पौष बड़ा उत्सव | आज का भजन!

दर्शन देता जाइजो जी... (Darshan Deta Jaijo Ji Satguru Milata Jaiyo Ji)


दर्शन देता जाइजो जी,
सतगुरु मिलता जाइजो जी ।
म्हारे पिवरिया री बातां थोड़ी म्हने,
केता जाइजो जी ॥

सोने जेडी पीळी पड़ गई,
दुनिया बतावे रोग ।
रोग दोग म्हारे काई नी लागे,
गुरु मिलण रो जोग ॥

म्हारे भाभे म्हने बींद बतायो
पकड़ बताई बाँह ।
कांई कहो में कांई न समझू,
जिव भजन रे माय ॥

म्हारे देश रा लोग भला है,
पेहरे कंठी माला ।
म्हारा लागे वे भाई-भतीजा,
राणाजी रा साला ॥

सासरियो संसार छोडियो,
पीव ही लागे प्यारो ।
बाई मीरा ने गिरधर मिलिया,
चरण कमल लिपटायो ॥

यह भी जानें

BhajanGuru BhajanGurudev BhajanMarwadi BhajanRajasthani BhajanGuru BhajanGurudev BhajanMarwadi BhajanRajasthani BhajanGuru Purnima BhajanVyasa Purnima Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

भजन: श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी..

श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेवा॥

लेके गौरा जी को साथ भोले-भाले भोले नाथ!

लेके गौरा जी को साथ भोले-भाले भोले नाथ, काशी नगरी से आए हैं शिव शंकर। नंदी पे सवार होके...

भजन: तुम रूठे रहो मोहन

तुम रूठे रहो मोहन, हम तुम्हे मना लेंगे, आहों मे असर होगा, घर बैठे बुला लेंगे..

भजन: राम का सुमिरन किया करो!

राम का सुमिरन किया करो, प्रभु के सहारे जिया करो, जो दुनिया का मालिक है, नाम उसी का लिया करो..

भजन: सावन की बरसे बदरिया...

सावन की बरसे बदरिया, माँ की भीगी चुनरीया, भीगी चुनरिया माँ की...

भजन: मुकुन्द माधव गोविन्द बोल।

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल। केशव माधव हरि हरि बोल॥

भजन: तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार..

राम नाम सोहि जानिये, जो रमता सकल जहान, घट घट में जो रम रहा, उसको राम पहचान, तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार..

भजन: बिनती सुनिए नाथ हमारी...

बिनती सुनिए नाथ हमारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, हृदयष्वर हरी हृदय बिहारी, मोर मुकुट पीतांबर धारी..

भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया

बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया, सब की आँखों का तारा, मन ही मन क्यों जले राधिका, मोहन तो है सब का प्यारा...

top