पद्मनिधि: पद्मनिधि गुणों से संपन्न व्यक्ति सात्विक होता है और सोना-चांदी आदि इकट्ठा करके दान करता है।
❀ महापद्म निधि: महापा निधि द्वारा लक्षित व्यक्ति अपने एकत्रित धन आदि को धार्मिक लोगों को दान कर देता है।
❀ नील निधि: नील निधि से सुशोभित व्यक्ति सात्त्विक तेज से युक्त होता है। उनकी संपत्ति तीन पीढ़ियों तक चलती है।
❀ मुकुंद निधि : जो व्यक्ति मुकुंद निधि के निशाने पर होता है वह रजोगुण से संपन्न होता है, वह राज्य की वसूली में लगा रहता है.
❀ नंद निधि: नंद निधि वाला व्यक्ति रजस और तमस गुणों वाला होता है, वही परिवार का आधार होता है।
❀ मकर निधि: मकर राशि का धनी व्यक्ति शस्त्र संग्रहकर्ता होता है।
❀ कच्छप निधि: कच्छप निधि का लक्ष्य व्यक्ति तमस गुण का होता है, वह अपने धन का स्वयं उपभोग करता है।
❀ शंख निधि: शंख निधि एक पीढ़ी के लिए होती है।
❀ खारवा निधि : खारवा निधि वाले व्यक्ति के स्वभाव में मिश्रित फल देखने को मिलता है।

हनुमान चालीसा, वीर हनुमान को प्रसन्न करने के लिए सबसे सरल और सबसे शक्तिशाली स्तुति है। हनुमान चालीसा से जीवन की हर समस्या का समाधान हो सकता है। हनुमान चालीसा का पाठ करने से भक्तों के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। हनुमान चालीसा की कई चौपाइयों में हमारी समस्याओं का समाधान भी छिपा है।

हनुमान आरती:
हनुमान आरती
बालाजी आरती
श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन
त्रिमूर्तिधाम: श्री हनुमान जी की आरती

हनुमान चालीसा:
हनुमान चालीसा

मंत्र / नामावली:
संकट मोचन हनुमानाष्टक
श्रीहनुमत् पञ्चरत्नम्
श्री हनुमान स्तवन - श्रीहनुमन्नमस्कारः
श्री हनुमान अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली
हनुमान द्वादश नाम स्तोत्रम

हनुमान भजन:
हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन
बजरंग बाण
राम ना मिलेगे हनुमान के बिना
वीर हनुमाना अति बलवाना
छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना
बालाजी मने राम मिलन की आस
संकट के साथी को हनुमान कहते हैं
हनुमान भजन

हनुमान कथा:
श्री हनुमान! मंगलवार व्रत कथा
सुन्दरकाण्ड पाठ
श्री हनुमान गाथा

हनुमान मंदिर:
दिल्ली के प्रसिद्ध हनुमान बालाजी मंदिर
हनुमान बरी, नगला खुशहाली
श्री मकरध्वज हनुमान मंदिर, बेट द्वारिका
डुल्या मारुति मंदिर, पुणे
108 फुट संकट मोचन धाम, दिल्ली
बड़ा हनुमान मंदिर, ब्रिजघाट गढ़मुक्तेश्वर
श्री पंचमुखी हनुमान मंदिर, जयपुर
श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर, जयपुर
दर्शन मुखी श्री हनुमान मंदिर, शेरगढ़ किला धौलपुर
पनकी हनुमान मंदिर, कानपुर
रामचंडी हनुमान मंदिर, पुरी

भोग, प्रसाद बनाने की विधि:
चूरमा के लड्‍डू
साबूदाने की खीर

What is the meaning of Ashta Siddhi Aur Nau Nidhi ke Data? in English

Bhagwan Hanuman ji, a dear devotee of Bhagwan Shri Ram, is known as the giver of Ashta Siddhi and Nau Nidhi. There is also a chaupai of Hanuman Chalisa "अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता अस बर दीन जानकी माता". That is, by the devotion of Hanuman ji, eight types of siddhis and nine types of nidhi’s are obtained in the life of a person.
यह भी जानें

Blogs Hanuman Chalisa BlogsChaupai BlogsHanuman BlogsBalaji BlogsBajrangbali BlogsBudhwa Mangal BlogsBudhe Mangal BlogsShri Hanuman BlogsAshta Sidhi Nau Nidhi Ke Data Blogs

अगर आपको यह ब्लॉग पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस ब्लॉग को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आठ प्रहर क्या है?

हिंदू धर्म के अनुसार दिन और रात को मिलाकर 24 घंटे में आठ प्रहर होते हैं। औसतन एक प्रहर तीन घंटे या साढ़े सात घंटे का होता है, जिसमें दो मुहूर्त होते हैं। एक प्रहर 24 मिनट की एक घाट होती है। कुल आठ प्रहर, दिन के चार और रात के चार।

रुद्राभिषेक क्या है ?

अभिषेक शब्द का शाब्दिक अर्थ है – स्नान कराना। रुद्राभिषेक का अर्थ है भगवान रुद्र का अभिषेक अर्थात शिवलिंग पर रुद्र के मंत्रों के द्वारा अभिषेक करना।

प्रसिद्ध स्कूल प्रार्थना

भारतीय स्कूलों में विद्यार्थी सुवह-सुवह पहुँचकर सबसे पहिले प्रभु से प्रार्थना करते है, उसके पश्चात ही पढ़ाई से जुड़ा कोई कार्य प्रारंभ करते हैं। इसे साधारण बोल-चाल की भाषा में प्रातः वंदना भी कहा जाता है।

बाली जात्रा उत्सव

बाली जात्रा ओडिशा के सबसे बड़े व्यापार मेलों में से एक है और यह आठ दिनों तक चलता है। बाली जात्रा का अर्थ है बाली की यात्रा। यह कार्तिक के महीने में पूर्णिमा के दिन आयोजित किया जाता है..

भक्ति भारत हाई रैंकिंग 2022

bhaktibharat.com को ऑनलाइन रैंकिंग साइट similarweb.com में उच्च रैंक देने के लिए सभी दर्शकों और पाठकों का धन्यवाद।

कपूर जलाने के क्या फायदे हैं?

भारतीय रीति-रिवाजों में कपूर का एक विशेष स्थान है और पूजा के लिए प्रयोग किया जाता है। कपूर का उपयोग आरती और पूजा हवन के लिए भी किया जाता है। हिंदू धर्म में कपूर के इस्तेमाल से देवी-देवताओं को प्रसन्न करने की बात कही गई है।

ISKCON एकादशी कैलेंडर 2022

यह एकादशी तिथियाँ केवल वैष्णव सम्प्रदाय इस्कॉन के अनुयायियों के लिए मान्य है | Sunday, 4 December 2022 मोक्षदा एकादशी व्रत कथा - Mokshada Ekadasi Vrat Katha

Hanuman Chalisa
Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App