☀️मित्र सप्तमी - Mitra Saptami

Mitra Saptami Date: Wednesday, 30 November 2022
मित्र सप्तमी के दिन भगवान श्रीहरि के अवतार सूर्य देव की उपसना की जाती है। मित्र, सूर्य देव के कई नामों में से एक है।

मित्र सप्तमी के दिन भगवान श्रीहरि के अवतार सूर्य देव की उपसना की जाती है। मित्र, सूर्य देव के कई नामों में से एक है। तथा भानु सप्तमी एवं रथ सप्तमी की ही तहत अन्य हिंदू माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी भगवान सूर्य को समर्पित मानी जाती है। अतः मार्गशीर्ष माह की शुक्ला सप्तमी को मित्र सप्तमी मनाई जाती है।

मित्र सप्तमी के दिन पवित्र नदी में स्नान करते हुए भगवान सूर्य को जल समर्पित करते हुए आराधना करने की विशेष महत्ता है। सृष्टि में सकारात्मकता के देव सूर्यदेव को प्रत्यक्ष देवता माना जाता है। मित्र सप्तमी के दिन भगवान सूर्य की आराधना करने से सभी सुख, नेत्र ज्योति एवं चर्म रोंगों से मुक्ति मिलती है।

* अर्घ्यदान: भगवान सूर्य के सामने मुँह करते हुए, नमस्कार मुद्रा में, मुड़े हुए हाथ से, छोटे कलश की सहयता से धीरे-धीरे जल चढ़ाते हैं।

Mitra Saptami in English

The incarnation of Lord Shri Hari Suryadev, is worshipped on Mitra Saptami. Mitra is one of the many names of the Bhagwan Surya.

संबंधित जानकारियाँ

भविष्य के त्यौहार
19 December 20238 December 202427 November 20254 November 2026
आवृत्ति
वार्षिक
समय
1 दिन
सुरुआत तिथि
मार्गशीर्ष शुक्ला सप्तमी
समाप्ति तिथि
मार्गशीर्ष शुक्ला सप्तमी
महीना
नवंबर / दिसंबर
कारण
सूर्यदेव की पूजा।
उत्सव विधि
भगवान सूर्य की आराधना, नदी में स्नान, दान, भजन, कीर्तन।
महत्वपूर्ण जगह
नदी घाट, नदी के किनारे।
पिछले त्यौहार
10 December 2021
अगर आपको यह त्यौहार पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस त्यौहार को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

Download BhaktiBharat App