close this ads

भजमन राम चरण सुखदाई।


भजमन राम चरण सुखदाई, भजमन राम चरण सुखदाई॥

जिहि चरननसे निकसी सुरसरि संकर जटा समाई।
जटासंकरी नाम परयो है, त्रिभुवन तारन आई॥
॥ भजमन राम चरण सुखदाई...॥

जिन चरननकी चरनपादुका भरत रह्यो लव लाई।
सोइ चरन केवट धोइ लीने तब हरि नाव चलाई॥
॥ भजमन राम चरण सुखदाई...॥

सोइ चरन संत जन सेवत सदा रहत सुखदाई।
सोइ चरन गौतमऋषि-नारी परसि परमपद पाई॥
॥ भजमन राम चरण सुखदाई...॥

दंडकबन प्रभु पावन कीन्हो ऋषियन त्रास मिटाई।
सोई प्रभु त्रिलोकके स्वामी कनक मृगा सँग धाई॥
॥ भजमन राम चरण सुखदाई...॥

कपि सुग्रीव बंधु भय-ब्याकुल तिन जय छत्र फिराई।
रिपु को अनुज बिभीषन निसिचर परसत लंका पाई॥
॥ भजमन राम चरण सुखदाई...॥

सिव सनकादिक अरु ब्रह्मादिक सेष सहस मुख गाई।
तुलसीदास मारुत-सुतकी प्रभु निज मुख करत बड़ाई॥
॥ भजमन राम चरण सुखदाई...॥

भजमन राम चरण सुखदाई, भजमन राम चरण सुखदाई॥

BhajanShri Ram BhajanCharan BhajanAnup Jalota Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी!

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी, जय गोपी जन बल्लभ, जय गिरधर हरी...

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी...

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेवा॥

बाल लीला: राधिका गोरी से बिरज की छोरी से...

राधिका गोरी से बिरज की छोरी से, मैया करादे मेरो ब्याह...

भजन: राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक

राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक, तीनों लोक में छाये रही है। भक्ति विवश एक प्रेम पुजारिन...

पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार।

पहिले पहिल हम कईनी, छठी मईया व्रत तोहार। करिहा क्षमा छठी मईया, भूल-चूक गलती हमार...

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे...

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे, लताओं में बृज की गुजारा करेंगे। कहीं तो मिलेंगे वो बांके बिहारी...

कबहुँ ना छूटी छठि मइया...

कबहुँ ना छूटी छठि मइया, हमनी से बरत तोहार, हमनी से बरत तोहार...

हो दीनानाथ - छठ पूजा गीत

सोना सट कुनिया, हो दीनानाथ हे घूमइछा संसार, आन दिन उगइ छा हो दीनानाथ आहे भोर भिनसार...

मारबो रे सुगवा - छठ पूजा गीत

ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मेड़राए। मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए।...

श्री गोवर्धन महाराज आरती!

श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ...

^
top