close this ads

भजन: गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में।


गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में।
गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में।

रामजी की धुन में, श्री रामजी की धुन में।
मोदक भोग लगाओ, श्री रामजी की धुन में॥ गणपति आज पधारो॥

गणपति आज पधारो और रिद्धि सिद्धि लाओ।
सुख आनंद बरसाओ, श्री रामजी की धुन में॥ गणपति आज पधारो॥

हनुमंत आज पधारो, देवा पवन वेग से आओ।
बल बुद्धि दे जाओ, श्री रामजी की धुन में॥ गणपति आज पधारो॥

ब्रम्हाजी पधारो, माता ब्रम्हाणी को लाओ।
वेद ज्ञान समझाओ, श्री रामजी की धुन में॥ गणपति आज पधारो॥

नारद आज पधारो, छम छम, छम कर ताल बजाओ।
नारायण गुण गाओ, श्री रामजी की धुन में॥ गणपति आज पधारो॥

प्रेम मगन हो जाओ भक्तो, राम नाम गुण गाओ।
सुर मंदिर में आओ, श्री रामजी की धुन में॥ गणपति आज पधारो॥

गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में।
गणपति आज पधारो, श्री रामजी की धुन में।

Read Also
» गणेशोत्सव - Ganeshotsav
» दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री गणेश मंदिर।
» पारंपरिक मोदक बनाने की विधि! | मावा के मोदक बनाने की विधि | बेसन के लड्‍डू बनाने की विधि

BhajanShri Ganesh BhajanShri Ram BhajanGrah Pravesh Bhajan


अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

* यदि आपको इस पेज में सुधार की जरूरत महसूस हो रही है, तो कृपया अपने विचारों को हमें साझा जरूर करें: यहाँ साझा करें
** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद!

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। थे जनक पुर गये देखने के लिए...

राम सीता और लखन वन जा रहे!

श्री राम भजन वीडियो: राम सीता और लखन वन जा रहे, हाय अयोध्या में अँधेरे छा रहे...

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया..

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया, सबको बहुत बधाई है, बहुत बधाई है...

राम को देख कर के जनक नंदिनी

राम को देख कर के जनक नंदिनी, बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी। यज्ञ रक्षा में जा कर के मुनिवर के संग...

भजन: कभी राम बनके, कभी श्याम बनके!

कभी राम बनके कभी श्याम बनके, चले आना प्रभुजी चले आना...

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी..

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी। हरि नाम मिश्री, तू घोल-घोल पी ॥

घर आये राम लखन और सीता..

घर आये राम लखन और सीता, अयोध्या सुन्दर सज गई रे, सुन्दर सज गई रे अयोध्या...

बोलो राम! मन में राम बसा ले।

बोलो राम जय जय राम, जन्म सफल होगा बन्दे, मन में राम बसा ले...

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में!

श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में, देख लो मेरे मन के नागिनें में।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम।

जय रघुनन्दन, जय सिया राम। भजमन प्यारे, जय सिया राम।

^
top