कण-कण में है राम समाया, जान सके तो जान: भजन (Kan Kan Me Hai Ram Samaya Jan Sake Too Jan)


कण-कण में है राम समाया, जान सके तो जान: भजन

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

एक ईश्वर की खातिर,
लाखो मंदिर अच्छे-अच्छे,
कड़ी धुप में छाया खातिर,
बिलख रहे है बच्चे,
उसके अंदर बोल रहे प्रभु,
उसको तो पहचान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

पत्थर पे हो नाम हमारा,
करे दिखावा दान,
दरिद्र बन के जांच रहा है,
नारायण भगवान,
लेके कटोरा हाथ फैलाये,
उधर करो कुछ ध्यान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

फणी है ईश्वर,
अंदर आकर बैठा प्राण,
बाहर तू गंगाजल चढ़ावे,
अंदर मदिरा-पान,
रोज हो रहा तेरे हाथों,
ईश्वर का अपमान ॥

मंदिर-मंदिर जाकर प्राणी,
ढूंढ रहा भगवान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान,
कण-कण में है राम समाया,
जान सके तो जान ॥

Kan Kan Me Hai Ram Samaya Jan Sake Too Jan in English

Mandir-mandir Jakar Prani, Dhundh Raha Bhagwan, Kan-kan Mein Hai Ram Samaya, Jaan Sake to Jaan..
यह भी जानें

Bhajan Arya Samaj BhajanVed BhajanVedic BhajanHawan BhajanYagya BhajanMotivational BhajanMorning BhajanDainik BhajanDaily BhajanPrarthana BhajanVandana BhajanJain BhajanJainism BhajanSchool BhajanCollage BhajanGurukul BhajanInspirational BhajanShanti Dham BhajanDhiraj Kant Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!

इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites
* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें

शिव समा रहे मुझमें: भजन

शिव समा रहे मुझमें, और मैं शुन्य हो रहा हूँ, शिव समा रहे मुझमें..

मीठे रस से भरीयो री, राधा रानी लागे: भजन

मीठे रस से भरीयो री, राधा रानी लागे, महारानी लागे...

मैं भोला पर्वत का: शिव भजन

मैं भोला पर्वत का, रै तू राणी महला की, तेरी मेरी पार पड़ै ना, बेशक लिखी पहला की..

मेरा भोला है भंडारी: शिव भजन

मेरा भोला है भंडारी करता नंदी की सवारी, सबना दा रखवाला ओ शिवजी डमरूवाला जी..

लागी लगन शंकरा: शिव भजन

लागी मेरी प्रीत तेरे संग, मेरे शंकरा । लागी मेरी प्रीत तेरे संग, मेरे शंकरा...

गंगा किनारे चले जाणा: भजन

मिटदि है मूरत, जिन्दी ये वाणी है, गंगा किनारे चले जाणा, मुड़के फिर नहीं आणा..

बेद की औषद खाइ कछु न करै: मॉं गंगा माहात्म्य

माँ गंगा मैया का गरिमामय माहात्म्य॥ बेद की औषद खाइ कछु न करै बहु संजम री सुनि मोसें ।..

मंदिर

🔝