गुरु बिन घोर अँधेरा संतो: भजन (Guru Bina Ghor Andhera Re Santo)


गुरु बिन घोर अँधेरा संतो: भजन

गुरु बिन घोर अँधेरा संतो,
गुरु बिन घोर अँधेरा जी ।
बिना दीपक मंदरियो सुनो,
अब नहीं वास्तु का वेरा हो जी ॥

जब तक कन्या रेवे कवारी,
नहीं पुरुष का वेरा जी ।
आठो पोहर आलस में खेले,
अब खेले खेल घनेरा हो जी ॥

मिर्गे री नाभि बसे किस्तूरी,
नहीं मिर्गे को वेरा जी ।
रनी वनी में फिरे भटकतो,
अब सूंघे घास घणेरा हो जी ॥

जब तक आग रेवे पत्थर में,
नहीं पत्थर को वेरा जी ।
चकमक छोटा लागे शबद री,
अब फेके आग चोपेरा हो जी ॥

रामानंद मिलिया गुरु पूरा,
दिया शबद तत्सारा जी ।
कहत कबीर सुनो भाई संतो,
अब मिट गया भरम अँधेरा हो जी ॥

Guru Bina Ghor Andhera Re Santo in English

Guru Bin Ghor Andhera Santo, Guru Bin Ghor Andhera Ji । Bina Deepak Mandriyo Suno...
यह भी जानें

Bhajan Guru BhajanGurudev BhajanMarwadi BhajanRajasthani BhajanGuru Purnima BhajanAsha Vaishnav BhajanVyasa Purnima BhajanSant Ravidas BhajanRavidas Jayanti Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

श्यामा आन बसों वृन्दावन में: भजन

श्यामा आन बसों वृन्दावन में, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में । श्यामा रसते में बाग लगा जाना..

मै तो लाई हूँ दाने अनार के: भजन

मै तो लाई हूँ दाने अनार के, मेरी मैया के नौ दिन बहार के, मेरी मैया के नौ दिन बहार के ॥

जहाँ आसमां झुके जमीं पर: भजन

जहाँ आसमां झुके जमीं पर, सर झुकता संसार का, वही पे देखा हमने जलवा, माँ तेरे दरबार का ॥

द्वारे चलिए मैया के: भजन

द्वारे चलिए मैया के, द्वारे चलिए, ले आया सावन का महीना, लेने नज़ारे चलिए, द्वारे चलिए मईया के, द्वारे चलिए ॥

आए मैया के नवराते: भजन

आए मैया के नवराते, हो रहे घर घर में, हो रहे घर घर में जगराते, रिझाते मैया को, रिझाए मैया को झूमते गाते, गूंज रही भक्तो की,
गूंज रही भक्तो की जय जयकार, सजा है माता का, सजा है माता का दरबार ॥

मात जवाला कर उजियाला: भजन

मात जवाला कर उजियाला, तेरी ज्योत जगाऊँ, तेरे दरबार आके, तेरे दरबार आके, बनके तेरे चरणों का सेवक, मुँह माँगा वर पाऊँ,
तेरे दरबार आके, तेरे दरबार आके ॥

छठ पूजा: पटना के घाट पर - छठ गीत

पटना के घाट पर, हमहु अरगिया देब, हे छठी मइया...

मंदिर

Subscribe BhaktiBharat YouTube Channel
Download BhaktiBharat App