भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

गुरु बिन घोर अँधेरा संतो!


गुरु बिन घोर अँधेरा संतो ,गुरु बिन घोर अँधेरा जी।
बिना दीपक मंदरियो सुनो , अब नहीं वास्तु का वेरा हो जी॥

जब तक कन्या रेवे कवारी, नहीं पुरुष का वेरा जी।
आठो पोहर आलस में खेले , अब खेले खेल घनेरा हो जी॥

मिर्गे री नाभि बसे किस्तूरी , नहीं मिर्गे को वेरा जी।
रनी वनी में फिरे भटकतो , अब सूंघे घास घणेरा हो जी॥

जब तक आग रेवे पत्थर में , नहीं पत्थर को वेरा जी।
चकमक छोटा लागे शबद री , अब फेके आग चोपेरा हो जी॥

रामानंद मिलिया गुरु पूरा ,दिया शबद तत्सारा जी।
कहत कबीर सुनो भाई संतो , अब मिट गया भरम अँधेरा हो जी॥

ये भी जानें

BhajanGuru BhajanGurudev BhajanMarwadi BhajanRajasthani Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

माँ सरस्वती! मुझको नवल उत्थान दो।

मुझको नवल उत्थान दो । माँ सरस्वती! वरदान दो ॥ माँ शारदे! हंसासिनी...

हे वीणा वादिनी सरस्वती, हंस वाहिनी..

हे वीणा वादिनी सरस्वती, हंस वाहिनी सरस्वती, विद्या दायिनी सरस्वती...

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं!

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं, किस मंजु ज्ञान से तू...

माँ! मुझे तेरी जरूरत है।

माँ ! मुझे तेरी जरूरत है। कब डालोगी, मेरे घर फेरा, तेरे बिन, जी नहीं लगता मेरा...

मेरा हाथ पकड़ ले रे, कान्हा..

मेरा हाथ पकड़ ले रे, कान्हा दिल मेरा घबराये, काले काले बादल...

जय जय शनि देव महाराज!

जय जय शनि देव महाराज, जन के संकट हरने वाले। तुम सूर्य पुत्र बलिधारी...

ज्योत से ज्योत जगाते चलो...

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, प्रेम की गंगा बहाते चलो, राह में आये जो दीन दुखी, सब को गले से लगते चलो...

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर...

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर दे रे झोली। तेरा होगा बड़ा एहसान...

भजन: तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये!

साँची ज्योतो वाली माता, तेरी जय जय कार। तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये, मैं आया मैं आया शेरा वालिये।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं।

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम।

close this ads
^
top