सीता नवमी | वट सावित्री व्रत | आज का भजन! | भक्ति भारत को फेसबुक पर फॉलो करें!

सारे तीर्थ धाम आपके चरणो में।


सारे तीर्थ धाम आपके चरणो में।
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणो में।

हृदय में माँ गौरी लक्ष्मी, कंठ शारदा माता है।
जो भी मुख से वचन कहें, वो वचन सिद्ध हो जाता है।
हैं गुरु ब्रह्मा, हैं गुरु विष्णु, हैं शंकर भगवान आपके चरणो में।
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणो में।

जनम के दाता मात पिता हैं, आप करम के दाता हैं।
आप मिलाते हैं ईश्वर से, आप ही भाग्य विधाता हैं।
दुखिया मन को रोगी तन को, मिलता है आराम आपके चरणो में।
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणो में।

निर्बल को बलवान बना दो, मूर्ख को गुणवान प्रभु।
देवकमल और वंसी को भी ज्ञान का दो वरदान गुरु।
हे महा दानी हे महा ज्ञानी, रहूँ मैं सुबहो-शाम आपके चरणो में।
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणो में।

कर्ता करे ना कर सके, पर गुरु किए सब होये।
सात द्वीप नौ खंड मे, मेरे गुरु से बड़ा ना कोए॥

सब धरती कागज़ करूँ, लेखनी सब वनराय।
समुद्र को स्याही, पर गुरु गुण लिख्यो ना जाए॥

सारे तीर्थ धाम आपके चरणो में।
हे गुरुदेव प्रणाम आपके चरणो में।

ये भी जानें

BhajanGuru BhajanGurudev BhajanPoonam Didi Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें शेयर जरूर करें: यहाँ शेयर करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर शेयर करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ शेयर करें

भजन: मेरी आखिओं के सामने ही रहना!

मेरी आखिओं के सामने ही रहना, माँ शेरों वाली जगदम्बे।

भजन: श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी...

श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी, तेरी लीला सबसे न्यारी न्यारी हरी हरी...

भजन: शीश गंग अर्धंग पार्वती

शीश गंग अर्धंग पार्वती सदा विराजत कैलासी। नंदी भृंगी नृत्य करत हैं, धरत ध्यान सुर सुखरासी॥

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है।

मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। तेरा शुक्रिया है, तेरा शुक्रिया है।

भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे।

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे। तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे।

भजन: गुरु बिन घोर अँधेरा संतो!

गुरु बिन घोर अँधेरा संतो, गुरु बिन घोर अँधेरा जी। बिना दीपक मंदरियो सुनो...

भजन : गुरु मेरी पूजा, गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म!

गुरु मेरी पूजा गुरु गोबिंद, गुरु मेरा पारब्रह्म, गुरु भगवंत, गुरु मेरा देव अलख अभेव...

भजन: हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन!

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन, सुन लो मेरी पुकार। पवनसुत विनती बारम्बार॥ अष्ट सिद्धि, नव निद्दी के दाता...

भजन: सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये!

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये, जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिये।...

कृपा मिलेगी श्री राम जी की..

किरपा मिलेगी श्री राम जी की, भक्ति करो, भक्ति करो, दया मिलिगी हनुमान जी की, राम जपो, राम जपो...

close this ads
^
top