Hanuman ChalisaSawan 2022

श्री अन्नपूर्णा मंदिर - Shri Annapurna Mandir

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • अन्नपूर्णा चैरिटेबल हॉस्पिटल के नाम से प्रसिद्ध।
  • संचालित हाॅस्पिटल स्वास्थ्य जाँच तथा कैम्पों के लिए प्रसिद्ध है।
  • प्रति-दिन 150-200 व्यक्तियों को प्रसाद रूप में भोजन की व्यवस्था है।

श्री अन्नपूर्णा मंदिर का मुख्य उद्देश्य जन-साधारण मानव की निःस्वार्थ सेवा है, इसी लक्ष्य को ध्यान में रखते हुये यहाँ पर प्रति-दिन लगभग 150 से 200 व्यक्तियों को बिना किसी भेदभाव के भर पेट प्रसाद रूप में भोजन कराया जाता है। यह मंदिर भक्ति भारत द्वारा लिखा गया प्रथम माँ अन्नपूर्णा मंदिर है।

यहाँ गरीब कन्याओं की शादी, लड़की दिखाने के लिये कमरों की व्यवस्था और मानव कल्याण हेतु चिकित्सा कैम्प लगाये जाते हैं।

मंदिर द्वारा संचालित हाॅस्पिटल आम जनता के लाभ हेतु समय-समय पर आँख परीक्षण व ऑपरेशन, हृदय जाँच, मोटापे की जाँच, हड्डियों में कैल्शियम जाँच, दन्त जाँच, शुगर जाँच, रक्तदान, नाक-कान-गला जाँच, फिजियोथिरेेपी कैम्प, काया रोग, जनरल ऑपरेशन तथा मूक बधिरों की स्वास्थ्य जाँच आदि कैम्पों को लगाया जाता है।

अन्नपूर्णा चैरिटेबल हाॅस्पिटल के सहयोग हेतु लगभग 101 गुप्तदान पात्र मेरठ के प्रतिष्ठित-प्रतिष्ठानों पर तथा मेरठ से बाहर दिल्ली, मुम्बई, गुवाहाटी, कोलकाता, गाजियाबाद एवं देहरादून आदि स्थानों पर रखे हैं, आप उन दानपात्र में भी धन डालकर पुण्य अर्जित कर सकते हैं। तथा इस पुण्य कार्य के अंतरगत, जो अपने यहाँ दानपात्र रखने के इच्छुक हैं, वह दानपात्र हाॅस्पिटल से प्राप्त कर सकते हैं। मंदिर को सीधे दान करने के लिए बैंक तथा अकाउंट के बारे में जानकारी नीचे दी गई है...

State Bank of Patiala A/C No-65158644238
FIC Code STBP- 0000288
* दान को आयकर अधिनियम के 80G के तहत छूट दी गई है।

मंदिर का इतिहास:
मेरठ की क्रांतिकारी धरा पर 1988 मे ब्रह्मलीन परम पूज्य स्वामी रामचंद्र केशव डोंगरे जी महाराज श्री की भागवत कथा से श्री राम कृष्ण सेवा ट्रस्ट अन्नपूर्णा मन्दिर अन्नक्षेत्र की स्थापना का बीजारोपण एसी परीक्षा की घड़ी के साथ हुआ जैसे भगवान श्री कृष्ण के जन्म पर घनघोर घटा, आंधी, तूफान, मूसलाधार बारिश का वातावरण था।

समय - Timings

दर्शन समय
5:30 AM - 12:00 PM, 4:00 - 10:00 PM
5:30 AM: ग्रीष्म ऋतु: सुवह आरती
6:30 AM: शरद ऋतु: संध्या आरती
6:30 PM: ग्रीष्म ऋतु: सुवह आरती
7:30 PM: शरद ऋतु: संध्या आरती

Shri Annapurna Mandir in English

The main aim of the Shri Annapurna Mandir is the unselfish service of the common man, To keeping in mind this goal, around 150 to 200 persons are served food in the form of Prasad throughout the day without any discrimination.

फोटो प्रदर्शनी - Photo Gallery

Photo in Full View
श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

श्री अन्नपूर्णा मंदिर

जानकारियां - Information

धाम
L-R: Shri GaneshMaa AnnapurnaShri ShivjiShri Radha KrishnaLaddu GopalMaa Tulsi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Water Coolar, Power Backup, Office, Shoe Store, Washroom, Sitting Benches
धर्मार्थ सेवाएं
अन्नपूर्णा चैरिटेबल हॉस्पिटल
संस्थापक
पूज्य स्वामी रामचंद्र केशव डोंगरे जी
स्थापना
1988
देख-रेख संस्था
अन्नपूर्णा चैरिटेबल हॉस्पिटल समिति
समर्पित
माँ अन्नपूर्णा
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)
नि:शुल्क प्रवेश
हाँ जी

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
West End Road, Sadar Bazaar, Near Balaji Mandir Meerut Uttar Pradesh
सड़क/मार्ग 🚗
West End Marg
रेलवे 🚉
Meerut
नदी ⛵
Ganga
वेबसाइट 📡
सोशल मीडिया
निर्देशांक 🌐
28.994926°N, 77.694721°E
श्री अन्नपूर्णा मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/annapurna-mandir-meerut

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

अगर आपको यह मंदिर पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस मंदिर को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ..

श्री सत्यनारायण जी आरती

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा। सत्यनारायण स्वामी, जन पातक हरणा॥

ॐ जय जगदीश हरे आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App