करवा चौथ | अहोई अष्टमी | आज का भजन!

श्री सिद्धिविनायक मंदिर - Shri Sidhivinayak Mandir


updated: Feb 18, 2017 21:54 PM 🔖 बारें में | 🕖 समय सारिणी | 📷 फोटो प्रदर्शनी | ✈ कैसे पहुचें | 🌍 मानचित्र | 🖋 कॉमेंट्स


श्री सिद्धिविनायक मंदिर  (Shri Sidhivinayak Mandir) - Sector 12 Dwarka, New Delhi - 110075 Delhi New Delhi

श्री सिद्धिविनायक मंदिर (Shri Sidhivinayak Mandir) shows the love of Shri Devki Nandan Kalra towards his mother, and initiate a huge Shri Ganesh murti (statue) in 2012. Now temple is located at prime location, on road of Dwarka sector 12 near metro station.

यह भी जानें

समय सारिणी

आरती
Summer:7:00 AM, 6:30 PM
Winter: 7:00 AM, 6:00 PM

फोटो प्रदर्शनी

Photo in Full View
Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

Shri Sidhivinayak Mandir

जानकारियां

धाम
Left-Right: Shri Hanuman Ji MaharajLord Shri GaneshShivling
बुनियादी सेवाएं
Prasad, Office, Washrooms, Parking
संस्थापक
Shri Devki Nandan Kalra Ji
स्थापना
23 September 2012
समर्पित
Lord Ganesh
फोटोग्राफी
हाँ जी (मंदिर के अंदर तस्वीर लेना अ-नैतिक है जबकि कोई पूजा करने में व्यस्त है! कृपया मंदिर के नियमों और सुझावों का भी पालन करें।)

कैसे पहुचें

पता 📧
Sector 12 Dwarka, New Delhi - 110075 Delhi New Delhi
सड़क/मार्ग 🚗
Road No 201 >> Palam Najafgarh Road
निर्देशांक 🌐
28.594139°N, 77.038812°E
श्री सिद्धिविनायक मंदिर गूगल के मानचित्र पर
http://www.bhaktibharat.com/mandir/sidhivinayak-temple-dwarka

अगला मंदिर दर्शन

अपने विचार यहाँ लिखें

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

आरती: तुलसी महारानी नमो-नमो!

तुलसी महारानी नमो-नमो, हरि की पटरानी नमो-नमो। धन तुलसी पूरण तप कीनो, शालिग्राम बनी पटरानी।

आरती: जय जय तुलसी माता

जय जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब जग की सुख दाता, सबकी वर माता॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।...

top