मौसी माँ मंदिर - Mausi Maa Temple

मौसी माँ मंदिर, माँ अर्धासिनी को समर्पित है, इसलिए इसे अर्धासिनी मंदिर भी कहा जाता है। भक्तों का मानना ​​था कि देवी अर्धासिनी, कपालमोचन शिव के साथ मिलकर पुरी के संरक्षक के रूप में कार्य करतीं हैं। मौसी माँ मंदिर, जगन्नाथ मंदिर से गुंडिचा मंदिर तक ग्रैंड रोड के दाईं ओर स्थित है। मौसी माँ का ओड़िया/हिंदी भाषा में मतलब माँ की बहन या माँ के समान होता है।

श्री जगन्नाथ जी रथ यात्रा के समय श्री जगन्नाथ मंदिर, मौसी माँ मंदिर, गुण्डिचा मंदिर और ग्रांड रोड श्रद्धा के मुख्य आकर्षण होते हैं।

मुख्य आकर्षण - Key Highlights

  • जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान महत्वपूर्ण गंतव्य।
  • माँ अर्धासिनी को समर्पित।
  • देवी अर्धासिनी पुरी की संरक्षक के रूप में कार्य करतीं हैं।

समय - Timings

दर्शन समय
6:30 AM - 10:00 PM
त्यौहार
Mahasaptami, Mahanavami, Makar Sankranti, Vasant Panchami, Shivaratri, Holi, Ram Navami, Akshay Trutiya, Rukmani Vivah, Jagannath Rathyatra, Vaman Jayanti, Guru Purnima, Raksha Bandhan, Randhan Chatth, Janmashtami, Ganeshotsav|Ganesh Chaturthi, Navratri, Vijya Dashmi, valmiki jayanti|Sharad Poonam, Diwali, Tulsi Vivah | Read Also: सावन शिवरात्रि

Mausi Maa Temple in English

Mausi Maa Temple is dedicated to Maa Ardhasini, therefore also called as Ardhasini Temple. Devotees believed that Devi Ardhasini together with Kapalamochana Shiva, act as the guardians of Puri.

जानकारियां - Information

मंत्र
॥ जय जगन्नाथ ॥
धाम
YagyashalaMaa Tulasi
बुनियादी सेवाएं
Prasad, CCTV Security, Sitting Benches
देख-रेख संस्था
श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन, पुरी
समर्पित
माँ अर्धासिनी
फोटोग्राफी
🚫 नहीं (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

वीडियो - Video Gallery

कैसे पहुचें - How To Reach

पता 📧
Grand Road Puri Odisha
सड़क/मार्ग 🚗
Jagannath Sadak / Puri-Konark Marine Drive >> Grand Road
रेलवे 🚉
Puri Railway Station
हवा मार्ग ✈
Biju Patnaik International Airport, Bhubaneswar
नदी ⛵
Dhaudia
वेबसाइट 📡
निर्देशांक 🌐
19.811586°N, 85.827514°E
मौसी माँ मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/mausima-temple

अगला मंदिर दर्शन - Next Darshan

अपने विचार यहाँ लिखें - Write Your Comment

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: रघुवर श्री रामचन्द्र जी

आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥

आरती: श्री रामायण जी

आरती श्री रामायण जी की। कीरति कलित ललित सिय पी की॥ गावत ब्रहमादिक मुनि नारद...

आरती: श्री रामचन्द्र जी

आरती कीजै रामचन्द्र जी की। हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

🔝